Home

बड़ा कौन

एक सूफी कहानी आप सबके साथ साझा कर रहा हूँ..

एक हाजी साहब थे जो एक कपड़े की बहुत बड़ी फैक्ट्री के मालिक थे.. कुछ दिनों बाद हाजी साहब को अल्लाह से लौ लग गयी.. उनके जीवन में ऐसा कुछ घटा कि उन्होंने अपनी फैक्ट्री और ... सारा कारोबार बंद कर दिया और सूफ़ी बन गए.. अब लोग उन्हें सूफ़ी साहब के नाम से जानने लगे.. अब सूफ़ी साहब सिर्फ अल्लाह की इबादत करते और शाम को बैठते और अपने मुरीदों को प्रवचन देते

एक दिन सूफ़ी साहब अपने मुरीदों को अपने व्यवसायी से सूफ़ी बनने की घटना सुनाई..

सूफी साहब ने कहा कि "एक दिन जब मैं अपनी फैक्ट्री में बैठा था उसी समय एक कुत्ता घायल अवस्था में वहां आता है.. वो किसी गाड़ी से कुचल गया था जिस से उसके तीन पैर टूट गए थे और वो सिर्फ एक पैर से घिसटते हुवे फैक्ट्री तक आया.. मुझे बहुत तरस आई और मैंने सोचा कि उस कुत्ते को किसी जानवरों के अस्पताल ले जाऊं. मगर फिर अस्पताल के लिए तैयार होते समय मेरे दिमाग़ में एक बात आई और मैं रुक गया.. मैंने सोचा कि अगर अल्लाह हर किसी को खाना देता है तो मुझे अब देखना है कि इस कुत्ते को अब कैसे खाना मिलेगा.. रात तक दूर बैठे उसे मैं देखता रहा और फिर अचानक मैंने देखा कि एक दूसरा कुत्ता फैक्टरी के दरवाज़े से नीचे घुसा और उसके मुह में रोटी का एक टुकड़ा था.. उस कुत्ते ने वो रोटी उस कुत्ते को दी और घायल कुत्ते ने किसी तरह उसे खाया.. फिर ये रोज़ का काम हो गया.. वो कुत्ता वहां आता और उसे रोटी देता या कोई और खाने की चीज़ और वो घायल कुत्ता ऐसे खा खा के चलने के क़ाबिल बन गया.. मुझे ये देखकर अल्लाह पर अब ऐसा भरोसा हो गया कि मैंने अपनी फैक्ट्री बंद की.. कारोबार पर ताला लगाया और अल्लाह की राह में निकल पड़ा.. और सूफ़ी बनने के बाद भी मेरे पास पैसे उसी तरह किसी न किसी बहाने आते रहे जैसे पहले आते थे.. ठीक वैसे जैसे उस कुत्ते को दूसरा कुत्ता रोटी खिलाता था रोज़"

सूफ़ी साहब की ये कहानी सुनकर उनका एक मुरीद ज़ोर ज़ोर से हंसने लगा.. सूफ़ी साहब ने जब वजह पूछी तो उसने कहा कि "आपने ये तो देख लिया सूफ़ी साहब कि अल्लाह ने उस कुत्ते का पेट भरा मगर आप ये न समझ सके कि उन दो कुत्तों में से बड़ा कुत्ता कौन है? जो खाना खा रहा है वो बड़ा है या जो कुत्ता उसे ला कर खिला रहा है वो बड़ा है? आप खाना खाने वाले घायल कुत्ते बन गए और अपना कारोबार बंद कर दिया.. जबकि पहले आप खाना खिलाने वाले कुत्ते थे क्यूंकि आपकी फैक्ट्री से हज़ारों लोगों को खाना मिलता था.. आप खुद बताईये कि पहले जो काम आप कर रहे थे वो अल्लाह की नज़र में बड़ा था या अब जो कर रहे हैं वो?"

सूफ़ी साहब की आँखें खुल गयी.. और उन्होंने दुसरे ही दिन अपना कारोबार फिर से शुरू कर दिया और सूफ़ी साहब फिर से व्यवसायी हाजी साहब बन गए

~सिद्धार्थ ताबिश

user image Arvind Swaroop Kushwaha - Monday at 9:37 AM -

interesting facts

1- The only solutions that are ever worth anything are the solutions that people find themselves.
- Satyajit Ray

2- Varanasi is the oldest, continuously inhabited city in the world today.

3- Sometimes life hits you in the head with a brick. Don’t lose faith.
- Steve Jobs

user image Arvind Swaroop Kushwaha - Saturday at 7:27 AM -

पागी अर्थात पग विशेषज्ञ

Anil Malikजी ओर Hukma Ram Jhorar जी की वाल से

नीचे फोटो में जो वृद्ध गड़रिया है वास्तव में ये सेना का सबसे बड़ा राजदार था पूरी पोस्ट पड़ो इनके चरणों मे आपका सर अपने आप झुक जाएगा, 2008 फील्ड मार्शल *मानेक शॉ* वेलिंगटन अस्पताल, ... तमिलनाडु में भर्ती थे। गम्भीर अस्वस्थता तथा अर्धमूर्छा में वे एक नाम अक्सर लेते थे - *'पागी-पागी!'* डाक्टरों ने एक दिन पूछ दिया “Sir, who is this Paagi?”

सैम साहब ने खुद ही brief किया...

