Home

Welcome!

user image DonaldNoP DonaldNoPWA - Friday at 5:05 PM -

Review and registration in the CPX24 advertising network

[b]CPX24 offers various opportunities for publishers, such as:[/b]
1 High prices per thousand impressions — $1
2 Very low minimum payout — $0.5
3
Fast payment
4 Minimum traffic requirements for participation
5 Non-intrusive ads
6 Accepts both adult and non-adult websites
7 Has a ... highly paid referral program
[url= http://adp13a.com/redirect?sid=94466]visit the cpx website[/url]
[url= https://cpx24.net/?ref=nikolos]registration in cpx24[/url]
[url= http://bitcoads.hhos.ru]ptp earnings[/url]

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 15 May 2021 at 4:04 PM -

bahraich ki sakriy mahila prd jawano ki suchi

1 nishani
2 shanti
3
jagrani
4 archna
5 sonu
6 monika
7 munni singh
8 s raj kumari
9 reeta
10 meera pandey
11 sarita
12 asha pandey
13 nisha singh
14 savitri yadav
15 mumtaj
16 reena
17 kiran
18 manju
19 kamla
20 mayavati
21 m meera mishra
22 munni devi
23 sushila
24 champa
25 shilpi
26 pragya
27 usha pal
28 pushpa
29 pawan kumari
3
0 v raj kumari
3
1 seeta
3
2 rangeela
3
3 manoj devi
3
4 mamta singh
3
5 raj kumar visheshwarganj
3
6 fool mala visheshwarganj

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 11 May 2021 at 6:20 PM -

PRD Sirsiya, Shravasti

क्रम संख्या , नॉमिनल रोल रजिस्टर की क्रम संख्या , एप्लीकेशन नं0 , स्वयंसेवक का नाम , पिता का नाम , जिला , जन्मतिथि , मोबाइल नं0