1971 भारत युद्ध जीत चुका था, जनरल मानेक शॉ *ढाका* में थे। आदेश दिया कि पागी को बुलवाओ, dinner आज उसके साथ करूँगा! हेलिकॉप्टर भेजा गया। हेलिकॉप्टर पर सवार होते समय पागी की एक थैली नीचे रह गई, जिसे उठाने के लिए हेलिकॉप्टर वापस उतारा गया था। अधिकारियों ने नियमानुसार हेलिकॉप्टर में रखने से पहले थैली खोलकर देखी तो दंग रह गए, क्योंकि उसमें दो रोटी, प्याज तथा बेसन का एक पकवान (गाठिया) भर था। Dinner में एक रोटी सैम साहब ने खाई एवं दूसरी पागी ने।

*उत्तर गुजरात* के *सुईगाँव* अन्तर्राष्ट्रीय सीमा क्षेत्र की एक border post को *रणछोड़दास post* नाम दिया गया। यह पहली बार हुआ कि किसी आम आदमी के नाम पर सेना की कोई post हो, साथ ही उनकी मूर्ति भी लगाई गई हो।

पागी यानी *'मार्गदर्शक'*, वो व्यक्ति जो रेगिस्तान में रास्ता दिखाए। *'रणछोड़दास रबारी'* को जनरल सैम मानिक शॉ इसी नाम से बुलाते थे।

गुजरात के *बनासकांठा* ज़िले के पाकिस्तान सीमा से सटे गाँव *पेथापुर गथड़ों* के थे रणछोड़दास। भेड़, बकरी व ऊँट पालन का काम करते थे। जीवन में बदलाव तब आया जब उन्हें 58 वर्ष की आयु में बनासकांठा के पुलिस अधीक्षक *वनराज सिंह झाला* ने उन्हें पुलिस के मार्गदर्शक के रूप में रख लिया।

*हुनर इतना कि ऊँट के पैरों के निशान देखकर बता देते थे कि उस पर कितने आदमी सवार हैं। इन्सानी पैरों के निशान देखकर वज़न से लेकर उम्र तक का अन्दाज़ा लगा लेते थे। कितनी देर पहले का निशान है तथा कितनी दूर तक गया होगा सब एकदम सटीक आँकलन जैसे कोई कम्प्यूटर गणना कर रहा हो।*

1965 युद्ध की आरम्भ में पाकिस्तान सेना ने भारत के गुजरात में *कच्छ* सीमा स्थित *विधकोट* पर कब्ज़ा कर लिया, इस मुठभेड़ में लगभग 100 भारतीय सैनिक हत हो गये थे तथा भारतीय सेना की एक 10000 सैनिकोंवाली टुकड़ी को तीन दिन में *छारकोट* पहुँचना आवश्यक था। तब आवश्यकता पड़ी थी पहली बार रणछोडदास पागी की! रेगिस्तानी रास्तों पर अपनी पकड़ की बदौलत उन्होंने सेना को तय समय से 12 घण्टे पहले मञ्ज़िल तक पहुँचा दिया था। सेना के मार्गदर्शन के लिए उन्हें सैम साहब ने खुद चुना था तथा सेना में एक विशेष पद सृजित किया गया था *'पागी'* अर्थात पग अथवा पैरों का जानकार।

भारतीय सीमा में छिपे 1200 पाकिस्तानी सैनिकों की location तथा अनुमानित संख्या केवल उनके पदचिह्नों से पता कर भारतीय सेना को बता दी थी, तथा इतना काफ़ी था भारतीय सेना के लिए वो मोर्चा जीतने के लिए।

1971 युद्ध में सेना के मार्गदर्शन के साथ-साथ अग्रिम मोर्चे तक गोला-बारूद पहुँचवाना भी पागी के काम का हिस्सा था। *पाकिस्तान* के *पालीनगर* शहर पर जो भारतीय तिरंगा फहरा था उस जीत में पागी की भूमिका अहम थी। सैम साब ने स्वयं ₹300 का नक़द पुरस्कार अपनी जेब से दिया था।

पागी को तीन सम्मान भी मिले 65 व 71 युद्ध में उनके योगदान के लिए - *संग्राम पदक, पुलिस पदक* व *समर सेवा पदक*!

27 जून 2008 को सैम मानिक शॉ की मृत्यु हुई तथा 2009 में पागी ने भी सेना से 'स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति' ले ली। तब पागी की उम्र 108 वर्ष थी ! जी हाँ, आपने सही पढ़ा... 108 वर्ष की उम्र में 'स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति'! सन् 2013 में 112 वर्ष की आयु में पागी का निधन हो गया।

आज भी वे गुजराती लोकगीतों का हिस्सा हैं। उनकी शौर्य गाथाएँ युगों तक गाई जाएँगी। अपनी देशभक्ति, वीरता, बहादुरी, त्याग, समर्पण तथा शालीनता के कारण भारतीय सैन्य इतिहास में हमेशा के लिए अमर हो गए रणछोड़दास रबारी यानि हमारे 'पागी'।

चित्र उन्हीं का है।
साभार

user image Arvind Swaroop Kushwaha - Saturday at 6:48 AM -

interesting facts


1- The supreme accomplishment is to blur the line between work and play.
- Arnold J. Toynbee

2- Mahant Bharatdas Darshandas is the only voter from Banej in Gir forest and since 2004, a special polling booth is set up exclusively for him.

3- You must learn ... to be still in the midst of activity and to be vibrantly alive in repose.
- Indira Gandhi

user image Arvind Swaroop Kushwaha - Thursday at 10:00 AM -

अमरनाथ की तरह अमर स्तूप

ऑस्ट्रेलिया के वाइटर शहर में बनता है बर्फ का प्राकृतिक स्तूप। यह लगभग 50 फुट व्यास और करीब इतनी ही ऊंचाई का होता है।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - Thursday at 6:04 AM -

टाइटन titan

दोस्तो मैं आज आपको शनि ग्रह के चंद्रमा टाइटन के बारे में कुछ बताना चाहता हूँ।
टाइटन शनि ग्रह का उपग्रह होने के साथ साथ अपनी विशेषताएँ भी रखता है क्योंकि इसका आकार बुध ग्रह से बड़ा है -
टाइटन (Titan), सौर मंडल के शनि ... ग्रह का सबसे बड़ा चंद्रमा है। यह सौर मंडल के सभी चंद्रमाओं में वातावरण वाला एकमात्र ज्ञात चंद्रमा है, और पृथ्वी के अलावा एकमात्र ऐसा खगोलीय पिंड है जिसके सतही तरल स्थानों, जैसे नहरों, सागरों आदि के ठोस प्रमाण उपलब्ध हों।
शनि के इस उपग्रह और पृथ्वी के बीच और भी कई समानताएं हैं। टाइटन पर ज्वालामुखी जैसी क्रियाएं भी देखने में आती हैं और यहां खाइयां, नदियों के पाट और मुहाने भी दिखते हैं, किन्तु बड़े पहाड़ नहीं दिखे। बहुत कम क्रेटर-जैसे गोलाकार गड्ढे हैं और किसी प्रकार का जीवन नहीं है। वातावरण अत्यंत ठंडा है। तरल मीथेन यहां पानी का काम करती है। हवा में प्रतिध्वनि भी होती है, पृथ्वी की तरह तरंगें भी पैदा होती हैं।
यह चंद्रमा पृथ्वी की अपेक्षा बेहद ठंडा है और औसत तापमान शून्य से भी 180 डिग्री सेल्सियस नीचे है, जो साइबेरिया से भी तीन गुना ठंडा है। नदियों और झीलों में पानी के बदले तरल मीथेन गैस बहती है। ज्वालामुखी से बर्फीली अमोनिया निकलती है। वायुमंडल में 98.4 प्रतिशत नाइट्रोजन गैस है और शेष 1.6 प्रतिशत अन्य गैसें हैं जिसमें मीथेन का अनुपात सर्वाधिक है। वायुमंडल बहुत सघन और गुरुत्वाकर्षण बल कम है। टाइटन शनि का सबसे बड़ा उपग्रह है। 5.150 किलोमीटर व्यास वाला ये चंद्रमा पृथ्वी के चंद्रमा से 1.624 किलोमीटर बड़ा है। उसका घना वायुमंडल पृथ्वी के वायुमंडल के विपरीत एक ऐसा विलोम ग्रीनहाउस प्रभाव पैदा करता है कि सूर्य की किरणें अंतरिक्ष में परावर्तित हो जाती हैं। इस कारण उसे जितना ठंडा होना चाहिये, उससे कहीं अधिक ठंडा है।
अफसोस की बात ये है कि टाइटन तेज गति से शनि ग्रह से दूर होता जा रहा है ठीक उसी प्रकार जैसे चांद पृथ्वी से हर साल 1.5 इंच दूर हो जाता है।

राहुल सेन से साभार

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 29 Jun at 7:15 AM -

सद्ज्ञान क्या है

मानवता के कल्याणार्थ ज्ञान वह नहीं जो अज्ञान या कुज्ञान के मिश्रण में से छांटना पड़े। ज्ञान वह है जो छंटा-छंटाया हो। ज्ञान की इस कसौटी में गीता, रामायण, कुरान, मनुस्मृति, वेद, शरीयत आदि फिट नहीं बैठते। इनको पढ़कर कोई तो बेवकूफ बन जाएगा और ... कोई चालाक।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 27 Jun at 9:25 PM -

मजेदार वाक्य

कोरोना वाली ट्यून सबने सुनी है ना,
आओ इसमें शाब्दिक बदलाव करे,

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 27 Jun at 3:10 PM -

भारतीय संविधान

भारत में संविधान का पालन बल पूर्वक कराए जाने की कोई व्यवस्था नहीं है।
सरकार करे तो ठीक, न करे तो ठीक।
मैं बीसों साल से बोल रहा हूँ कि संविधान की महानता के भ्रम में मत रहो। कोई सरकार इसको नहीं मानेगी तो उसका क्या कर ... लोगे।

आखिरकार मोदी जी ने मेरी बात को सच साबित कर दिया। अब मैं आरएसएस वालों को भी समझाना चाहता हूँ कि संविधान बदलने का पागलपन करने से भी क्या फायदा जब चुनी हुई सरकारों को मानना ही न हो। हमारा संविधान वर्तमान संविधान से करीब एक तिहाई होना चाहिए ताकि अधिसंख्य मतदाताओं को पढ़वाया जा सके और फिर यदि कोई सरकार उसका उल्लंघन करे तो अगले चुनाव में उसको सबक सिखाया जा सके।

हमारा संविधान तो बहुत बड़ा है लेकिन अधिसंख्य मतदाताओं को पढ़ने में रुचि ही नहीं है। अधिकांश को लॉजिक भी नहीं पता बस सरकार चुनने का अधिकार है उनके पास। वास्तविक दशा ऐसी है कि देश का बुद्धिमान वर्ग अल्पसंख्यक होने के कारण मजबूर है और वोट का अधिकार रखते हुए भी मूकदर्शक जैसा है और जनप्रतिनिधि वो लोग चुन रहे हैं जिनको अपना घर संवारने तक की सलाहियत नहीं है। यही वजह है कि हम सरकार बदल बदल कर भी अपेक्षित परिणाम नहीं हासिल कर पा रहे हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 Jun at 5:29 AM -

अमीर गरीब

!!! अमीर आदमी अपना पैसा अमीर होने के लिए खर्च करता है।
जबकि
गरीब आदमी अपना पैसा अमीर दिखने के लिये खर्च करता है और फिर और अधिक गरीब हो जाता है!!!