1 , G2705047 , PRD12927 , AWADHA RAM , BANKE LAL , SHRAVASTI , 07/05/1984 , 9559384010

2 , G2705078 , PRD12931 , RAJENDRA KUMAR , CHAUDHARI DAS , SHRAVASTI , 20/06/1982 , 7318454148

3
, G2705095 , PRD13139 , DAYA RAM , NIRGUN PRASAD , SHRAVASTI , 01/12/1969 , 7518936686

4 , G2705087 , PRD14023 , RANGI LAL , RAM SURAT , SHRAVASTI , 01/07/1990 , 9559048281

5 , G2705042 , PRD14416 , SHESH RAM , MOTI RAM , SHRAVASTI , 10/06/1995 , 8953991126

6 , G2705031 , PRD14741 , HARIRAM , BELARAM , SHRAVASTI , 01/02/0983 , 7398572792

7 , G2705059 , PRD14811 , RAVI PARKASH YADAV , KESHAV RAM YADAV , SHRAVASTI , 10/02/2021 , 9451557989

8 , G2705043 , PRD14814 , BABU LAL , DODHE , SHRAVASTI , 01/05/1970 , 9794815970

9 , G2705034 , PRD15834 , KHAJANCHI PARSAD , BELA RAM , SHRAVASTI , 13/04/1985 , 7318281880

10 , G2705033 , PRD17751 , RAJESH KUMAR , RAM FERAN , SHRAVASTI , 18/08/1989 , 8400389451

11 , G2705066 , PRD17800 , GUR DEEN , JHAGRU PRASAD , SHRAVASTI , 06/08/1980 , 9793926614

12 , G2705026 , PRD19085 , RIYAZ AHMAD , ABDUL MUNAF , SHRAVASTI , 01/01/1975 , 8756893985

13 , G2705060 , PRD19485 , RAMAWATI , RMA BARN , SHRAVASTI , 21/07/1989 , 6386131420

14 , G2705101 , PRD19487 , RESHMA RANA , SITA RAM , SHRAVASTI , 14/06/1992 , 9005254452

15 , G2705102 , PRD19490 , USHA DEVI , CHANDRIKA PRASAD , SHRAVASTI , 03/07/1992 , 9569125419

16 , G2705116 , PRD19496 , ANEETA , HANUMAN PRASAD , SHRAVASTI , 01/04/1993 , 9478613392

17 , G2705111 , PRD19556 , DURGA PRASAD , RAM SUMIRAN , SHRAVASTI , 10/12/1976 , 9119608253

18 , G2705112 , PRD20561 , ALI ... AHAMAD , VAJEER , SHRAVASTI , 01/04/1974 , 6387028783

19 , G2705097 , PRD20603 , SATAY PARKESH , TRILIKINATH , SHRAVASTI , 15/10/1979 , 7388820744

20 , G2705011 , PRD20861 , BAGESH KUMAR , BANGALI , SHRAVASTI , 15/02/1978 , 9651815710

21 , G270 , PRD21010 , BABU RAM , GOBRE , SHRAVASTI , 03/06/1964 , 8429869285

22 , G2705599 , PRD21014 , GAYATREE DEVI , BALAK RAM , SHRAVASTI , 16/07/1993 , 6390559490

23 , G2705025 , PRD21019 , MOHAMMAD NASEEM , GULAM MOHAMMAD , SHRAVASTI , 01/01/1975 , 9454550654

24 , G2705126 , PRD21020 , RAM ADHAR , MOTI RAM , SHRAVASTI , 11/05/1968 , 7881184362

25 , G2705002 , PRD21022 , RAM SWROOP , RAM KARAN , SHRAVASTI , 01/01/1971 , 9651026753

26 , G2705065 , PRD21023 , VISHRAM , VRIJLAL , SHRAVASTI , 01/01/1981 , 9794214245

27 , G2705077 , PRD21024 , RAM NIWAS , GAYA PARSAD , SHRAVASTI , 09/07/1986 , 8303863012

28 , G2705069 , PRD21025 , PAPPU , SHYAM SUNDER , SHRAVASTI , 01/07/1978 , 9554236738

29 , G2705074 , PRD21026 , AWDESH KUMAR , SANT RAM , SHRAVASTI , 02/07/1986 , 8765564356

3
0 , G2705007 , PRD21027 , LALLAN PARSAD , SAHEB DEEN , SHRAVASTI , 04/08/1981 , 7388056209

3
1 , G2705018 , PRD21038 , MO.SHABBEER , MO. EBRAHIM , SHRAVASTI , 03/06/1970 , 7607522389

3
2 , G2705092 , PRD21039 , RAJENDRA PARSAD , DEV NARYAN , SHRAVASTI , 03/06/1990 , 8840914128

3
3 , G2705118 , PRD21040 , KASHI RAM , NANKAO , SHRAVASTI , 02/03/1989 , 7080791123

3
4 , G2705091 , PRD21041 , HRI NARYAN , RAM DHAN , SHRAVASTI , 05/07/1990 , 8429773144

3
5 , G2705096 , PRD21043 , GOPI LAL , SANTO , SHRAVASTI , 08/01/1982 , 8172872231

3
6 , G2705123 , PRD21044 , JITENDRA PARSAD , AYITOO , SHRAVASTI , 10/08/1989 , 8707493081

3
7 , G2705083 , PRD21045 , VIJAY BAHADUR , KALI PRASAD , SHRAVASTI , 01/01/1987 , 9696765295

3
8 , G270 , PRD21046 , RAJA RAM , BEAJHU RAM , SHRAVASTI , 02/07/1991 , 7524910266

3
9 , G2705115 , PRD21047 , MADHAW RAM , BHAUNA RAM , SHRAVASTI , 25/08/1991 , 6386075863

40 , G2705037 , PRD21048 , OM PRAKESH , AADITY PRASAD , SHRAVASTI , 14/09/1969 , 8429818505

41 , G2705030 , PRD21049 , RADHE SAYAM , KANHAIYA LAL , SHRAVASTI , 26/02/1969 , 9452405840

42 , G2705079 , PRD21126 , NARENDR KUMAR SHUKAL , MULK RAJ SHUKLA , SHRAVASTI , 01/08/1969 , 6386108501

43 , G2705071 , PRD21130 , BALESHVAR PARSAD , LAXMAN PARSAD , SHRAVASTI , 01/07/1988 , 7497933175

44 , G2705110 , PRD21133 , POORAN LAL , BUDHAI RAM , SHRAVASTI , 01/03/1972 , 9794496882

45 , G2705004 , PRD21136 , RADHESHYAM , CHAUDHARI DASS , SHRAVASTI , 30/06/1972 , 8953106643

46 , G2705067 , PRD21137 , LALLN PARSAD , NANMOON , SHRAVASTI , 30/06/1976 , 9936427886

47 , G2705054 , PRD21144 , RAM GOPAL , BADRI PARSAD , SHRAVASTI , 05/02/1979 , 9670777911

48 , G270551 , PRD21173 , SALIK RAM , SAHAJ RAM , SHRAVASTI , 01/01/1987 , 2707217375

49 , G2705117 , PRD21175 , SAVAL PARSAD , RAM SUNDER , SHRAVASTI , 25/01/1978 , 7388332070

50 , G2705132 , PRD21176 , MAHADEV , RAM PYARE , SHRAVASTI , 03/11/1969 , 8303720583

51 , G2705049 , PRD21179 , RAJ KISHOR , BABU RAM , SHRAVASTI , 01/01/1971 , 8948069880

52 , G2705131 , PRD21180 , RAM SANEHI , BACHHA RAM , SHRAVASTI , 02/05/1971 , 8429717016

53 , G2705001 , PRD21183 , कैलाश नाथ , RAM CHABILE , SHRAVASTI , 01/03/1970 , 9511460535

54 , G2705009 , PRD21185 , SOBHA RAM , RAM CHABILE , SHRAVASTI , 08/08/1977 , 7080515751

55 , G270 , PRD21652 , ISHVAR DEEN , RAM PARSAD , SHRAVASTI , 05/01/1983 , 9096360061

56 , G2705098 , PRD21653 , JAMUNA PARSAD , BHAGVAN DEEN , SHRAVASTI , 18/01/1969 , 7388052864

57 , G2705103 , PRD21655 , ANNU DEVI , JAGMOHAM , SHRAVASTI , 15/05/1994 , 9621935049

58 , G2705128 , PRD21661 , RAM SUNDER , RAM ADHAR , SHRAVASTI , 15/04/1975 , 8400839909

59 , G2705107 , PRD21664 , RAM DHERAJ , KANDHAILAL , SHRAVASTI , 05/07/1969 , 7518963369

60 , G2705108 , PRD24208 , RAM LAGAN , CHOTE LAL , SHRAVASTI , 01/01/1969 , 9918997459

61 , G2705080 , PRD24326 , RAJNIKANT , HANU MAN PARSAT , SHRAVASTI , 01/01/1974 , 9956994482

62 , G2705119 , PRD25506 , YOGENDAR PRASAD , RAM SEWAK , SHRAVASTI , 17/01/1981 , 7518394727

63 , G2705068 , PRD25730 , SAROJ KUMAR , VEERBAL , SHRAVASTI , 05/04/1984 , 8174053383

64 , G2705133 , PRD25732 , SAKTU RAM , MANI RAM , SHRAVASTI , 13/12/1970 , 9956200618

65 , G2705084 , PRD25734 , RAM SOORAT , POORAN , SHRAVASTI , 03/05/1983 , 9696573407

66 , G2705023 , PRD25737 , BADE LAL , RAM NARESH , SHRAVASTI , 09/08/1978 , 9579729521

67 , G270 , PRD25740 , BACCHA RAM , MAIKU LAL , SHRAVASTI , 19/05/1969 , 7080551540

68 , G2705044 , PRD25745 , AMIRKA PARSAD , HRIDAR , SHRAVASTI , 13/06/1970 , 9328344570

69 , G2705039 , PRD25747 , RAJ KUMAR , KALI PARSAD , SHRAVASTI , 01/01/1970 , 9651829018

70 , G2705038 , PRD25758 , VIJAY BAHADUR , RAM LAKHAN , SHRAVASTI , 01/03/1970 , 8953493268

71 , G2705129 , PRD25990 , SUKH RAM , BABU RAM , SHRAVASTI , 01/08/1989 , 9336461018

72 , G2705134 , PRD26011 , OM PARKASH , DWARIKA PRASAD , SHRAVASTI , 01/02/1970 , 9559349251

73 , G2705088 , PRD26019 , ANGNU RAM , AMR BAHADUR , SHRAVASTI , 12/05/1985 , 8454904686

74 , G2705094 , PRD26028 , RAJ KUMAR , FIREE LAL , SHRAVASTI , 13/07/1985 , 8429209673

75 , G2705057 , PRD26034 , RAM KEWAL , JAGAN NATH , SHRAVASTI , 06/07/1967 , 9569028068

76 , G2705576 , PRD26039 , ANEESA DEVI , CHHEDU RAM , SHRAVASTI , 01/05/1988 , 6393179075

77 , G2705048 , PRD26050 , DAYA RAM GUPTA , RAM SUMRAN , SHRAVASTI , 02/02/1969 , 7570922463

78 , G2705124 , PRD26060 , ARVIND KUMAR , SAYAM RAJ , SHRAVASTI , 16/05/1970 , 9794738386

79 , G2705050 , PRD26070 , MANI RAM , RAM NARESH , SHRAVASTI , 16/05/1970 , 7607260565

80 , G2705046 , PRD26101 , MISHRI LAL , SANT RAM , SHRAVASTI , 12/10/1974 , 7392150727

81 , G2705017 , PRD28087 , JAGRAM , MAHADEV , SHRAVASTI , 06/08/1975 , 7526024082

82 , G2705012 , PRD28105 , RAM FERAN , RAM PRASAD , SHRAVASTI , 12/02/1969 , 0000000000

83 , G2705063 , PRD28349 , DAULAT RAM , PARAG DATT , SHRAVASTI , 15/08/1970 , 9559861602

84 , G270 , PRD28353 , CHOTE LAL , SAYAM LAL , SHRAVASTI , 01/07/1969 , 9190921135

85 , G2705099 , PRD28572 , SOBHA RAM , BELA RAM , SHRAVASTI , 01/01/1985 , 9918798906

86 , G2705019 , PRD28750 , AMAR NATH , SITA RAM , SHRAVASTI , 02/11/1972 , 0000000000

87 , G2705114 , PRD28754 , JILEDAR , MAHADEV , SHRAVASTI , 01/03/1969 , 9838900268

88 , G2705056 , PRD28783 , SATAY RAM , KAMTA PRASAD , SHRAVASTI , 15/08/1980 , 8756144969

89 , G2705086 , PRD28791 , MO NAJEER , VARIS AHMAD , SHRAVASTI , 01/07/1970 , 7268062952

90 , G2705010 , PRD28802 , RAM CHANDER , GANGA RAM , SHRAVASTI , 25/07/1975 , 8756303350

91 , G2705052 , PRD28809 , SATAY NARAYAN , FAKIRE , SHRAVASTI , 05/12/1963 , 7510088478

92 , G2705085 , PRD28816 , KHAJANCHI SONI , PRASURAM URF NANHE LAL , SHRAVASTI , 01/05/1970 , 2163320877

93 , G2705015 , PRD28877 , RAM UJAGAR , RAM NARESH , SHRAVASTI , 01/06/1970 , 7380454021

94 , G2705036 , PRD28908 , KALI SANKAR , DATA RAM , SHRAVASTI , 12/07/1977 , 7054048700

95 , G2705035 , PRD29335 , PRAHLAD , RAM FERAN , SHRAVASTI , 01/07/1976 , 9696697570

96 , G2705122 , PRD29371 , ABDUL RAHMAN , MO NAJEER , SHRAVASTI , 26/01/1995 , 0000000000

97 , G2705109 , PRD29387 , RAM PRASAD , LAL BAHADUR , SHRAVASTI , 12/07/1970 , 0000000000

98 , G2705070 , PRD29420 , RANJIT , SAMBHU , SHRAVASTI , 01/01/1970 , 9076995814

99 , G270 , PRD29429 , MAHADEV PRASAD , THAGGU , SHRAVASTI , 02/09/1988 , 0000000000

100 , G2705073 , PRD29452 , SAHDEV PRASAD , FOOL KARAN , SHRAVASTI , 20/08/1984 , 9721712234

101 , G2705053 , PRD29493 , RADHE SAYAM , RAM PRAGHAT , SHRAVASTI , 04/02/1974 , 0000000000

102 , G2705121 , PRD29497 , RAM GOPAL , JUGMAM , SHRAVASTI , 05/01/1989 , 8840837550

103 , G2705081 , PRD29499 , BADLU RAM , MANGAL PRASAD , SHRAVASTI , 10/05/1980 , 0000000000

user image Molhe Prasad

Very good

Tuesday, May 11, 2021
user image Shaukat Ali

Bahut acchha lga.

Tuesday, May 11, 2021
user image Arvind Swaroop Kushwaha - 11 May 2021 at 6:09 PM -

prd jamunaha shravasti

क्रम संख्या , नॉमिनल रोल रजिस्टर की क्रम संख्या , एप्लीकेशन नं0 , स्वयंसेवक का नाम , पिता का नाम , जिला , जन्मतिथि , मोबाइल नं0