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 Jun at 5:21 AM -

रोचक तथ्य

जॉर्जिया - एक छोटा सा देश है जो की यूरोप और एशिया को जोड़ता है।
जब तक हवाई यात्रा शुरू नहीं हुई थी तब तक जमीनी स्थानांतरण के हिसाब और भौगोलिक रूप से इस देश को एशिया का प्रवेश द्वार कहा जाता था.
मतलब ... अगर आपको एशिया से यूरोप में ,, या यूरोप से एशिया में प्रवेश करना हो तो आपको जॉर्जिया के रास्ते ही जाना पडेगा।
तो ज़ाहिर है की 18 वि शताब्दी तक अक्रान्ताओ का जॉर्जिया की भूमि से आना जाना लगातार बना रहा , और चूँकि ये एक बंजारों किसानो का देश था और यहाँ के लोग शांतिप्रिय थे। तो इस देश को अकल्पनीय तरीके से लूटा गया।
जॉर्जिया अपने सम्पूर्ण इतिहास में लगभग 25 बार पूरी तरह तबाह किया किया और हर बार दोबारा बस गया।
अपने इतने दर्दनाक अतीत के बाद आज भी जॉर्जिया की संस्कृति फल फूल रही है , तरक्की पर है।

पापुआ न्यू गिनी - ये देश हमारे हरयाणा से भी छोटा है , और यहाँ पर 300 से अधिक भाषाएँ हैं।

आयरलैंड - इस देश का राष्ट्रीय खेल " हर्लिंग " हैं , जो लगभग भारतीय हॉकी और हैंडबाल का मिश्रित रूप है। हर्लिंग खेल दुनिया का अब तक ज्ञात सबसे पुराना " ग्राउण्ड" खेल है।

फारस ( ईरान ) - दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक है। ईरानी लोगो ही ने सबसे पहले अग्नि की पूजा शुरू करि थी और आज भी ये लोग अग्नि को पूजतें हैं।
ईरानी लोगो की ख़ास बात ये है की ये लोग संस्कारो में तो फ़ारसी हैं ,लेकिन धार्मिक रूप से मुसलमान हैं। इसलिए मुसलमान होते हुए भी ये अपनी सांस्कृतिक पहचान से अलग नहीं हो पाए।

बांग्लादेश और गुयाना - इन दो देशो में भारत के बाद सबसे ज्यादा हिन्दू रहतें हैं

आप थोड़ा खोजेंगे तो दुनिया की तमाम सभ्यताओं और देशो के बारे में आपको अद्भुत जानकारी मिलेंगी।
ये थोड़े से उद्दाहरण आपको इसलिए दिए की हमें फासीवादी संगठनों के मिथ्या प्रचार का वैज्ञानिक रूप से विश्लेषण करना चाहिए।
फासिस्ट लोगो के प्रचार की सबसे ख़ास बात ये होती है की वो देश के इतिहास को और उसकी संस्कृति को सर्वश्रेष्ठ घोषित करके उसे वर्तमान में खतरें में बतातें हैं।
निश्चित रूप से हमारे देश की संस्कृति दुनिया की सबसे पुरानी और विशाल विलक्षण संस्कृतियों में से एक ,हैं लेकिन इसका मतलब ये नहीं की बाकी सब बर्बाद और बेकार हैं।
इसका मतलब ये भी नहीं की हम लोग बर्बाद हो जाएंगे या मिट जाएंगे।

इन लोगो की ख़ास बात होती है की ये आपको ऐसे ऐसे एक्साम्प्ल देंगे की आप यकीन करने लगोगे की वाकई हिन्दू सभ्यता खतरे में हैं।
ये आपको अफगानिस्तान , पकिस्तान के एक्साम्प्ल देकर बोलेंगे की देखो जैसे हिन्दू यहाँ विलुप्त हो गए वैसे ही अब बंगाल केरल से भी हो जायँगे।
ये आपको अखंड भारत का नक्शा दिखाकर कंफ्यूज करेंगे , ये आपको आंकड़े देंगे की 1947 में पकिस्तान में २३ प्रतिशत हिन्दू थे और अब बस ०.३ प्रतिशत रह गएँ हैं।
ये आपको जनसंख्या के ऐसे समीकरण बताएँगे की आपको लगेगा की बस अब 40 -50 साल में हिन्दू सभ्यता ख़तम हो जायेगी आदि आदि।
लेकिन आप तसल्ली से इन सब कुतर्कों का वैज्ञानिक रेशनल अध्यन करें तो आपको पता चलेगा की ये लोग ऐसी बातें 1947 से ही बोलते चलें आ रहें हैं। १९४७ में हिन्दू 30 करोड़ थे और आज मोटा मोटा 100 करोड़ से ज्यादा हैं।

25 बार पूरी तरह तबाह होने के बावजूद जॉर्जियन संस्कृति और जॉर्जिया आज भी फल फूल रहा है।
तमाम ब्रितानी जुल्मो गारत के बाद आज भी 60 लाख जनसंख्या का आयरलैंड तरक्की कर रहा है।
300 साल स्पेनिश राज के बावजूद फिलीपींस की संस्कृति अडिग है।

तो हम सौ करोड़ हिन्दू और दुनिया का 7वां सबसे बड़ा देश कैसे ख़तम हो जाएगा ? ये सोचने वाली बात है।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 Jun at 5:02 AM -

interesting facts


1- I believe much trouble would be saved if we opened our hearts more.
- Chief Joseph

2- India has overtaken European Union and is now the world’s biggest producer of milk.

3- A strong, positive self-image is the best possible preparation for success.
- Joyce Brothers

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 25 Jun at 9:32 AM -

राष्ट्र

सरकारें तो आती जाती रहेंगी लेकिन मूर्ख मतदाता लंबे समय तक रहेंगे।

और जब तक मूर्ख मतदाता इस देश में बहुसंख्यक रहेंगे तब तक अच्छी सरकारें मिलना आश्चर्यजनक सौभाग्य ही हुआ करेगा।

इसलिए जो लोग वास्तव में देश को प्यार करते हैं उनका यह दायित्व है कि-
खुद ... में और अन्य लोगों में विज्ञान सम्मत मानवता का विकास करें।
और जिनमें विज्ञानसम्मत मानवता का विकास करना संभव न दिखे उनको आबादी बढ़ाने से रोकें।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 24 Jun at 9:09 AM -

interesting facts

1- All birds find shelter during a rain. But eagle avoids rain by flying above the clouds.
- A P J Abdul Kalam

2- Before his term as the President of India, A P J Abdul Kalam worked as an Aerospace Engineer with DRDO and ISRO

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun at 8:08 AM -

खाद्य प्रसंस्करण

किसानों की फसल जब बाजार में आती है तब अधिकता के कारण उसके दाम गिर जाते हैं। कृषि उत्पादों के लिए कोल्ड स्टोर और गोदामों की भूमिका महत्वपूर्ण है। दुर्भाग्य से एक औसत किसान के लिए कोल्ड स्टोर का मालिक होना सपने की बात ... है। किन्तु मध्यम आर्थिक शक्ति वाला व्यक्ति प्रोसेस्ड फ़ूड स्टोर बनाकर अपनी उन्नति और गरीब किसान की सहायता एक साथ कर सकता है।
आलू तथा अन्य सब्जियों की चिप्स या बरी बनाकर रखने से किसानों को कृषि उत्पादों के बेहतर मूल्य मिलने के साथ साथ ऑफ़ सीजन में गरीब मजदूरों और किसानों को सस्ता खाद्यान्न भी मिल सकेगा।
इस कार्य में व्यवहारिक कठिनाई यह है कि जब सब्जियों की पैदावार अधिक होती है तब उनकी बरी और चिप्सों को शीघ्र सुखाने के लिए पर्याप्त धूप नहीं मिल पाती। इस समस्या का समाधान दूसरे तरीकों से किया जा सकता है। इसके लिए वाशिंग मशीन में कपडे सुखाने वाले सेंट्रीफ्यूगल ड्रायर अथवा नमक या मिल्क पावडर बनाने वाले वैक्यूम एवैपोरेटर अथवा दोनों का प्रयोग किया जाना चाहिए। ये मशीनें जुगाड़ से बहुत कम लागत में बनायीं जा सकती हैं। इन मशीनों की स्थापना हर किसान को करने की आवश्यकता नहीं है। ये मशीनें आटा चक्की, आयल एक्सपेलर, राइस मिल आदि की भाँति हर गांव में एक या दो की संख्या में व्यावसायिक उद्देश्य से गांवों में लगायी जा सकती हैं।
आइडिया इन्नोवेटिव है और इसके कारगर रहने की पूरी सम्भावना है।।।।।।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun at 8:04 AM -

अष्टांग योग

यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि।।

ये 8 चरण योग के बताए गए हैं। ये काफी हद तक अनुमानित हैं। इन शब्दों का प्रयोग आज या तो नहीं हो रहा या फिर भिन्न अर्थों में ज्यादा हो रहा है।

यह वह शास्त्र है जिसके वास्तविक ... जानकार की पहचान होना आसान नहीं है।

सामान्य व्यक्ति के लिए योग का मतलब आसन, प्राणायाम तथा व्यायाम ही है।

जो इससे थोड़ा ऊपर हैं वो धारणा और ध्यान तक पहुंच जाते हैं।

समाधि तक पहुंचने वाले मुझ जैसे विरले ही हैं।

यह जिस प्रकार 8 चरणों मे बांटा गया है वैसा आवश्यक नहीं है।

इसको निम्नवत समझना चाहिए-
1- समाधि के लिए तन, इंद्रियों और मन पर पूर्ण नियंत्रण का अभ्यास होना चाहिए। शरीर मे हीमोग्लोबिन पर्याप्त होना चाहिए। हीमोग्लोबिन के साथ ऑक्सीजन की सर्वांग अबाध आपूर्ति के लिए नसों, धमनियों, हृदय और फेफड़ों का स्वस्थ तथा बाधामुक्त होना आवश्यक है। मनुष्य को साहसी और गुरु पर विश्वास करने वाला होना चाहिए क्योंकि समाधि में पहुंचते समय मृत्यु न हो जाये ऐसी आशंका जन्म लेने लगती है। समाधि के दौरान व्यक्ति सांस भी नहीं लेता किन्तु जिस प्रकार एक कमरे में एक खिड़की खुली हो तो अणुओं की स्वाभाविक गति के कारण कुछ न कुछ ताजी हवा अपने आप अंदर आती रहती है उसी प्रकार नासिकाओं से मंद गति से ऑक्सीजन फेफड़ों तक पहुंचती रहती है। पहले पहल समाधि में एक घंटे से अधिक देर रहना खतरनाक हो सकता है किंतु बार बार अभ्यास करने से यह अवधि 3 या 4 घंटे तक बढ़ सकती है।
2- ध्यान के लिए मस्तिष्क में अबाध रक्तसंचार और अन्य इंद्रियों पर नियंत्रण आवश्यक है।
3- धारणा का यौगिक तात्पर्य वायु अर्थात ऑक्सीजन धारण करने की क्षमता है। जब आप करीब आधा मिनट से पौने दो मिनट प्रति स्वास की अति मंद गति पर घंटे भर तक रह सकने की क्षमता हासिल कर लें तो यह मानना चाहिए कि आपमे धारणा शक्ति आ गयी है। ऊपरी सीमा आपके समाधि में रह सकने की शारीरिक क्षमता का द्योतक है।
4- आसन और प्राणायाम के बिना ध्यान और धारणा का विकास संभव नहीं है।
5- नियमित व्यायाम के बिना समाधि संभव नहीं है। ध्यान के विकास के लिए भी नियमित व्यायाम बहुत फायदेमंद है।
6- बाकी बातें गुरु जी की अपनी शर्तें हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun at 6:12 AM -

1- A saltwater lake in Maharashtra, Lonar Lake, was created by a meteor hitting the earth and is one of its kind in India.

2- A P J Abdul Kalam was well known as the Missile Man of India for his work on the development of ... ballistic missile and launch vehicle technology.