1 , G2704105 , PRD11856 , PRADEEP KUMAR PANDEY , RAM KARAN , SHRAVASTI , 15/12/1982 , 9305029682

2 , G2704012 , PRD11940 , SAJJAD ALI , SRWAR ALI , SHRAVASTI , 03/07/1972 , 9335507340

3
, G2704023 , PRD13192 , BANSHI DHAR YADAV , SANTRAM YADAV , SHRAVASTI , 28/11/1964 , 9918229468

4 , G2704040 , PRD13193 , LAL BAHADUR , SAVALI PARSAD , SHRAVASTI , 31/07/1973 , 9984693769

5 , G2704071 , PRD13195 , RAM CHARN SINGH , TALUK DAR SINGH , SHRAVASTI , 10/01/1972 , 7408949406

6 , G2704055 , PRD13197 , PRITHIVI PAL SINGH , BECHELAL SINGH , SHRAVASTI , 15/06/1975 , 7379690230

7 , G2704031 , PRD14743 , AMBIKA PARSAD , HRIRAM , SHRAVASTI , 10/10/1970 , 9721533713

8 , G2704079 , PRD14822 , SHIV KUMAR VERMA , LAL JI VERMA , SHRAVASTI , 15/08/1985 , 7408321877

9 , G2704056 , PRD15370 , PESH KAR , RAMJASH , SHRAVASTI , 05/05/1968 , 9918857985

10 , G2704081 , PRD15553 , RAM KRISHAN VERMA , MOTI LAL , SHRAVASTI , 12/02/1965 , 9330508662

11 , G2704063 , PRD15555 , RAM KUMAR , RAM FAKERE , SHRAVASTI , 20/05/1968 , 7800023084

12 , G2704063 , PRD15555 , RAM KUMAR , RAM FAKERE , SHRAVASTI , 20/05/1968 , 7800023084

13 , G2704046 , PRD15556 , MUMTAJ ALI , LALLU , SHRAVASTI , 25/08/1969 , 7483641410

14 , G2704124 , PRD15558 , NSHEEM KHAN , TASLEEM , SHRAVASTI , 10/09/1982 , 7355022184

15 , G2704123 , PRD15559 , HANS ... RAJ VERMA , SURENDRA VERMA , SHRAVASTI , 01/01/1973 , 9838598965

16 , G2704125 , PRD15560 , VIDYA RAM , RAM PARTAP , SHRAVASTI , 02/11/1972 , 9918722217

17 , G2704054 , PRD15822 , RAJA RAM , SIYA RAM , SHRAVASTI , 05/05/1972 , 9648190850

18 , G2704050 , PRD15824 , CHHVI LAL , SHREE PATAN DEEN , SHRAVASTI , 03/07/1977 , 9721375520

19 , G2704118 , PRD15828 , MOOL CHAND , KAILAS PARTAP , SHRAVASTI , 02/12/1989 , 7800372013

20 , G2704110 , PRD15835 , SHAREEF KHAN , HAFFI JULLA KHAN , SHRAVASTI , 05/07/1969 , 6391229899

21 , G2704068 , PRD15836 , BABU RAM PATHAK , KUNNU PATHAK , SHRAVASTI , 28/07/1969 , 9161887590

22 , G2704121 , PRD15924 , ONKAR SINGH , LAKSHAMAN SINGH , SHRAVASTI , 03/09/1967 , 7379019141

23 , G2704095 , PRD16228 , TEJ RAM CHAKRVARTI , POSU RAM , SHRAVASTI , 18/08/1982 , 7705092214

24 , G2704108 , PRD16229 , NAFEES AHMAD , JABBAR AHAMAD , SHRAVASTI , 09/07/1989 , 9919141625

25 , G2704015 , PRD16230 , PAHLWAN PARSAD , BADE LAL , SHRAVASTI , 30/12/1968 , 7518985410

26 , G2704107 , PRD16377 , VIJAY KUMAR , MISHRI LAL , SHRAVASTI , 05/07/1987 , 9648194761

27 , G2704099 , PRD17785 , SURESH KUMAR , BACHHRAJ , SHRAVASTI , 13/07/1990 , 9648685705

28 , G2704097 , PRD17791 , KAMLA DEVI , SURESH KUMAR , SHRAVASTI , 01/08/1988 , 9628388207

29 , G2704073 , PRD18019 , CHHAVI LAL , BHALLAR , SHRAVASTI , 04/09/1978 , 9651123620

3
0 , G2704111 , PRD18036 , SWAMIDAYAL , MATHURA , SHRAVASTI , 11/06/1972 , 9648485609

3
1 , G2704010 , PRD18282 , BUDHI SAGAR , RAM PALTAN , SHRAVASTI , 15/07/1970 , 7235966301

3
2 , G2704096 , PRD19444 , SANJU DEVI , SADHU SARAN , SHRAVASTI , 18/06/1987 , 9839575420

3
3 , G2704072 , PRD19581 , RADHE SAYAM , SUNDAR LAL , SHRAVASTI , 25/12/1971 , 8881084207

3
4 , G2704009 , PRD20315 , BHIKHARI LAL , CHUNNILAL , SHRAVASTI , 07/06/1970 , 9026232826

3
5 , G2704003 , PRD20318 , RADHESHYAM , RAM AVTAURA , SHRAVASTI , 10/06/1974 , 8601209451

3
6 , G2704018 , PRD20319 , INDAL , MOHAN , SHRAVASTI , 01/07/1969 , 8429898518

3
7 , G2704116 , PRD21005 , KESHAV RAM , SOMAI PARSAD , SHRAVASTI , 01/07/1985 , 7081458514

3
8 , G2704112 , PRD21407 , MANI RAM , DAYA RAM , SHRAVASTI , 25/12/1972 , 8853928057

3
9 , G2704089 , PRD25671 , BANSI LAL , MALTI PRASAD , SHRAVASTI , 01/07/1963 , 8957869325

40 , G2704037 , PRD26222 , DURGESH KUMAR , MAIKU LAL , SHRAVASTI , 01/01/1970 , 8795038193

41 , G2704111 , PRD26225 , VIKARM YADAV , RAM VILASH YADAV , SHRAVASTI , 15/12/1968 , 7232991632

42 , G2704126 , PRD26230 , ASHOK KUMAR , RAM KUMAR VERMA , SHRAVASTI , 01/12/1969 , 9580577782

43 , G2704069 , PRD26232 , RAM SURAT , NANKAU , SHRAVASTI , 15/06/1970 , 8795337717

44 , G2704098 , PRD26235 , MANOHAR LAL , TRIBHUWAN DATT , SHRAVASTI , 01/08/1982 , 9454893168

45 , G2704101 , PRD26238 , KRISHNA NAND , RAM CHANDAR , SHRAVASTI , 17/07/1989 , 9721212704

46 , G2704045 , PRD26239 , RAMESH KUMAR , LAKSHU RAM , SHRAVASTI , 10/04/1982 , 9628716934

47 , G2704076 , PRD26241 , CHATRPAL , BALDEV PARSAD , SHRAVASTI , 01/01/1975 , 9696841726

48 , G2704007 , PRD26642 , RAM KUMAR , DUKHI RAM , SHRAVASTI , 01/01/1974 , 0000000000

49 , G2704056 , PRD26857 , KANDHAI LAL , RAM JAS , SHRAVASTI , 01/10/1966 , 9918857955

50 , G2704008 , PRD27169 , SAYAM MANOHAR , JAGDISH PRASAD , SHRAVASTI , 05/03/1973 , 6392562014

51 , G2704115 , PRD27183 , MANO RAM , PARSU RAM , SHRAVASTI , 05/03/1980 , 6392562014

52 , G2704092 , PRD27495 , MURLI PARSAD , RAM CHANDER , SHRAVASTI , 15/06/1976 , 8887506302

53 , G2704047 , PRD27526 , SHIV PARSAD , HOLI RAM , SHRAVASTI , 01/01/1977 , 8795442454

54 , G2704106 , PRD27536 , SHIV KUMAR PATHAK , SATYANARYAN PATHAK , SHRAVASTI , 30/11/1976 , 7263008359

55 , G2704066 , PRD27806 , SHREE PAL , DUBAR PRASAD , SHRAVASTI , 01/02/1970 , 9648135670

56 , G2704016 , PRD27855 , RAM SURAT , RAM JIYAVAN , SHRAVASTI , 05/07/1971 , 9670493913

57 , G2704070 , PRD27861 , RATI RAM , RAM NATH , SHRAVASTI , 01/07/1970 , 9161608640

58 , G2704052 , PRD27868 , SHREE NIWAS , KAILASH NATH , SHRAVASTI , 01/01/1997 , 7310181724

59 , G2704017 , PRD27960 , SAYAM BIHARI , SALAIK RAM , SHRAVASTI , 28/04/1982 , 0000000000

60 , G2704022 , PRD28065 , RAM SEWAK , RAGHUVEER , SHRAVASTI , 20/10/1967 , 9369645042

61 , G2704122 , PRD28081 , VIMAL KUMAR , AMBIKA PRASAD , SHRAVASTI , 01/07/1973 , 0000000000

62 , G2704030 , PRD28364 , ISLAM URF ABRAR , LALU KHAN , SHRAVASTI , 01/01/1969 , 0000000000

63 , G2704094 , PRD28428 , YAR MOHAMMAD , JABBAR KHAN , SHRAVASTI , 20/08/1980 , 9517412665

64 , G2704033 , PRD28469 , NANAK SARAN , VIRJ LAL , SHRAVASTI , 01/01/1968 , 9569365703

65 , G2704062 , PRD28476 , RAM NIWAS , RAM LAUTAN , SHRAVASTI , 05/04/1974 , 7565939214

66 , G2704024 , PRD28505 , TILAK RAM , MEWA LAL , SHRAVASTI , 02/02/1976 , 9569600439

67 , G2704114 , PRD28516 , RAM SEWAK , DHARKHAN , SHRAVASTI , 10/02/1969 , 6387987260

68 , G2704035 , PRD29161 , LAL JI PRASAD , BECHAN LAL , SHRAVASTI , 09/09/1971 , 9026199382

69 , G2704117 , PRD29316 , VIDYA RAM , SURJA PARASAD , SHRAVASTI , 20/11/1967 , 9670602038

70 , G2704044 , PRD29436 , SWAMI DAYAL , RADHE SAYAM , SHRAVASTI , 16/09/1982 , 7007208710

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 11 May 2021 at 5:58 PM -

prd hariharpur rani, shravasti

s.n. code number , feeding number , स्वयंसेवक का नाम , पिता का नाम , जिला , जन्मतिथि , मोबाइल नं0

1 G2702131 , PRD7236 , PRAMOD KUMAR SHARMA , ASHWINI KUMAR SHARMA , SHRAVASTI , 20/09/1990 , 7409025222

2 G2702109 , PRD8945 , KRISHNA KUMAR SHARMA , ASHWANEE KUMAR SHARMA , SHRAVASTI , 01/07/1987 , 7895185878

3
G2702135 , PRD11369 , MAHENDRA PRATAP GUPTA , VIDESHI PRASAD , SHRAVASTI , 05/10/1968 , 7234036577

4 G2702059 , PRD12787 , VINOD KUMAR , GIRIDHARI LAL , SHRAVASTI , 15/04/1963 , 9648839752

5 G2702104 , PRD12802 , RAKESH KUMAR TIWARI , KANHAYAI LAL TIWARI , SHRAVASTI , 25/10/1972 , 8601536563

6 G2702038 , PRD12857 , ESRAFIL , MAHBOOB , SHRAVASTI , 16/06/1974 , 8874387686

7 G2702132 , PRD13199 , RAM FERAN , GANGA RAM , SHRAVASTI , 08/07/1964 , 6390331225

8 G2702004 , PRD14479 , AMIRKA PRASAD , BABU RAM , SHRAVASTI , 30/01/1968 , 7310210871

9 G2702137 , PRD14485 , VISRAM SAGAR , RAM PRASAD , SHRAVASTI , 28/07/1963 , 9005330565

10 G2702105 , PRD15832 , SHESH RAJ , MOLHE RAM , SHRAVASTI , 01/01/1990 , 8878574852

11 G2702138 , PRD17653 , BACHH ARAM , LALLAN PRASAD , SHRAVASTI , 20/08/1967 , 9670685390

12 G2702084 , PRD17736 , VISESWAR PRASAD , RAM PEYARE , SHRAVASTI , 01/06/1968 , 9839828551

13 G2702092 , PRD18873 , RACHHA RAM , RAM DULAE , SHRAVASTI , 04/06/1993 , 9721419505

14 G2702127 , PRD18876 , KUNNE RAM , RMA PAYARE , SHRAVASTI , 26/07/1969 , 9140827145

15 G2702088 , PRD19241 , AJAY KUMAR PANDAY , KAILASH NATH ... PANDAY , SHRAVASTI , 20/05/1969 , 9161939166

16 G270 , PRD19244 , MO ANWAR , ALI AHAMAD , SHRAVASTI , 15/06/1965 , 9792576181

17 G2702129 , PRD19245 , DESHRAJ SHARMA , RAM FERAN , SHRAVASTI , 01/07/1974 , 9565541659

18 G2702011 , PRD19270 , SATAY DEV MISHRA , KRISHNA NANDA , SHRAVASTI , 10/03/1969 , 7607733629

19 G2702115 , PRD19271 , TULSI RAM , RAGHU NATH PRASAD , SHRAVASTI , 19/10/1967 , 8858877212

20 G2702095 , PRD19272 , GANGA RAM , RAM DEEN , SHRAVASTI , 09/04/1977 , 7800033651

21 G2702051 , PRD19273 , JAGDEESH KUMAR , KANHAIYA LAL , SHRAVASTI , 04/01/1985 , 8874362003

22 G3702057 , PRD19274 , KUWAR BAHADUR , BABADEEN , SHRAVASTI , 10/05/1986 , 9728551079

23 G2702108 , PRD19275 , LAL BAHADUR , SANGAM LAL , SHRAVASTI , 02/08/1990 , 9554787129

24 G2702112 , PRD19425 , PRAMOD KUMAR , SURESH KUMAR , SHRAVASTI , 10/08/1973 , 9582353124

25 G2702006 , PRD19426 , RAGHAV RAM , CHEDI RAM , SHRAVASTI , 01/01/1975 , 8004180106

26 G2702058 , PRD19428 , RAJIT RAM , TIRATH RAM , SHRAVASTI , 02/07/1977 , 8948575078

27 G2702110 , PRD19430 , RAJ KISHOR , CHHOTE LAL , SHRAVASTI , 10/04/1988 , 8874312464

28 G2702047 , PRD19433 , RAM VILAS , MUNNA LAL , SHRAVASTI , 01/01/1980 , 8081164344

29 G2702056 , PRD19434 , RAM NARESH , DEVTA PARSAD , SHRAVASTI , 08/10/1985 , 9918060743

3
0 G2702107 , PRD19435 , RAMESH KUMAR , JANKI PARSAD , SHRAVASTI , 14/03/1986 , 9628263641

3
1 G2702080 , PRD19436 , SAEVESH KUMAR , RAM DATTA , SHRAVASTI , 24/08/1985 , 9919941031

3
2 G2702049 , PRD19437 , VISHMBHAR LAL , LAL BAHADUR , SHRAVASTI , 01/05/1981 , 9839248770

3
3 G2702007 , PRD19439 , UMESH CHANDA , MAHADEV , SHRAVASTI , 29/12/1969 , 9838179440

3
4 G2702010 , PRD19440 , BECHAI LAL , NANMOON , SHRAVASTI , 01/01/1972 , 7607883548

3
5 G2702123 , PRD19441 , SAHAJ RAM , स्वामी DAYAL , SHRAVASTI , 01/10/1965 , 9554447558

3
6 G2702091 , PRD19443 , AMBAR LAL , BRIJ LAL URF BRIJA , SHRAVASTI , 21/12/1968 , 9838602275

3
7 G2702083 , PRD19515 , ARUN KUMAR , SATAY DEV , SHRAVASTI , 31/03/1970 , 9559502807

3
8 G2702008 , PRD20186 , BUDHI LAL MISHRA , RAM FERN , SHRAVASTI , 01/03/1967 , 7524871665

3
9 G2701021 , PRD20771 , RAM PRAHLAD , RAM PYARE , SHRAVASTI , 03/05/1969 , 9044023598

40 G2702135 , PRD20947 , SAJAN KUMAR , FATE BAHADUR , SHRAVASTI , 27/11/1969 , 7232957126

41 G2702128 , PRD20960 , POONAM DEVI , VISHWA NATH , SHRAVASTI , 01/01/1989 , 9956663951

42 G2702013 , PRD21012 , CHANDR BHANU , RAM DHARKHAN , SHRAVASTI , 15/01/1970 , 7379022209

43 G2702019 , PRD21841 , ASRFI LAL , JHHAGRU PRASAD , SHRAVASTI , 12/08/1969 , 888165278

44 G2602105 , PRD23250 , KRISHNA WATI , RAM SURAT , SHRAVASTI , 29/02/1976 , 8795346631

45 G2702111 , PRD25396 , VIJAY PAL SINGH , DHARM RAJ SINGH , SHRAVASTI , 15/01/1986 , 6392460595

46 G2702034 , PRD25720 , BACCHA RAM , LILADHAR , SHRAVASTI , 15/12/1974 , 9919821571

47 G2702022 , PRD25724 , RAJ MANI , BABU RAM , SHRAVASTI , 01/04/1962 , 9721989743

48 G2702096 , PRD25750 , HEMARAJ , PUTTI LAAL , SHRAVASTI , 15/05/1972 , 8756952415

49 G2702001 , PRD26093 , RAMESAWAR PARSAD SHUKLA , SHREE RAM SHUKLA , SHRAVASTI , 05/01/1968 , 8127261930

50 G2702055 , PRD26109 , BALRAM , BINDARA PRASAD URF JHALUSE , SHRAVASTI , 01/10/1967 , 9838943920

51 G2702015 , PRD26152 , BELA SINGH , SHREE PAL SINGH , SHRAVASTI , 04/06/1969 , 7379771433

52 G2702134 , PRD27153 , SANJAY KUMAR TIWARI , VIRENDR ANATH , SHRAVASTI , 05/08/1988 , 7524074423

53 G2702081 , PRD27160 , DAWRIKA PRASAD , KURKUT PRASAD , SHRAVASTI , 05/06/1986 , 6387446126

54 G2702060 , PRD27421 , MANGAL PRASAD , KALIKA PRASAD , SHRAVASTI , 05/01/1977 , 9554704990

55 G2702052 , PRD27492 , ARVIND KUMAR TIWARI , FATEBAHADUR , SHRAVASTI , 01/07/1978 , 8874019473

56 G2702042 , PRD27522 , MO AMEEN , M0 YAKUB , SHRAVASTI , 14/05/1972 , 7388330486

57 G2702124 , PRD27754 , AJAY KUMAR , RAM GAOPAL , SHRAVASTI , 05/11/1970 , 9473738579

58 G2702062 , PRD27865 , ANNI LAL , NANKAU PRASAD , SHRAVASTI , 01/01/1968 , 8009927276

59 G2702041 , PRD28494 , VINDESWARI PRASAD , RAM SAGAR , SHRAVASTI , 30/06/1976 , 7897201264

60 G2702119 , PRD28929 , JAG RAM , RAINA BABU , SHRAVASTI , 01/01/1977 , 9554230125

61 G2702065 , PRD28943 , LAXMI NARAYAN , RAM FERAN , SHRAVASTI , 15/03/1977 , 9628819259

62 G2702068 , PRD29227 , SURENDRA NATH , TIKORI LAL , SHRAVASTI , 15/06/1976 , 9918948527

63 G2702061 , PRD29233 , YOUGRAJ , RAM FERAN , SHRAVASTI , 16/08/1976 , 7234035643

64 G2702125 , PRD29280 , KALPRAM , BHULI , SHRAVASTI , 19/09/1969 , 8948953828

65 G2702102 , PRD29443 , KUWARE , BATOHI , SHRAVASTI , 01/05/1975 , 9628331218

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 10 May 2021 at 4:50 PM -

prd gilola shravasti

क्रम संख्या नॉमिनल रोल रजिस्टर की क्रम संख्या एप्लीकेशन नं0 स्वयंसेवक का नाम पिता का नाम जिला जन्मतिथि मोबाइल नं0 मंडल स्तर पर की गयी कार्यवाही की स्थिति मुख्यालय स्तर पर की गयी कार्यवाही की स्थिति




19 G2701003 PRD12055 AWDHESH KUMAR GUPTA CHHOTE LAL SHRAVASTI 01/09/1970 0000000000 Pending Pending

17 G2701004 PRD12049 RAM ABHILAKH RAM AASRE SHRAVASTI 01/02/1966 8528543693 Pending Pending

3
8 G2701006 PRD14444 BABA DEEN FAKEER MOHAMMED SHRAVASTI 15/11/1972 9580150367 Pending Pending