3- Don't take rest after your first victory because if you fail in second, more lips are waiting to say that your first victory was just luck.
- A P J Abdul Kalam

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 22 Jun at 8:09 AM -

भारतीय व्यवस्था

बहुत जबरदस्त लिखा है लेखक का नाम है चित्रगुप्त। .....
साँप का काटा
***********
आदमी को मारने के लिए सरकारी वायदे, विपक्ष के ताने, कवियों की कविताएं और सरकारी कर्मचारियों की धूर्तताएँ कम थीं क्या जो अब साँप ने भी काट लिया? अरे भाई मरने का भी कोई ... कायदा कानून होता है? इतने चुस्त और दुरुस्त प्रशासन में सरकारी अनुमति के बगैर कोई ऐसे कैसे मर सकता है? टीवी पर बैठा एंकर अभी पैनल में शामिल अन्य कुछ बयान बहादुरों को गरम करने की कोशिश कर ही रहा था कि बिजली चली गई।
...और उधर कार का शीशा नीचे करते हुए सीएमओ साब ने धरने पर बैठे सुग्घरवा से पूछा- "काहे बैठे हो?"
"बेटे को सांप ने काट लिया है सरकार और उसका इलाज हो नहीं रहा..." सुग्घरवा ने उत्तर दिया।
"सांप ने तो पुत्तनवा के बेटे को भी काटा था और इलाज तो उसका भी नहीं हुआ था तब तुम धरना देने नहीं आये थे?" सीएमओ साहब इतना बोलकर आगे बढ़ गए तब तक इलाके की पुलिस चौकी के इंचार्ज की आमद हुई...
"का रे सुग्घरवा ...! काहे धरना दे रहा है, सुना है बेटे को सांप ने काट लिया?"
"हां सरकार..." इस बार जवाब सुग्घरवा की बीवी ने दिया था।
"तुम गांव वाले पूरे ही बुड़बक हो यही तो है। जब सांप काटने के लिए आ रहा था उसी समय तुमने उसके खिलाफ एफआईआर करवाना चाहिए था। फिर देखते वो स्साला सांप एक बार थाने पुलिस के चक्कर में आ जाता तब हम बताते कि ज्यादा जहर किसमें है।"
सुग्घरवा रोते बिलखते इंचार्ज साहब का मुंह देख ही रहा था कि नेता विपक्ष सफेद कुर्ता अपनी चमक बिखेरता हुआ उसकी आँखों में धंस गया। सांप वाले डॉक्टर इन्ही नेता जी के बहनोई थे। सुग्घरवा उनके ओर बढ़ने ही वाला था कि ब्यवस्थापकों द्वारा रोक दिया गया। "अरे रुको रुको अभी हमारा कैमरे वाला नहीं आया है। पहले उसे आने दो फिर मिलना भेटना सब होगा नेता जी की पूरी संवेदना आपके साथ है ।
"सरकार अपने बहनोई से कहकर अगर इलाज करा देते तो मेरा कुल दीपक बुझने से बच जाता...." सुग्घर ने हाथ जोड़ते हुए कहा
"अगले चुनाव में नेता जी को जिताइये फिर होगा ये सब अभी तो ये बस अपना सपोर्ट दिखाने आये हैं।" नेता जी के आगे खड़े मार्गदर्शक मंडल के प्रतिनिधि टाइप नेता ने कहा...
ये सब चल ही रहा था कि सरकार की आकाशवाणी गूंजने लगी.....
"सुग्घर .... ये सुग्घर...! शायद तुम्हें पता नहीं होगा कि हमारी सरकार ने ऐसी योजना बनाई है जिसमें तुम्हारे पूरे परिवार का मुफ्त में इलाज होगा। तुम्हे डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। हमने एक मोबाइल एप्प भी बनाया है जिसे मोबाइल में डालकर रखो तो वो बताएगा कि सांप किस तरफ से आने वाला है और इसके अलावा हमने ऐसी व्यवस्था भी की है कि सांप अगर काटने के लिए आएगा तो हम तुरंत नेवला छोड़ देंगे। तुम्हें बस नेवला छोड़ने के लिए अपने पास वाले नेवला केंद्र में जाकर एक अर्जी ही लगानी होगी बस....."
"पर सरकार ये नेवला केंद्र है कहाँ?" वहीं पर मौजूद एक सफाई कर्मचारी जिसने आज तक झाड़ू का मुंह तक नहीं देखा पर तनख्वाह में एक दिन भी लेट मंजूर नहीं, ने पूछा-
आकाशवाणी ने थोड़ा सा खिसियाया हुआ सा मुंह बनाया (ऐसा अनुमान है, पर नेता खिसियाये ये जरूरी भी नहीं है) और बोली उसे बनाने पर अभी विचार चल रहा है।
आकाशवाणी भाइयों बहनों करती हुई बंद हुई तब तक सरकारी सपेरा कहीं से अपनी बीन पकड़े हुए प्रकट हुआ। जिसे बीन बजाना और सांप पकड़ना छोड़कर सारे काम आते थे। इसलिए उसनेे बीन इसके लिए अलग से खानदानी गरीब टाइप का एक सपेरा रख रखा था। जिसने आते ही बीन बजानी शुरू कर दी। अभी तक जितने भी लोग सुग्घर का धरना देखने के लिए जुटे थे वे सब अब उसका बीन बजाना देखने लगे। थोड़ी देर में ही सांप का भी आगमन हुआ जिसे देखकर सरकारी सपेरा डरके मारे बीन बजाने वाले के पीछे छुप गया।
"तुमने इस गरीब बालक को क्यों काटा...?"बीन बजाने वाले ने पूछा
"सरकार हम कोई आदमी नहीं हैं जो आदमी को काटें" सांप ने उत्तर दिया।
"तो फिर ....?"
"तो फिर क्या? ये बांस के झुरमुट में कुछ कर रहा था वहीं इसे कोई कांटा गड़ गया ठीक उसी समय मैं भी वहाँ से जा रहा था तो ये साँप साँप चिल्लाकर वहाँ से भाग खड़ा हुआ।
"मल्लब तुमने काटा ही नहीं..."
"न सरकार"
इतना सुनना था कि अब तक अचेत पड़ा सुग्घरवा का बेटा उठकर बैठ गया।
#चित्रगुप्त