81 G2701007 PRD25216 KAMTA PRASAD RAM DULARE SHRAVASTI 05/03/1970 9918249251 Pending Pending

10 G2701012 PRD11654 NARENDRA KUMAR RAM CHABEEL SHRAVASTI 03/11/1966 9125097920 Pending Pending

83 G2701015 PRD26874 RAM NARESH LAXMAN PRASAD SHRAVASTI 01/11/1967 8052796480 Pending Pending

3
0 G2701021 PRD14181 HANUMAN PARSAD AYODHYA PRASAD SHRAVASTI 03/01/1965 8874164440 Pending Pending

3
4 G2701023 PRD14187 HARIRAM RAAM DAS SHRAVASTI 01/07/1965 9554687761 Pending Pending

68 G2701027 PRD15383 VRIKSHRAM RAM PYARE SHRAVASTI 20/07/1995 8052897826 Pending Pending

78 G2701028 PRD21021 RAM UDIT BAAUR SHRAVASTI 03/04/1964 8052816875 Pending Pending

18 G2701030 PRD12051 CHHABI ... LAL RAMDAS SHRAVASTI 01/09/1971 9554901305 Pending Pending

25 G2701031 PRD13445 VINAY KUMAR SINGH VIJAY BAHADUR SINGH SHRAVASTI 01/01/1967 9548634584 Pending Pending

26 G2701032 PRD13446 RAM CHARAN URF SANTRAM SAHAJ RAM SHRAVASTI 01/02/1967 9793571242 Pending Pending

3
9 G2701033 PRD14447 AALAM KHAN BASANT KHAN SHRAVASTI 01/01/1972 9792164374 Pending Pending

44 G2701042 PRD14877 SAYAM LAL CHELA RAM SHRAVASTI 30/03/1963 8960918493 Pending Pending

49 G2701051 PRD14924 SHIV GIRI GOSWAMI JHALTAN GIRI SHRAVASTI 21/11/1966 9076828470 Pending Pending

28 G2701052 PRD13448 RFEEK AHAMAD DHANNI BAJ SHRAVASTI 11/08/1970 7398158794 Pending Pending

3
5 G2701057 PRD14188 DATA RAM CHOTE LAL SHRAVASTI 05/09/1972 8953258721 Pending Pending

42 G2701058 PRD14808 RAM SUDHAVAN SAHAJ RAM SHRAVASTI 20/10/1975 9793911787 Pending Pending

89 G2701061 PRD28460 RAM RASILE URF RAJENDRA MOHAN LAL SHRAVASTI 10/07/1972 6390663682 Pending Pending

82 G2701067 PRD25728 ASHOK KUMAR TIWARI SHOBHA RAM TIWARI SHRAVASTI 10/08/1967 9838115990 Pending Pending

65 G2701068 PRD15367 NAVI MOHMMAD SAFI MOHMMAD SHRAVASTI 08/10/1975 9455043109 Pending Pending

43 G2701069 PRD14876 BUDHI SAGAR DAYARAM SHRAVASTI 20/07/1965 8874024894 Pending Pending

70 G2701076 PRD17813 SARVAN KUMAR PARAS NATH SHRAVASTI 20/02/1973 9129450087 Pending Pending

75 G2701088 PRD20613 DAMODAR NATHA SHARMA NARSINGH NARAYAN SHRAVASTI 15/11/1969 9792260651 Pending Pending

12 G2701091 PRD12002 JILEDAR TIWARI RAMRAJ TIWARI SHRAVASTI 02/07/1970 7080410394 Pending Pending

94 G2701092 PRD29144 INDAL KUMAR JAGDEV SHRAVASTI 25/01/1968 7275030648 Pending Pending

54 G2701094 PRD15049 ANJANI KUMAR SHUKLA ANIRUDH PRASAD SHRAVASTI 01/01/1972 8417051810 Pending Pending

93 G2701100 PRD29036 SHIV SANKAR LAL ANGNU RAM SHRAVASTI 15/08/1972 7310261304 Pending Pending

3
1 G2701107 PRD14182 SOBHA RAM NANHU SHRAVASTI 20/09/1979 6391850052 Pending Pending

23 G2701110 PRD13200 VIJAY RAJ JHAGRU PRASAD SHRAVASTI 01/03/1977 7388488250 Pending Pending

46 G2701112 PRD14879 RAJENDRA PRASAD HANUMAN PRASAD SHRAVASTI 20/08/1978 9792119281 Pending Pending

20 G27011134 PRD12057 FAUJDAR DUKHRAM SHRAVASTI 01/07/1966 7043567043 Pending Pending

87 G2701116 PRD28411 MITTHU LAL RAM FERAN SHRAVASTI 01/01/1975 9792260651 Pending Pending

45 G2701120 PRD14878 VIVEKANANDA RAM SAGAR SHRAVASTI 30/12/1980 8881953644 Pending Pending

21 G2701121 PRD12765 SHIV SARAN LAL YADAV SANTRAM SHRAVASTI 01/05/1965 9648760193 Pending Pending

51 G2701122 PRD15046 VIJAY KUMAR RAMESWAR PRASAD SHRAVASTI 02/08/1978 9792759247 Pending Pending

40 G2701124 PRD14449 JILEDAR DHOKHE ALI SHRAVASTI 02/01/1965 7317601227 Pending Pending

73 G2701125 PRD20317 TIRATH RAM GURU PARSAD SHRAVASTI 05/06/1974 9792260651 Pending Pending

5 G2701127 PRD11646 ALI AHMAD CHATHAN ALI SHRAVASTI 12/07/1975 8400005034 Pending Pending

11 G2701128 PRD11656 DILIP KUMAR RADHE SHYAM SHRAVASTI 05/11/1975 9305021795 Pending Pending

16 G2701129 PRD12046 DHRAMRJ MAURIY DEENANATH SHRAVASTI 19/01/1976 6391609675 Pending Pending

91 G2701130 PRD28895 BINDRA PRASAD MAHADEV PRASAD SHRAVASTI 30/07/1976 8382929438 Pending Pending

60 G2701131 PRD15064 TILAK RAM RAM SUNDR SHRAVASTI 01/06/1974 7379998048 Pending Pending

62 G2701132 PRD15364 SATAGURU LALLU RAM SHRAVASTI 01/02/1966 6389581374 Pending Pending

66 G2701135 PRD15368 RAM KHELAVAN CHANGURA PARSAD SHRAVASTI 15/01/1980 8601556378 Pending Pending

48 G2701136 PRD14923 RAMESH CHANDRA RAM MANORTH SHRAVASTI 10/08/1971 9918174763 Pending Pending

9 G2701138 PRD11652 MATA PRASAD JHAGARU LAL SHRAVASTI 20/05/1988 9026812091 Pending Pending

52 G2701141 PRD15047 TIRATHRAM SAHAJ RAM SHRAVASTI 01/01/1974 9519448852 Pending Pending

95 G2701148 PRD29153 RADHE SAYAM RAM KKHELAWAN SHRAVASTI 01/07/1966 9415586422 Pending Pending

86 G2701161 PRD27937 SAYAM SUNDAR RAM KHELAWAN SHRAVASTI 01/09/1972 7388034540 Pending Pending

80 G2701162 PRD21125 SUGARIV KUMAR LALU PARSAD SHRAVASTI 07/01/1963 9918746717 Pending Pending

15 G2701164 PRD12040 JAGDAMBA PRASAD PATHAK RAM DHIRAJ SHRAVASTI 01/04/1972 9793376688 Pending Pending

77 G2701165 PRD21017 BITTI DEVI SUNEEL KUMAR SHRAVASTI 24/12/1988 9559822916 Pending Pending

61 G2701167 PRD15065 RAM KARAN UADYRAJ SHRAVASTI 01/07/1987 9621125655 Pending Pending

85 G2701168 PRD27864 MAHESH KUMAR GOVIND PARSAD SHRAVASTI 15/08/1986 9651678424 Pending Pending

63 G2701170 PRD15365 SHOBHA RAM CHHABBA RAM SHRAVASTI 08/03/1985 9519450317 Pending Pending

24 G2701171 PRD13444 RAM NARYAN JAGGU SHRAVASTI 01/01/1985 9892403119 Pending Pending

96 G2701173 PRD29613 BAKE LAL PANDAY DAL SOBHA PANDAY SHRAVASTI 30/06/1978 8795883015 Pending Pending

53 G2701177 PRD15048 ARJUN PRASAD RAM SUMIRAN SHRAVASTI 15/01/1985 9369384897 Pending Pending

3
6 G2701182 PRD14190 LAV KUSH NAMOO PARSAD SHRAVASTI 07/12/1986 9935345036 Pending Pending

22 G2701183 PRD12870 ASHOK KUMAR PURNMACI SHRAVASTI 10/08/1985 7310096930 Pending Pending

7 G2701184 PRD11649 KANDHAI LAL RAM KABIR SHRAVASTI 25/06/1982 9919197756 Pending Pending

8 G2701185 PRD11651 KANDHAI LAL SUBEDAAR SHRAVASTI 16/08/1982 9336746738 Pending Pending

56 G2701185 PRD15051 SUBHAS CHAND RAM LAL SHRAVASTI 09/09/1988 9919514812 Pending Pending

59 G2701185 PRD15063 RAM KHELAVAN CHANGUR SHRAVASTI 01/01/1978 8601556378 Pending Pending

2 G2701188 PRD11589 PANKAJ KUMAR VERMA DUDHI SAGAR VERMA SHRAVASTI 01/05/0188 8318991187 Pending Pending

88 G2701191 PRD28441 SUNEETA DEVI RAMESH KUMAR SHRAVASTI 17/03/1992 8052283941 Pending Pending

71 G2701192 PRD19445 JYOTI CHAKARWARTI SWAMI DAYAL SHRAVASTI 15/08/1990 7524818275 Pending Pending

27 G2701193 PRD13447 KRISHN BAHADUR PATHAK AYODYA PARSAD PATHAK SHRAVASTI 01/01/1984 9453927821 Pending Pending

64 G2701194 PRD15366 RASOOL MOHMAD MO SAFI SHRAVASTI 05/02/1979 6394987568 Pending Pending

41 G2701196 PRD14746 SALEEM NANKAU SHRAVASTI 05/02/1972 9621712435 Pending Pending

74 G2701199 PRD20562 SUNIL KUMAR SHREE RAM CHNDRA SHRAVASTI 20/07/1993 9580891232 Pending Pending

3
3 G2701200 PRD14184 CHHEDAN LAL RAM PARGHAT SHRAVASTI 15/06/1964 7460986271 Pending Pending

29 G2701202 PRD13848 VIJAY KUMAR HEERA LAL SHRAVASTI 09/01/1972 9648222103 Pending Pending

3
2 G2701204 PRD14183 JAY PRAKASH VISESAR PRASAD SHRAVASTI 05/04/1976 8601388996 Pending Pending

58 G2701206 PRD15062 RAM KUMAR YADAV PACHU SHRAVASTI 01/03/0972 9005382325 Pending Pending

50 G2701210 PRD15045 GIRJA SANKAR HARDAYAL SHRAVASTI 15/06/1969 7706912233 Pending Pending

79 G2701212 PRD21042 FURT RAM BHUSAILI PARSAD SHRAVASTI 10/02/1970 7054710837 Pending Pending

3
7 G2701213 PRD14442 SHIV KUMAR BHAGIRATH SHRAVASTI 27/04/1972 9161327081 Pending Pending

55 G2701214 PRD15050 MAHESH CHAND SAMAY DEEN SHRAVASTI 06/08/1974 7408978030 Pending Pending

72 G2701215 PRD20316 RANJEET KUMAR RAM CHANDAR SHRAVASTI 01/01/1988 7234951066 Pending Pending

84 G2701218 PRD27525 SARVAN KUMAR SANTRAM SHRAVASTI 30/05/1984 9838501847 Pending Pending

67 G2701223 PRD15376 CHINTA RAM RAM BHAGOLE SHRAVASTI 11/02/1972 9918316148 Pending Pending

92 G2701225 PRD29006 RAM SUNDAR RAM MILAN SHRAVASTI 01/07/1963 8052466597 Pending Pending

6 G2701231 PRD11647 SURESH KUMAR SWAMI DAYAL SHRAVASTI 07/08/1989 9838979163 Pending Pending

90 G2701232 PRD28583 GYAN VATI TRIVENI PRASAD SHRAVASTI 22/01/1983 9919167268 Pending Pending

3
G2701235 PRD11595 RAJESH KUMAR ARYA SHIV PRASAD ARYA SHRAVASTI 04/02/1987 9125717438 Pending Pending

4 G2701236 PRD11604 SAHAJ RAM SESHRAJ SHRAVASTI 10/02/1987 9918000295 Pending Pending

13 G2701237 PRD12016 AAGY RAM RAM DULARE SHRAVASTI 01/01/1990 9838097240 Pending Pending

47 G2701238 PRD14880 DESHRAJ SAHAJ RAM SHRAVASTI 26/03/1988 8756070978 Pending Pending

69 G2701239 PRD15386 SITA RAM RAM CHHABILE SHRAVASTI 02/01/1969 9695239197 Pending Pending

76 G2701241 PRD21015 DEVANDRA KUMAR SOBHA RAM SHRAVASTI 01/01/1986 8874068573 Pending Pending

14 G2701242 PRD12022 SATESH KUMAR MISHRA KAUSLEANDRA PRASAD SHRAVASTI 18/06/1989 9936779589 Pending Pending

1 G2701260 PRD10898 UMESH KUMAR TIWARI MUNNA LAL SHRAVASTI 03/07/1989 6306216915 Pending Pending

57 G270175 PRD15061 RDAHESHYAM MISHRA BUDHI SAGAR MISHRA SHRAVASTI 15/02/1976 7518988530 Pending Pending

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 10 May 2021 at 2:15 PM -

prd ikona shravasti

क्रम संख्या नॉमिनल रोल रजिस्टर की क्रम संख्या एप्लीकेशन नं0 स्वयंसेवक का नाम पिता का नाम जिला जन्मतिथि मोबाइल नं0 मंडल स्तर पर की गयी कार्यवाही की स्थिति मुख्यालय स्तर पर की गयी कार्यवाही की स्थिति

1 G2703220 PRD12350 PESKAR SHARMA BRIJ MOHAN SHRAVASTI 10/07/1970 9696242682 Pending Pending

2 G2703002 PRD12372 TIRATH RAM TEDE SHRAVASTI 20/01/1975 9695074253 Pending Pending

3
G2703088 PRD13326 OM PARKESH ISHWER DEEN SHRAVASTI 15/07/1972 9936992181 Pending Pending

4 G2701133 PRD14185 JARGAM BAG MIJJAN BAG SHRAVASTI 20/01/1968 7460986271 Pending Pending

5 G2703097 PRD14417 RAM DAS RANGAI SHRAVASTI 30/04/1977 9956273331 Pending Pending

6 G2703035 PRD14418 MANI KANT BECHILAL SHRAVASTI 01/06/1973 9651425591 Pending Pending

7 G2703097 PRD14419 RAM VACHAN RANGAI SHRAVASTI 30/08/1972 9919284752 Pending Pending

8 G270340 PRD14420 UDAY RAJ JANGALI SHRAVASTI 10/01/1970 9919135168 Pending Pending

9 G2703016 PRD14421 BACHHA RAJ CHHEDI SHRAVASTI 05/06/1970 7080743496 Pending Pending

10 G2703092 PRD14818 JWALA SINGH FATEHA BAHADUR SINGH SHRAVASTI 31/05/1967 9559785627 Pending Pending

11 G2703090 PRD15372 PARTAP SINGH VIRJVLI SINGH SHRAVASTI 15/07/1974 9698068508 Pending Pending

12 G2703127 PRD15381 CHAKRDHAR MISHRA INDRAJEET ... MISHRA SHRAVASTI 10/09/1972 6392774040 Pending Pending

13 G2703037 PRD16382 PARAS NATH RAM MANORATH SHRAVASTI 01/09/1970 9621724471 Pending Pending

14 G2703164 PRD17929 RAM FERAN GHURHU SHRAVASTI 01/09/1971 9119634252 Pending Pending

15 G2703087 PRD17938 TRIYUGINARAYAN RAMADHAR SHRAVASTI 10/02/1965 9628571261 Pending Pending

16 G2703143 PRD17956 OM PRAKESH SHUKLA SHIV DAYAL SHUKLA SHRAVASTI 01/07/1970 9839301793 Pending Pending

17 G2703082 PRD17976 VIJAY KUMAR ARYA UDAYRAJ SHRAVASTI 08/01/1984 9559814428 Pending Pending

18 G2703148 PRD17991 BACHHA RAM RAM PEYARE SHRAVASTI 01/01/1963 7310111982 Pending Pending

19 G2703217 PRD19503 ARTI MISHRA RAJ KISHOR MISHRA SHRAVASTI 15/01/1993 9918680498 Pending Pending

20 G2703168 PRD20320 ANANT RAM VANSRAJ CHAUHAN SHRAVASTI 05/02/1990 9005090033 Pending Pending

21 G2703047 PRD20738 KUWAR SAHAB SITARAM SHRAVASTI 17/07/1965 9721392267 Pending Pending

22 G2703055 PRD21007 RAM ROOP MAURYA SWAMI DAYAL SHRAVASTI 01/01/1970 8173834362 Pending Pending

23 G2703122 PRD21009 PEETAMBAR BUJHARAT SHRAVASTI 01/01/1972 9794013226 Pending Pending

24 G2703145 PRD21995 VIJAY KUMAR SUKHLA SUKEE RAM SHRAVASTI 01/09/1966 6388573070 Pending Pending

25 G2703215 PRD22023 PAWAN KUMAR ASRFI LAL SHRAVASTI 15/09/1989 8318873257 Pending Pending

26 G2703214 PRD25307 SHREE DEVI SHYAM SUNDER SHRAVASTI 01/07/1991 7408964595 Pending Pending

27 G2703041 PRD25309 BANSHI LAL BACHCHAN LAL SHRAVASTI 15/05/1973 8874472999 Pending Pending

28 G2703048 PRD25314 TIALK RAM AYODHYA PRASAD SHRAVASTI 10/04/1970 9670748478 Pending Pending

29 G2703084 PRD25317 LAL BAHADUR RAJA RAM SHRAVASTI 01/01/1970 9565751227 Pending Pending

3
0 G2703218 PRD25322 SAHAB ALI NASIR ALI SHRAVASTI 10/07/1970 9918258820 Pending Pending

3
1 G2703049 PRD25326 PRAMOD KUMAR MISHRA INDERAJEET SHRAVASTI 02/05/1966 7408980037 Pending Pending

3
2 G2703029 PRD25335 RAM CHARN AMAR CHAND SHRAVASTI 20/12/1966 9795009597 Pending Pending

3
3 G2703167 PRD25338 SHES RAM BANSRAJ SHRAVASTI 01/07/1982 7266077411 Pending Pending

3
4 G2703082 PRD25352 MEWA LAL SOBHA RAM SHRAVASTI 05/05/1986 9695347245 Pending Pending

3
5 G2703212 PRD25371 RAJ KUMAR BHAGAUTI PRASAD SHRAVASTI 15/05/1974 9956791872 Pending Pending

3
6 G2703146 PRD25456 LAKHAN LAL SUKAEE RAM SHRAVASTI 01/01/1968 8355095911 Pending Pending

3
7 G2703147 PRD25476 OM KAR NATH RAMSUMER SHRAVASTI 01/01/1965 7800012633 Pending Pending

3
8 G2703011 PRD25482 ATAL BIHARI RAM PADARATH SHRAVASTI 01/01/1975 8081159938 Pending Pending

3
9 G2703074 PRD25490 RAM DEEN RAM PAT SHRAVASTI 01/01/1973 6391213243 Pending Pending

40 G2703213 PRD25499 SADHU RAM RAM DULARE SHRAVASTI 20/08/1990 9336385598 Pending Pending

41 G2703001 PRD27404 GARD BABU MISHRA RAM SUMIRAN SHRAVASTI 01/10/1964 9919133591 Pending Pending

42 G2703219 PRD27410 MANI RAM BABA DEEN SHRAVASTI 03/05/1968 8115530873 Pending Pending

43 G2703142 PRD27853 TRIYUGIB NARAYAN MAHADEV SHRAVASTI 15/12/1968 7703851822 Pending Pending

44 G270 PRD27857 RAM BARAN MISHRA BHAGAUTI PRASAD SHRAVASTI 12/01/1970 6390822164 Pending Pending

45 G270 PRD27929 RAJ KISHOR RAM SUCHIT SHRAVASTI 01/07/1967 7275624627 Pending Pending

46 G2703061 PRD28071 RITURAJ GARD BABU SHRAVASTI 08/06/1990 9956924918 Pending Pending

47 G2703202 PRD28181 ARJUN PRASAD JAMUNA PRSASAD SHRAVASTI 01/04/1972 7607927420 Pending Pending

48 G2703011 PRD28357 DEV KUMAR SHUKLA RAM NIWAS SHUKLA SHRAVASTI 06/04/1982 9919166037 Pending Pending

49 G2703036 PRD28486 CHHEDI RAM JHAGRU SHRAVASTI 10/03/1976 7054586942 Pending Pending

50 G2703042 PRD28967 JAGDAMBA PRASAD SAHAJ RAM SHRAVASTI 10/03/1975 7380520721 Pending Pending

51 G2703014 PRD28984 HARIDAWAR CHHOTTAN SHRAVASTI 01/01/1972 9648865464 Pending Pending

52 G2703052 PRD29173 ANANT RAM CHAUDHARI SHRAVASTI 01/01/1971 8090109426 Pending Pending

53 G2703054 PRD29189 RAM SAGAR JAGAT RAM SHRAVASTI 01/01/1970 7521913200 Pending Pending

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 08 May 2021 at 3:42 PM -

prd bahraich 10209 से 10899 तक

क्रम संख्या, एप्लीकेशन नं0, स्वयंसेवक का नाम, पिता का नाम, माता का नाम, जन्मतिथि, लिंग, श्रेणी, लम्बाई(सेमी0), सीना(सेमी0), शिक्षा, विशेष योग्यता, पोस्ट/पद, आधार नं0, पैन नं0,