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 21 Jun at 6:53 PM -

आत्मनिर्भर भारत

चीन दुनिया की फैक्ट्री है,आप इसे स्वीकार कीजिये या मत कीजिये । क्या हमारे कारखाने उस क्वालिटी का और उतना माल बनाने के लिए तैयार हैं ? फैक्ट्री मालिकों से नजदीकी होने के नाते मेरा अनुभव यह है कि हम लोग इंजीनियरिंग और खासकर मैन्युफैक्चरिंग ... के मामले में दुनिया से बहुत पिछड़े हुए हैं।

अपनी फैक्ट्री में एक छोटी सी मशीन बनवाने, या किसी डाई को रिपेयर कराने के लिए हमे जो संघर्ष करना पड़ता है, वह सबको हैरान करता है कि हर साल करोड़ों ग्रैजुएट्स उगलने वाले इस देश के महान शिक्षा संस्थान क्यों कुछ ऐसे लोग नहीं दे पाते जो ठीक से एक डाई भी बना सकें। पिछले 20 सालों की आर्थिक तेजी में जो थोड़ा बहुत कमाल हमने दिखाया है, वह बस सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में है, मैन्युफैक्चरिंग के मामले में हम निकम्मे हैं।

क्या ऐसा इसलिए है कि भारत चिंतन करने वालों का देश रहा है। हाथ से काम करने को यहां नीची निगाह से देखा जाता है , इसलिए हमारी आबादी के सारे तेज दिमाग लोग किसी ऐसे पेशे में नहीं जाते जिसमे हाथ का काम हो। वे सिर्फ पढ़ते, सोचते हैं ! एक अमूर्त कंप्यूटर प्रोग्राम को डिकोड करना हमारे लिए अधिक आसान है बजाएं रंदा चलाकर एक लकड़ी को सीधा करने के ।

हमारे सारे शिक्षा संस्थान सिर्फ सोचना सिखाते हैं, करना नहीं। ऐसे में उस चीन से हम कैसे जीतेंगे जो आठवीं क्लास पास करने के बाद ही बच्चे को सीधे ही कोई हुनर सिखाते हैं,वोकेशनल कोर्स कराते हैं। साथियों ने चीन यात्रा से लौटने के बाद बताया कि चीन ने अपने हुनरमंदों की इज्जत की,उन्हें उद्यमी बनाया। दूसरी तरफ सरकार ने इनफॉरमल इकोनामी कह कर उनकी बेइज्जती की। सरकारी अफसरों ने उन्हें इतना डराया धमकाया कि वे बड़े होने से डरने लगे।
हमारे देश में परंपरा से जो हुनरमंद आते हैं उनकी कद्र बड़ी इंजीनियरिंग इंडस्ट्रीज़ ने भी नहीं की। सिर्फ इसलिए क्योंकि ये हुनरमंद एक अलग भाषा में बात करते हैं। उनकी शब्दावली उनकी दुनिया की है। इसलिए हमारे यहां ये दोनों दुनियाऐं अलग अलग समानांतर चलती रहीं और एक दूसरे को कोई फायदा नहीं पहुंचा पााईं। अगर पढ़े-लिखे इंजीनियर अपना अहंकार छोड़ कर इन दोनों दुनियाओं के बीच में पुल बनाने की कोशिश करते तो आज हम मैन्युफैक्चरिंग के मामले में इतने पिछड़े ना होते।
अब आइए जिसे हम डेमोग्राफिक डिविडेंड मानकर इतराते हैं, उसकी पड़ताल करें।

बेशक हमारे युवा संख्या में बहुत हैं, पर एक बार उनकी क्वालिटी पर भी नजर डालिये। स्कूल कालेजों से कच्ची पक्की परीक्षाएं पास किए यह लोग अब खेती करने में बेइज्जती महसूस करते हैं, पर उनके पास ऐसा कोई ज्ञान या हुनर नहीं है जो फैक्ट्रियों के काम का हो। बारहवीं पास बच्चा किराने की दुकान पर सामान का हिसाब भी ठीक से नहीं जोड़ सकता। हमारे स्कूलों के पाठ्यक्रमों में ऐसा कुछ नहीं है जो बाजार के काम का हो।

चीन से बराबरी करने का सपना देखने वालों को वहां काम करने वाली महिलाओं की संख्या भी देखना चाहिए। हमने देश की 50% आबादी को बेकार घर पर बिठा रखा है। पिछले कुछ सालों की कालेजों की मेरिट लिस्ट उठा कर देखिए। ज्यादातर गोल्ड मेडल लड़कियों ने हासिल किये हैं। वे लड़कियां दफ्तरों दुकानों में क्यों दिखाई नहीं देतीं ? जो समाज इन गोल्ड मेडलों को बैंगल बॉक्स की मखमली कब्रगाहों में दफन कर देता हो उसे डेमोग्राफिक डिविडेंड पर बात करने का क्या हक है ?

मगर सरकार की आर्थिक नीतियों के आधार जीडीपी की ग्रोथ का अंदाज़ा लगाने वाला समाज अपनी बुराइयों पर बात करना नहीं चाहता । तरक्की का सारा जिम्मा हमने फाइनेंस मिनिस्टरी पर ही डाल रखा है जो बेहद गलत है ।

चीन से बराबरी के सपने देखता समाज चीन की कार्य संस्कृति को क्यों नहीं देखता ? हमारे कारखानों में कामगारों के साल के औसत कार्य दिवस दुनिया के मुकाबले बहुत कम हैं। व्रत, उपवास, शादी ब्याह, त्यौहार , भोजन भंडारे का एक लगातार सिलसिला है जो हमारे लिए काम से ज़्यादा बड़ी प्राथमिकता है।

होली दिवाली, ईद, शादी ब्याह का मौसम, हमारे फैक्ट्री मैनेजर और कंस्ट्रक्शन साइट के सुपरवाइजरोंं के लिए डरावने ख्वाब की तरह आते हैंं, इन सब का मतलब होता हैै हफ्तों के लिए काम बन्द.... भले ही कितने ही जरूरी आर्डर पेंडिंग पड़े रहें।