298 PRD10209 SITAARAM MOLHE CHOURASA 01/07/1967 MALE SC 165 86 5 PASS --Select-- RAKSHAK 303235025535 -NA
299 PRD10219 AMIT PANDEY HARI ... PARKASAH PANDEY GAYATRI DEVI 07/08/1981 MALE GENERAL 175 89 12 PASS --Select-- RAKSHAK 273398096244 -NA
3
00 PRD10227 ANURAG PANDEY HARI PRAKASH PANDEY GAYTRI DEVI 17/06/1978 MALE GENERAL 170 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 311325559136 -NA
3
01 PRD10239 RAM NATH DAYA RAM KALAVATI 01/01/1970 MALE GENERAL 170 94 8 PASS --Select-- RAKSHAK 315241247174 -NA
3
02 PRD10251 RAM UDIT BUDHRAM CHOUTKA 01/08/1975 MALE SC 170 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 369354614415 -NA
3
03 PRD10264 TILAK RAM CHANDRIKA PRASAD MANJU 10/08/1985 MALE OBC 174 89 12 PASS --Select-- RAKSHAK 736426854872 -NA
3
04 PRD10268 NAND KISHOR AYODHYA PRASAD SHYAMTA 15/08/1983 MALE OBC 170 82 12 PASS --Select-- RAKSHAK 203731793307 -NA
3
05 PRD10274 DUKHELAL PAIRU RAMAVATI 11/06/1987 MALE SC 168 91 10 PASS --Select-- RAKSHAK 679365424581 -NA
3
06 PRD10278 MAYARAM SONKAR RAM SURAT JAYKALA DEVI 15/03/1987 MALE SC 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 457641166310 -NA
3
07 PRD10282 AMRESH BANVARILAL PHOOLMATI 01/01/1969 MALE SC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 769796680843 -NA
3
08 PRD10287 GAURI SHANKAR RAM KHELAVAN RAKHI DEVI 08/10/1986 MALE SC 168 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 379685256181 -NA
3
09 PRD10292 VEERENDRA KUMAR RATTI RAM SANGEETA DEVI 15/01/1992 MALE SC 173 95 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 699599407388 -NA
3
10 PRD10298 MAHESH MAST RAM MUNNI DEVI 01/01/1980 MALE SC 168 90 8 PASS -NA- RAKSHAK 630266146776 -NA-
3
11 PRD10302 PYARE LAL SANTRAM MEERA 01/01/1972 MALE ST 168 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 914972314694 -NA
3
12 PRD10305 JANAKI PRASAD PUTTI LAL KABUTRA 01/01/1977 MALE SC 168 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 579206872417 -NA
3
13 PRD10310 VIKRAM PRASAD SONKAR SWAMI DAYAL JALWARSA 10/08/1991 MALE SC 168 90 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 749531844187 -NA
3
14 PRD10314 LALJI PRASAD CHEDI LAL DEVI 01/05/1968 MALE SC 167 91 10 PASS --Select-- RAKSHAK 594355070578 -NA
3
15 PRD10318 RAM KUMAR MAIKULAL RANI DEVI 01/01/1971 MALE SC 168 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 704385986497 -NA
3
16 PRD10320 CHANDRSHEKHAR ORI LAL PATHAK JANAK DULARI 20/05/1966 MALE GENERAL 169 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 672619985077 -NA
3
17 PRD10326 MALTI PATHAK INDRAJEET PATHAK KAMLA DEVI 01/01/1962 MALE GENERAL 166 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 682801956198 -NA
3
18 PRD10333 RAJESH KUMAR MISHRA KAMLAKANT CHANDRA KANTI 06/05/1973 MALE GENERAL 168 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 391930105460 -NA
3
19 PRD10337 UDAYRAJ LALLU PRASAD SHAKUNTALA DEVI 15/01/1988 MALE SC 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 756576962642 -NA
3
20 PRD10343 VIJAY KUMAR RAM CHANDAR KATHKEI DEVI 25/12/1966 MALE SC 168 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 820939200874 -NA
3
21 PRD10345 TEERATHRAM RUDENDRA PRASAD KAMLA DEVI 16/08/1971 MALE GENERAL 169 93 10 PASS --Select-- RAKSHAK 464088124920 -NA
3
22 PRD10347 VIRENDRANATH PATHAK SURENDRA MANI PATHAK KRISHNA KUMARI 25/03/1970 MALE GENERAL 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 518159630413 -NA
3
23 PRD10348 RAKESH KUMAR DEVARAM MANGLA DEVI 15/01/1983 MALE SC 168 93 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 501054257232 -NA
3
24 PRD10350 KRIPARAM BADLU KATHKEI 15/02/1978 MALE SC 167 90 5 PASS --Select-- RAKSHAK 472304425625 -NA
3
25 PRD10353 BASANT LAL BADKAU RAMKALA DEVI 15/01/1974 MALE SC 169 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 522776671878 -NA
3
26 PRD10355 NAIM KHAN NAJEEB KHAN RAHISA 03/06/1966 MALE GENERAL 168 91 10 PASS --Select-- RAKSHAK 881532437112 -NA
3
27 PRD10360 DHARAM RAJ MAURYA RAM SAGAR SUMAN DEVI 21/02/1967 MALE OBC 171 90 10 PASS -NA- RAKSHAK 744634993079 -NA-CWRPD4816L
3
28 PRD10388 CHHOTE LAL SUDEEN SHURSATI 05/07/1969 MALE SC 168 85 8 PASS --Select-- RAKSHAK 957190521770 -NA
3
29 PRD10391 ONKAR KANAUJI PRASAD KANI 25/07/1972 MALE GENERAL 170 95 5 PASS --Select-- RAKSHAK 3226506416087 -NA
3
30 PRD10395 RAM NARESH BHAGAUTI LAL KIRAN 12/04/1972 MALE OBC 170 89 8 PASS --Select-- RAKSHAK 694445473178 -NA
3
31 PRD10405 MUBARAK ALI ALI HASAN MAHUDHA 01/07/1978 MALE SC 161 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 936149669192 -NA
3
32 PRD10408 JAVIR ALI ALI HASAN MALUDHA 01/06/1972 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 864581010159 -NA
3
33 PRD10413 ISHVAR CHANDRA BADRI PAWARA 03/08/1984 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 717727159120 -NA
3
34 PRD10418 RAJU KUMAR VERMA FAOJDAR VERMA LEELAVATI 01/02/1984 MALE OBC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 223851693757 -NA
3
35 PRD10423 JAGDISH PRASAD VERMA FAUJDAR LEELAVATI 25/03/1981 MALE SC 170 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 885683522115 -NA
3
36 PRD10425 AJAD KHAN HABIBUL ANWARI BEGUM 10/08/1974 MALE GENERAL 170 93 8 PASS --Select-- RAKSHAK 541076085301 -NA
3
37 PRD10429 MAKBOOL RAHMAT ALI HASEENA BEGUM 01/01/1972 MALE SC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 796668599567 -NA
3
38 PRD10433 MATHURA PRASAD ANTAHAWA PHULANGA 02/09/1970 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 310834249661 -NA
3
39 PRD10439 MUHAMAD SARIF AMEEN ISLAMAN 20/07/1971 MALE OBC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK -NA JVQPS7320B
3
40 PRD10442 MONIKA DEVI KRISHNA MOHAN PARVATI DEVI 25/08/1990 FEMALE SC 158 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 854006895525 GQZPD7910R
3
41 PRD10446 BHONA PRASAD RAMDHANI KAUSHALIYA 21/11/1969 MALE SC 171 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 320451974135 -NA
3
42 PRD10452 AMARJIT CHHOTE LAL BUDHMA 23/01/1972 MALE SC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 271390175720 -NA
3
43 PRD10458 JAGADISH PRASAD RAMESHWAR PRASAD KRISHNA VATI 20/05/1987 MALE SC 170 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 357289237179 -NA
3
44 PRD10463 VINAY PRAKASH RAM ROOP ROJHINI DEVI 07/07/1975 MALE SC 167 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 626867552929 -NA
3
45 PRD10467 DAYARAM RAM SARAN PRANPATI 15/12/1969 MALE SC 171 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 492019080408 -NA
3
46 PRD10469 JANG BAHADUR BABU RAM KALAVATI 04/07/1986 MALE SC 169 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 272260714005 -NA
3
47 PRD10473 MOHAMMAD IJARAIL MOHAMMAD AMEEN AMIRUN NISA 18/10/1972 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 384954163692 -NA
3
48 PRD10477 PRAMOD KUMAR KHILAWAN RAMA 01/01/1984 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 212119323582 -NA
3
49 PRD10480 PYAARE LAL BANESHVAR JADORAM 05/08/1988 MALE SC 170 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 584073121532 -NA
3
50 PRD10481 OMKAR YADAV ARM MILAN KLAWATI 01/01/1983 MALE OBC 170 87 8 PASS --Select-- RAKSHAK 202618958832 -NA
3
51 PRD10484 SHYAM LAL RAM ARSE SARJU DEI 01/02/1964 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 602634485706 -NA
3
52 PRD10485 AMBAR LAL RAM NARAYAN LAKHPATA 20/07/1972 MALE --Select-- 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 478151432951 -NA
3
53 PRD10487 SABIR ALI SAHANUR SUGHRA 01/03/1972 MALE GENERAL 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 366364926678 -NA
3
54 PRD10491 GULAM HUSSAIN BHOLA KHATOON 01/01/1969 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 333875691970 -NA
3
55 PRD10492 JAYABAHADUR AMRIT LAL SUNI DEVI 09/01/1976 MALE SC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 598848354008 -NA
3
56 PRD10494 SHIVDHARI SHYAMBALI JANKI 25/07/1976 MALE GENERAL 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 362880931421 -NA
3
57 PRD10496 MUNNA LAL JOKHAN CHANDRA RANI 01/01/1978 MALE OBC 172 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 635505356327 AXVPL3201C
3
58 PRD10498 P.R.D CARD RAMLAKHAN RAMAVATI 12/01/1977 MALE SC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 525360860558 -NA
3
59 PRD10499 SHAMBHU NATH YADAV VAIJ NATH ACHALA 02/01/1977 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 949903474576 -NA
3
60 PRD10502 CHATU PRASAD SHIV NAYARAN PRABHATI DEVI 12/06/1987 MALE SC 170 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK -NA EUJPP6217H
3
61 PRD10503 JITENDRA DALPAT KUVARI DEVI 01/01/1983 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 492467795148 -NA
3
62 PRD10504 ASHOK KUMAR YADAV RAM AUTAR YADAV RADHA DEVI 01/01/1976 MALE SC 168 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 222076824541 -NA
3
63 PRD10506 RAJU KUSHIRAM VANDHYA DEVI 01/10/1993 MALE SC 170 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 813391610710 -NA
3
64 PRD10508 RAMFERAN TEJI URMILA DEVI 15/04/1984 MALE SC 170 94 8 PASS --Select-- RAKSHAK 381731024054 -NA
3
65 PRD10509 KMATA PRASAD DUJAI CHMAYALA 12/06/1982 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 433759918381 -NA
3
66 PRD10512 SANJAY KUMAR SWAMI DEEN PRABHA DEVI 15/04/1983 MALE GENERAL 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 797450152639 -NA
3
67 PRD10563 MANOJ KUMAR MILKI RAM KALAVATI 05/11/1977 MALE SC 168 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 574059981776 -NA
3
68 PRD10572 RAM ASHISH BRNIRAM TAJT DEVI 30/07/1974 MALE OBC 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 862617798696 -NA
3
69 PRD10580 SHUSHEELA DEVI BACHU LAL RAM RANI 02/07/1980 FEMALE GENERAL 158 95 8 PASS --Select-- RAKSHAK 598525412205 -NA
3
70 PRD10588 SHOBHARAM BAIJNATH BAIJA 01/01/1974 MALE SC 172 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 802093448804 -NA
3
71 PRD10599 ANAND PRAKASH MISHRA VINDHESHWARI PRASAD JAJAK DULARE 01/07/1965 MALE GENERAL 170 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 356790956987 -NA
3
72 PRD10609 AVADESH KUMAR MISHRA SHIV CHAKAR BHOLA DEVI 15/10/1965 MALE GENERAL 168 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 426030780477 -NA
3
73 PRD10615 NAND KUMAR SHIV CHAKAR BHOLA DEVI 13/02/1969 MALE GENERAL 170 91 10 PASS --Select-- RAKSHAK 765833761510 -NA
3
74 PRD10624 SANTOSH KUMAR MISHRA RAM NARESH CHUNMUNI 25/05/1981 MALE GENERAL 169 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 416239861559 -NA
3
75 PRD10627 RAM PRASAD SONKAR SANTRAM SHIV RANI 10/01/1989 MALE SC 167 89 10 PASS --Select-- RAKSHAK 293953941404 -NA
3
76 PRD10632 NANKE FATE BACHANA 01/01/1975 MALE SC 170 91 5 PASS --Select-- RAKSHAK 797228826167 -NA
3
77 PRD10637 HARIPRASAD RAM ADHAR SHANTI DEVI 25/07/1972 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 622279937995 -NA
3
78 PRD10643 HANUMAN PRASAD PYAARE LAL PHOOLAN DEVI 01/07/1976 MALE SC 168 94 8 PASS --Select-- RAKSHAK 414155076788 -NA
3
79 PRD10648 LALLAN RAM BAHADUR LEELAVATI 05/05/1972 MALE GENERAL 170 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 802510901543 -NA
3
80 PRD10651 RAJ KUMAR SONKAR RAM KUMAR SONKAR RAMA DEVI 05/09/1990 MALE SC 170 90 GRADUATE COMPUTOR OPERATOR RAKSHAK 427390864736 -NA-
3
81 PRD10653 SUNEEL KUMAR SINGH SIDDHA NATH SINGH MALTI DEVI 13/07/1976 MALE GENERAL 167 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 729689021121 -NA
3
82 PRD10656 NAND KUMAR VERMA BABURAM JAGDAMBA 01/01/1969 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 848201733289 -NA
3
83 PRD10662 NARENDRA KUMAR PHULERAM MANJU DEVI 25/06/1987 MALE SC 169 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 913960220038 -NA
3
84 PRD10665 JHANNU NIRAHOO VIDHA DEVI 01/01/1963 MALE SC 170 92 5 PASS --Select-- RAKSHAK 887484234975 -NA
3
85 PRD10672 NARESH MANGARE BADKAI Invalid date MALE SC 168 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 987287411631 -NA
3
86 PRD10677 RAM KEWAL NANKU SUNITA Invalid date MALE SC 168 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 878708306266 -NA
3
87 PRD10684 KAILASH NATH RAM SAGAR RAG PATA 02/05/1970 MALE SC 170 89 5 PASS --Select-- RAKSHAK 596430453464 -NA
3
88 PRD10696 RAM FERAN BHAGUTI KAMLA DEVI 10/12/1966 MALE SC 168 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 956018823294 -NA
3
89 PRD10700 RAM CHANDAR RAM CHABILE SHANTI DEVI 01/07/1979 MALE SC 167 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 732086972640 -NA
3
90 PRD10728 BALAMUKUND GANASH DATT MOHAR BASA 01/01/1872 MALE GENERAL 175 90 8 PASS DRIVER RAKSHAK 263962104884 -NA
3
91 PRD10745 MANOJ KUMAR HANUMAN RAMPIYARI 24/02/1998 MALE SC 178 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 858056653858 -NA
3
92 PRD10757 FULMATI DEVI RAKSHARAM SUMAN 09/08/1990 FEMALE SC 158 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 481867041350 -NA
3
93 PRD10762 PREM SAGAR PANDEY NURANGI LA;L SANITI DEVI 15/01/1962 FEMALE GENERAL 167 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 481245108307 -NA
3
94 PRD10764 ALAKH NIRANJAN TRIPATHI RAM NAYARAN INDRANI DEVI 31/10/1965 MALE GENERAL 168 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 914756645484 -NA
3
95 PRD10768 RAM TEJ RAM KEVAL CHANDRA 03/02/1985 MALE SC 169 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 789356095256 -NA
3
96 PRD10772 BRIJ KISHOR PANDEY RAM KISHUN PANDEY JAGATHEYI 01/06/1962 MALE GENERAL 172 95 8 PASS --Select-- RAKSHAK 482023902855 -NA
3
97 PRD10773 RAM BAJAN RAM FERAN JUNI DEVI 01/10/1965 MALE SC 168 91 8 PASS --Select-- RAKSHAK 260838369512 -NA
3
98 PRD10876 KAILASH AURI LAL SUNITA DEVI 15/10/1968 MALE SC 168 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 258554240549 -NA
3
99 PRD10892 RIKKHIRAM RAM KUMAR MUNNI DEVI 03/06/1972 MALE SC 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 584037698425 -NA
400 PRD10899 EIKKHIRAM RAM KUMAR MUNI DEVI 03/06/1972 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 584037698425 -NA