कारपोरेट के हमारे मैनेजर इंनइफिशिएंट हैं । हमने मैनेजर बनने की एकमात्र योग्यता टूटी-फूटी अंग्रेजी बोलना बना रखी है। ज्यादातर मैनेजर बस यही एक काम जानते हैं, वह भी ठीक से नहीं जानते । कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने को अपने व्यस्त रहने का प्रमाण मानते हैं,फाइव स्टार होटलों में बेतुके प्रेजेंटेशन करते ये मैनेजर दुनिया मे हो रहे बदलावों के बारे में कुछ नहीं जानते।

ज्यादातर कारपोरेट मैनेजर बस एक दूसरे को रिपोर्ट देने का काम करते हैं, जिसमें कोई काम की बात नहीं होती। सरकारी तंत्र की जिन बुराइयों से घबरा कर हम प्राइवेट कारपोरेट की शरण में आए थे, अब वह भी उसी भ्रष्टाचार और अक्षमता के शिकार हो गए हैं। वे रिश्वत नहीं लेते, पर मोटी तनख्वाह लेकर बस एक दूसरे के ईगो को सहलाना, जिम्मेदारी से भागना, निर्णय न ले पाना भी एक किस्म का भ्रष्टाचार है। यह बात मैं किसी किताब में पढ़कर नहीं अपने व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर कहता हूं।

आप सोचेंगे यदि भारतीय समाज में इतनी बुराइयां हैं तो फिर 20 -30 सालों में हमने इतनी तरक्की कैसे की है ???

मेरे विचार में इसकी एक बड़ी वजह है ज़मीन का पैसा...
1991 में पी वी नरसिम्हा राव की सरकार ने आर्थिक सुधार लागू किए। उससे विदेशी निवेश आया, फिर अटल सरकार ने बड़े राजमार्ग बनाए, होमलोन सस्ते हुए। इन वजहों से जमीन के दामों में बहुत बड़ा उछाल आया। इसने बड़ी मात्रा में काला धन पैदा किया। यह धन किसी मेहनत या हुनर से कमाया हुआ धन नहीं था। यह जमीन के सट्टे की फसल थी।
इस काले धन ने जो डिमांड पैदा की उसके लिए हमारी सप्लाई साइड तैयार नहीं थी। क्योंकि उसके पहले के 20- 25 साल देश में मंदी की वजह से नई फैक्ट्रीयां, नए कारोबार उस तादाद में नहीं लग पाए थे। रातों रात नई फैक्ट्रियां लगना संभव नहीं थी, इसलिये सप्लाई साइड की इनएफिशिएंसी के बावजूद बाजार उछलता रहा।

बाप दादाओं के खेत बेचकर स्कॉर्पियो खरीदने वाला एक नया वर्ग पैदा हुआ। विदेश यात्राएं, होटलिंग, महंगा इंटीरियर डेकोरेशन, बड़ी कारें, नए मॉडल के मोबाइल। पान ठेलों पर दिन काटने वाले आवारा लड़के जब जमीनों की दलाली में धनकुबेर बने, तो इन नये पीरों को अपने जैसे मुरीद चाहिए थे। उन्होंने आलीशान बंगले बनाए, जिनके बाथरूम में पचास हज़ार का एक नल लगाने को आर्किटेक्ट और इंटीरियर डिजाइनर्स ने इसे कला का नाम दिया और बाल बढ़ा कर खुद को विंची और पिकासो के समकक्ष घोषित कर दिया।

आर्किटेक्टस के ऑफिस के बाहर ठेकेदार और कंपनियों के सेल्समैन लाइन लगाकर मंगल गीत गाते रहे, ताकि वे अपने देवत्व को भूलकर कहीं गरीबों के लिए अच्छे और सस्ते मकान बनाने की तकनीक ना खोजने में लग जाएं।

पिछले 20 सालों में हमारे डिजाइनर, इंजीनियर और उद्यमियों की ऊर्जा और समय इस आवारा पूंजी की अश्लील चाकरी में बीता।
अपने देश की परिस्थितियों और गरीबी के हिसाब से कोई नया सस्ता मकान या अन्य कोई तकनीक ढूंढ़ने में किसी का ध्यान नहीं था..जैसे एक पार्टी चल रही थी,किसी ने यह नहीं सोचा इस दौरान कुछ ऐसा किया जाए कि पार्टी खत्म ना हो।

कोरोना इस तरह से वरदान है कि ईजी मनी के नशे में ग़ाफ़िल हमारे देश की प्रतिभाओं को शायद यह नींद से जगा दे। मजबूरी में ही सही हम अपने कंफर्ट जोन से बाहर आएं।

शायद हम सोचें कि ऑपरेशनल एफिशिएंसी क्या है कि मुंह बनाकर अंग्रेजी बोलना सिर्फ भाषाई योग्यता है, तरक्की के लिए मेहनत भी करनी होती है।

शायद हम सीखें कि 'आउट ऑफ बॉक्स थिंकिंग' का मुहावरा किसी कॉरपोरेट कांफ्रेंस में तालियां हासिल कर भूल जाने के लिए नहीं है, अब वह जिंदा बचे रहने की तरकीब है। शायद हमें एहसास हो कि धर्म और जाति नहीं गरीबी और भुखमरी अधिक महत्वपूर्ण है। और इस वक्त हमें एक दूसरे का हाथ पकड़कर इस मुसीबत से पार पाना है।

दूसरे विश्व युद्ध के बाद जब दुनिया ने जर्मनी का बहिष्कार कर दिया, तब वहां के इंजीनियरों ने लगभग हर मामले में अपने देश को आत्मनिर्भर बना लिया। हर आपदा हमें झकझोरती है, हमें कंफर्ट जोन से निकालती है। कोरोना में यदि कुछ अच्छा है तो बस यही है ।

उपेंद्र सिंह

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 21 Jun at 5:53 PM -

interesting facts

1- You cannot shake hands with a clenched fist.
- Indira Gandhi

2- An eye for an eye only ends up making the whole world blind.
- Mahatma Gandhi

3- Navi Mumbai, which was developed in 1972, is the largest planned township on the planet