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 08 May 2021 at 1:50 PM -

prd bahraich 7741 से 8478 तक

क्रम संख्या, एप्लीकेशन नं0, स्वयंसेवक का नाम, पिता का नाम, माता का नाम, जन्मतिथि, लिंग, श्रेणी, लम्बाई(सेमी0), सीना(सेमी0), शिक्षा, विशेष योग्यता, पोस्ट/पद, आधार नं0, पैन नं0,

1 PRD7741 SHAUKAT ALI ABDUL RAHMAN KAALAWATI 01/01/1968 MALE GENERAL 167 80 GRADUATE -NA- RAKSHAK 505760429646 BURPA4793G

2 PRD7745 RAJENDRA SINGH ... VIJAY BAHADUR SINGH MAHARAJ KUNWAR 13/07/1967 MALE GENERAL 170 82 10 PASS DRIVER RAKSHAK 975321623308 MTIPS6829J

3
PRD7757 AVDHESH KUMAR KRIPA RAM TIWARI YASHODA DEVI 01/07/1979 MALE GENERAL 172 90 12 PASS -NA- RAKSHAK 842406750531 -NA-

4 PRD7758 DATA RAM RAM DATT KANCHANA DEVI 01/01/1974 MALE OBC 169 88 8 PASS -NA- RAKSHAK 323106149144 -NA-

5 PRD7891 KAMLESH KUMAR ARYA SHREE RAM ARYA JAYVASA 10/07/1980 MALE SC 172 105 12 PASS -NA- RAKSHAK 885737399248 CBKPK8879C

6 PRD7956 LAL KUMARI MAUJI LAL BISARI DEVI 15/08/1990 FEMALE ST 158 36 GRADUATE COMPUTOR OPERATOR RAKSHAK 356097681627 JDEPK0710D

7 PRD7974 ONKAR SINGH SHARDA PRASAD SINGH KAMINI SINGH 30/01/1980 MALE GENERAL 170 90 12 PASS --Select-- RAKSHAK 773767139650 -NA

8 PRD7981 CHARAN JEET ASHA RAM YADAV PYARA DEVI 12/03/1981 MALE OBC 167 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 788682192798 CFMPG5067H

9 PRD8003 ASHA RAM YADAV SWAMI DAYAL YADAV SAWAARA DEVI 05/03/1976 MALE OBC 167 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 439442950948 ATQPY7664K

10 PRD8013 KULDEEP KUMAR PATHAK SOHAN LAL PATHAK PREM SUNDARI DEVI 01/06/1983 MALE GENERAL 182 95 POST GRADUATE DRIVER RAKSHAK 617943556478 -NA

11 PRD8020 JILA JEET SINGH RAM SEWAK SINGH MITHILESH SINGH 30/05/1990 MALE GENERAL 182 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 772122729737 -NA

12 PRD8022 SUNEEL KUMAR MISHRA VISHWAMBHAR DATT MISHRA GYANVATI DEVI 02/07/1970 MALE GENERAL 165 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 635148487540 -NA

13 PRD8023 MATA PRASAD MAHADEV PRASAD BACHCHU DEVI 01/01/1962 MALE OBC 175 90 5 PASS LOHAAR RAKSHAK 597039174796 -NA

14 PRD8024 SWAMI DEEN BENCHU SUMAN DEVI 22/02/1965 MALE SC 165 90 5 PASS --Select-- RAKSHAK 5531 -NA

15 PRD8025 VINAY KUMAR BHARAT CHAMPA DEVI 27/04/1981 MALE SC 165 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 341928537884 -NA

16 PRD8028 ANEESH AHMAD HAMEED SHAHNAAZ 01/01/1977 MALE OBC 167 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 318542285787 -NA

17 PRD8030 MOLAHE BALESHWAR RAJPATAA 12/02/1977 MALE SC 170 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 956771237370 -NA

18 PRD8032 ALI AHMAD MUBARAK ALI JAIBUNNISHA 01/01/1964 MALE OBC 177 100 5 PASS --Select-- RAKSHAK 358455547353 -NA

19 PRD8035 JAKIR HUSAIN YUNUS HALIMA 28/04/1984 MALE OBC 175 100 8 PASS --Select-- RAKSHAK 854018149919 -NA

20 PRD8037 HANUMAN PRASAD RANGI LAL 01/04/1981 MALE GENERAL 169 89 8 PASS -NA- RAKSHAK 263966456313 -NA-

21 PRD8038 RAJ KUMAR BHARAT SHANTI DEVI 13/07/1973 MALE SC 171 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 813785851976 -NA

22 PRD8039 SABIR ALI SAKHAVAT ALI BATULA 16/10/1974 MALE OBC 167 90 5 PASS --Select-- RAKSHAK 322027890035 -NA

23 PRD8226 RAJENDRA KUMAR DAYA RAM SHAKUNTALA DEVI 01/03/1968 MALE SC 150 87 8 PASS -NA- RAKSHAK 575855222360 HZRPK0878K

24 PRD8227 MEENA BUDH RAM DAGNI DEVI 01/01/1989 MALE SC 140 75 POST GRADUATE -NA- RAKSHAK 965011112676 -NA-

25 PRD8232 SURESH PRATAP SINGH RAM PAL SINGH USHA SINGH 01/01/1967 MALE GENERAL 170 92 10 PASS -NA- RAKSHAK 667950020022 -NA-

26 PRD8234 PRADEEP KUMAR RAM DEV TIWARI RAJESHWARI DEVI 01/01/1976 MALE GENERAL 170 92 10 PASS -NA- RAKSHAK 362080936256 -NA-

27 PRD8235 MANOJ KUMAR TRILOKI NATH RAM KUMARI 20/06/1974 MALE GENERAL 166 92 5 PASS --Select-- RAKSHAK 278167685507 -NA

28 PRD8236 AMAR PRATAP SINGH RAMESHWAR BAX SINGH SHRIMARI LILAVATI 14/06/1966 MALE GENERAL 166 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 906883888629 -NA

29 PRD8237 KRISHNA SHARAN AWASTHI RADHESHYAM VIDYAVATI 01/01/1971 MALE GENERAL 176 90 8 PASS -NA- RAKSHAK 578585201356 -NA-

3
0 PRD8239 RAM PRASAD NAGE RAM MAHINA DEVI 15/05/1981 MALE SC 170 95 10 PASS -NA- RAKSHAK 257473292202 -NA-

3
1 PRD8241 LALLAN JAGANNATH SONA DEVI 14/05/1974 MALE OBC 170 92 5 PASS --Select-- RAKSHAK 235802133425 -NA

3
2 PRD8242 RAM PAL GUPTA AYODHYA PRASAD MALTI DEVI 05/09/1968 MALE SC 165 94 10 PASS --Select-- RAKSHAK 682857078245 -NA

3
3 PRD8244 PRADEEP KUMAR GAREEB DAS KALAVATI 01/07/1987 MALE SC 170 95 10 PASS -NA- RAKSHAK 662901038948 DABPK2861K

3
4 PRD8245 RAGHAV RAM ASHA RAM MUNNI DEVI 01/01/1965 MALE GENERAL 170 94 12 PASS --Select-- RAKSHAK 387290250756 -NA

3
5 PRD8247 RAM KUMAR KUSH BHAUNA URMILA 01/01/1983 MALE SC 176 94 10 PASS --Select-- RAKSHAK 469622642057 -NA

3
6 PRD8249 RAJENDRA PRASAD KRIPA RAM BRIJRANI 09/05/1970 MALE OBC 170 90 10 PASS -NA- RAKSHAK 739745828152 -NA-

3
7 PRD8261 RAMESH CHANDRA SHARMA MANGAL PRASAD SHARMA LATE. HEERA DEVI 30/09/1972 MALE GENERAL 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 375306703245 AZZPR7390A

3
8 PRD8268 ANANT RAM RADHEY SHYAM SAVITRI DEVI 01/07/1977 MALE GENERAL 165 95 8 PASS -NA- RAKSHAK 885395343304 ATDPR8798Q

3
9 PRD8275 GHAN SHYAM NAAN MOON RAM DULARI 01/01/1988 MALE OBC 180 95 12 PASS -NA- RAKSHAK 845195932171 -NA-

40 PRD8277 FATEH BAHADUR URF DHOKHE RAM JEEVAN LAL SAVITRI DEVI 01/01/1973 MALE GENERAL 168 92 8 PASS -NA- RAKSHAK 438722760499 -NA-

41 PRD8280 RAM SURESH PUTTI PATRKA 01/01/1967 MALE SC 168 94 8 PASS --Select-- RAKSHAK 372019722824 -NA

42 PRD8282 BADLU RAM PANDEY DAKSHINA PRASAD HANS PATI 15/06/1973 MALE GENERAL 165 92 8 PASS -NA- RAKSHAK 699349961045 -NA-

43 PRD8285 MAHESH KUMAR PATHAK SIYARAM PATHAK KRISHNA DEVI PATHAK 13/06/1984 MALE GENERAL 175 95 POST GRADUATE COMPUTOR OPERATOR RAKSHAK 483594841688 BQRPP4024R

44 PRD8287 VIJAY KUMAR RAM RAJ TIWARI MUNNI DEVI 06/06/1973 MALE GENERAL 172 95 12 PASS --Select-- RAKSHAK 593944004404 -NA

45 PRD8291 SHOBHA RAM RAM CHHABILE MALTI 01/07/1966 MALE OBC 168 92 10 PASS -NA- RAKSHAK 674828520621 -NA-

46 PRD8293 BRIJ MOHAN AYODHYA PRASAD RAJ KUMARI 01/03/1962 MALE OBC 175 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 745794545517 -NA

47 PRD8296 RAM SHANKAR RAM SAMUJH MAHARAJA DEVI 08/07/1976 MALE SC 166 93 10 PASS --Select-- RAKSHAK 991206367002 -NA

48 PRD8298 HARI RAM GUPTA ASHARFI LAL MUNNI 01/08/1967 MALE SC 168 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 554006161643 -NA

49 PRD8299 SURESH KUMAR TIWARI SHANKAR LAL TIWARI SAVITRI DEVI 01/01/1989 MALE GENERAL 168 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 642257632260 -NA

50 PRD8300 RAM BHARAT RAM KUNWAR MAHESHIYA DEVI 05/08/1990 MALE OBC 175 95 12 PASS RAKSHAK 341866507789 -NA-

51 PRD8303 SOM NATH BADLU RAM RAM SAWARI DEVI 01/01/1972 MALE OBC 168 95 8 PASS -NA- RAKSHAK 444552215683 -NA-

52 PRD8305 DEV NAYARAN KALP NATH TIWARI SON PATI 01/09/1973 MALE GENERAL 168 93 10 PASS -NA- RAKSHAK 995240911762 -NA-

53 PRD8307 DAL JEET PRASAD RAM BALI RAM RANI 13/08/1969 MALE SC 170 95 10 PASS -NA- RAKSHAK 437219655878 FRIPP0898H

54 PRD8308 SURENDRA NATH MANGAL PRASAD SHANKRA DEVI 05/09/1996 MALE SC 168 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 666201871396 -NA

55 PRD8309 APRESH KUMAR MSHRA BACHHRAJ MISHRA RAM RANI 15/09/1969 MALE GENERAL 145 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 525089690098 GHVPM2335A

56 PRD8313 DINESH KUMAR RAM UJAGAR PARVATI DEVI 10/08/1981 MALE SC 168 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 913661255862 -NA

57 PRD8316 SANTOSH KUMAR MOHAN LAL MITHLESH DEVI 15/06/1975 MALE GENERAL 168 95 10 PASS --Select-- RAKSHAK 966463832149 HQPPK5184M

58 PRD8319 CHHATRA PAL TRIPATHI CHNDR SHEKKHR SONI TRIPATHI 15/01/1966 MALE GENERAL 168 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 638978916963 -NA

59 PRD8326 HARI KISHAN MATHURA PRASAD RAM RATI 01/01/1976 MALE SC 165 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 672417708561 -NA

60 PRD8328 PREM NAYARAN RAM FERAN SUBADHRA DEVI 16/08/1974 MALE OBC 170 95 10 PASS --Select-- RAKSHAK 889721615013 -NA

61 PRD8330 INDRASEN GOSWANI HAZARI LAL GOSWAMI DHANPATA 05/07/1968 MALE SC 168 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 266824557223 -NA

62 PRD8332 RAKESH KUMAR PANDEY RAM GOPAL PANDEY JAI RAZI 10/02/1971 MALE GENERAL 165 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 878986895991 -NA

63 PRD8335 AWADHESH KUMAR SHARMA NIRANKAR PRASAD SHARMA PUSHPA DEVI 18/09/1989 MALE GENERAL 175 95 GRADUATE -NA- RAKSHAK 435250826175 FYLPS0841H

64 PRD8339 RAKESH KUMAR HARI RAM JAYA DEVI 08/07/1987 MALE SC 170 92 8 PASS -NA- RAKSHAK 410912448432 -NA-

65 PRD8340 JAWAHAR LAL SHARMA MANOHAR LAL SHARMA LATE DHANPATA DEVI 01/02/1971 MALE GENERAL 170 95 12 PASS DRIVER RAKSHAK 762892178833 -NA-

66 PRD8341 MAHESHWARI PRASAD SHRIVASTAV GOPAL NAYARAN SHRIVASTAV GYAAN MATI 05/01/1975 MALE GENERAL 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 879450268198 -NA

67 PRD8343 HEERA LAL MANOHAR LATE JANKATA DEVI 01/01/1970 MALE GENERAL 170 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 696619111810 -NA

68 PRD8362 DEV NAYARAN KEVAL PRASAD RAM KALA 05/03/1968 MALE GENERAL 170 95 12 PASS --Select-- RAKSHAK 624550061996 BHPPN7372F

69 PRD8375 MANOJ KUMAR SINGH KAMTA SINGH KALAVATI SINGH 20/08/1982 MALE GENERAL 175 95 10 PASS --Select-- RAKSHAK 411346330098 -NA

70 PRD8382 SUKH DEV PRASAD BHADAI SHYAMA DEVI 01/01/1985 MALE SC 170 95 8 PASS --Select-- RAKSHAK 213570041387 -NA

71 PRD8386 JAGAT RAM MAURYA RAM ADHAR MUNNI DEVI 01/01/1967 MALE SC 166 90 8 PASS --Select-- RAKSHAK 919104176086 -NA

72 PRD8388 KU SANJU DEVI SHANKAR DAYAL PARVATI DEVI 10/07/1990 MALE OBC 168 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 576476686682 -NA

73 PRD8393 RAM PRASAD KESHAV RAM PRABHA DEVI 02/10/1982 MALE SC 166 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 279376634691 -NA

74 PRD8395 PAWAN KUMARI SANTOSH KUMAR GYANVATI 08/07/1990 FEMALE SC 165 90 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 369442449082 HYVPK2040E

75 PRD8397 SHRI KANT PATHAK RAGHVENDRA PRASAD PATHAK KRISHNAVATI 15/06/1971 MALE GENERAL 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 447388394748 -NA

76 PRD8402 RAMA KANT PATHAK RAGHVENDRA PRASAD PATHAK KRISHNAVATI 10/07/1978 MALE GENERAL 170 94 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 812111100731 -NA

77 PRD8406 RAM KUMAR MAHADEV RANI DEVI 07/07/1992 MALE SC 165 92 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 640257976012 -NA

78 PRD8411 PREM NARAYAN SUKAI RAM KALA DEVI 16/07/1976 MALE SC 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 875730680657 -NA

79 PRD8413 RAJ KUMARI RANGILE NIRMALA 01/01/1977 FEMALE OBC 160 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 826861844583 -NA

80 PRD8418 MISHRI LAL PANDEY JAMUNA PRASAD PANDEY SATY BHAMA 01/01/1973 MALE GENERAL 178 83 10 PASS --Select-- RAKSHAK 353371576012 -NA

81 PRD8432 SONU DEVI SANJAY KUMAR RAW SHYAMKALI 01/01/1994 FEMALE SC 165 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 914044996005 -NA

82 PRD8435 DAYA SHANKAR RAM JASH JANKA DEVI 15/12/1965 MALE SC 171 95 12 PASS --Select-- RAKSHAK 639*532675794 -NA

83 PRD8439 VIJAY KUMAR PANDEY JAG PRASAD PANDEY TARA DEVI 05/07/1976 MALE GENERAL 172 95 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 775152564897 -NA

84 PRD8444 LAYAKRAM MADHAVRAJ MAURYA KALAVATI 01/01/1992 MALE OBC 168 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 993279469475

85 PRD8447 KAMLA DEVI RAM AUTAR DHANPATI 02/04/1981 FEMALE OBC 165 85 12 PASS --Select-- RAKSHAK 380667936302 -NA

86 PRD8454 PRAGYA KISHUN PRASAD MADHU 04/05/1991 FEMALE SC 165 90 10 PASS --Select-- RAKSHAK 372060117137 -NA

87 PRD8458 RAM NIHOR DUBEY RAM PYAARE DUBEY SHANTIDEVI 30/06/1973 MALE GENERAL 168 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 868738265406 -NA

88 PRD8464 RAM SHANKAR PATHAK DEENANATH PATHAK CHANDRAVATI 15/07/1992 MALE GENERAL 170 92 10 PASS --Select-- RAKSHAK 930464391446 -NA

89 PRD8469 PADUM NATH HRIDYA RAM MAHARANI 15/05/1971 MALE SC 168 92 8 PASS --Select-- RAKSHAK 265625723020 -NA

90 PRD8472 SATISH KUMAR TIWARI RAM RAJ TIWARI LATE MUNNI DEVI 03/12/1989 MALE GENERAL 170 95 8 PASS --Select-- RAKSHAK 264278316634 -NA

91 PRD8474 BAJRANG SINGH DESH RAJ SINGH SUMITRA 15/06/1971 MALE GENERAL 170 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 74218515070 -NA

92 PRD8475 PANNA LAL VERMA MEVA LAL VERMA KISHNA VATI 12/07/1988 MALE OBC 171 95 GRADUATE --Select-- RAKSHAK 814735724284 -NA

93 PRD8478 NISHA SINGH PINTU SINGH LAXMI SINGH 16/08/1994 FEMALE GENERAL 165 92 12 PASS --Select-- RAKSHAK 796378065757 -NA

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 22 Mar 2021 at 7:00 AM -

टिप्स

1
कुछ हंस कर बोल दिया करें।
कुछ हंस कर टाल दिया करें।
परेशानियां तो अनंत हैं
कुछ को वक्त के निर्णय डाल दिया करे।

2
जिंदगी नामक tv में मनचाहा प्रोग्राम नहीं चलता। बल्कि यह पुराने जमाने की एक ही चैनल वाली tv है। इसमें जो आये उसी से ... मनोरंजन करना होता है।

3

जीने के लिए बार बार जहर के घूंट पीने पड़ते हैं।
मरने के लिए बस एक ही बून्द काफी है।

4
भगवान देख रहा है। अगर ऐसा मानते हो तो डरो नहीं भरोसा रखो।

5
हर ईंट सोचती है कि बिल्डिंग तो मुझपर ही टिकी हुई है।


user image Arvind Swaroop Kushwaha - 06 Jul 2020 at 9:37 AM -

interesting facts

1- The only solutions that are ever worth anything are the solutions that people find themselves.
- Satyajit Ray

2- Varanasi is the oldest, continuously inhabited city in the world today.

3
- Sometimes life hits you in the head with a brick. Don’t lose faith.
- Steve Jobs

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 04 Jul 2020 at 6:48 AM -

interesting facts


1- The supreme accomplishment is to blur the line between work and play.
- Arnold J. Toynbee

2- Mahant Bharatdas Darshandas is the only voter from Banej in Gir forest and since 2004, a special polling booth is set up exclusively for him.

3
- You must learn ... to be still in the midst of activity and to be vibrantly alive in repose.
- Indira Gandhi

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 Jun 2020 at 5:02 AM -

interesting facts


1- I believe much trouble would be saved if we opened our hearts more.
- Chief Joseph

2- India has overtaken European Union and is now the world’s biggest producer of milk.

3
- A strong, positive self-image is the best possible preparation for success.
- Joyce Brothers

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun 2020 at 8:04 AM -

अष्टांग योग

यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि।।

ये 8 चरण योग के बताए गए हैं। ये काफी हद तक अनुमानित हैं। इन शब्दों का प्रयोग आज या तो नहीं हो रहा या फिर भिन्न अर्थों में ज्यादा हो रहा है।

यह वह शास्त्र है जिसके वास्तविक ... जानकार की पहचान होना आसान नहीं है।

सामान्य व्यक्ति के लिए योग का मतलब आसन, प्राणायाम तथा व्यायाम ही है।

जो इससे थोड़ा ऊपर हैं वो धारणा और ध्यान तक पहुंच जाते हैं।

समाधि तक पहुंचने वाले मुझ जैसे विरले ही हैं।

यह जिस प्रकार 8 चरणों मे बांटा गया है वैसा आवश्यक नहीं है।

इसको निम्नवत समझना चाहिए-
1- समाधि के लिए तन, इंद्रियों और मन पर पूर्ण नियंत्रण का अभ्यास होना चाहिए। शरीर मे हीमोग्लोबिन पर्याप्त होना चाहिए। हीमोग्लोबिन के साथ ऑक्सीजन की सर्वांग अबाध आपूर्ति के लिए नसों, धमनियों, हृदय और फेफड़ों का स्वस्थ तथा बाधामुक्त होना आवश्यक है। मनुष्य को साहसी और गुरु पर विश्वास करने वाला होना चाहिए क्योंकि समाधि में पहुंचते समय मृत्यु न हो जाये ऐसी आशंका जन्म लेने लगती है। समाधि के दौरान व्यक्ति सांस भी नहीं लेता किन्तु जिस प्रकार एक कमरे में एक खिड़की खुली हो तो अणुओं की स्वाभाविक गति के कारण कुछ न कुछ ताजी हवा अपने आप अंदर आती रहती है उसी प्रकार नासिकाओं से मंद गति से ऑक्सीजन फेफड़ों तक पहुंचती रहती है। पहले पहल समाधि में एक घंटे से अधिक देर रहना खतरनाक हो सकता है किंतु बार बार अभ्यास करने से यह अवधि 3 या 4 घंटे तक बढ़ सकती है।
2- ध्यान के लिए मस्तिष्क में अबाध रक्तसंचार और अन्य इंद्रियों पर नियंत्रण आवश्यक है।
3
- धारणा का यौगिक तात्पर्य वायु अर्थात ऑक्सीजन धारण करने की क्षमता है। जब आप करीब आधा मिनट से पौने दो मिनट प्रति स्वास की अति मंद गति पर घंटे भर तक रह सकने की क्षमता हासिल कर लें तो यह मानना चाहिए कि आपमे धारणा शक्ति आ गयी है। ऊपरी सीमा आपके समाधि में रह सकने की शारीरिक क्षमता का द्योतक है।
4- आसन और प्राणायाम के बिना ध्यान और धारणा का विकास संभव नहीं है।
5- नियमित व्यायाम के बिना समाधि संभव नहीं है। ध्यान के विकास के लिए भी नियमित व्यायाम बहुत फायदेमंद है।
6- बाकी बातें गुरु जी की अपनी शर्तें हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun 2020 at 6:12 AM -

1- A saltwater lake in Maharashtra, Lonar Lake, was created by a meteor hitting the earth and is one of its kind in India.

2- A P J Abdul Kalam was well known as the Missile Man of India for his work on the development of ... ballistic missile and launch vehicle technology.

3
- Don't take rest after your first victory because if you fail in second, more lips are waiting to say that your first victory was just luck.
- A P J Abdul Kalam

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 21 Jun 2020 at 5:53 PM -

interesting facts

1- You cannot shake hands with a clenched fist.
- Indira Gandhi

2- An eye for an eye only ends up making the whole world blind.
- Mahatma Gandhi

3
- Navi Mumbai, which was developed in 1972, is the largest planned township on the planet

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 20 Jun 2020 at 6:43 AM -

interesting facts


1- The longest time between two twins being born till date is 87 days

2- You can’t cross the sea merely by standing and staring at the water.
- Rabindranath Tagore

3
- The purpose of our lives is to be happy.
- Dalai Lama

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 19 Jun 2020 at 10:08 AM -

interesting facts

1- Success is no accident. It is hard work, perseverance, learning, studying, sacrifice and most of all, love of what you are doing.
- Pele

2- Life is like riding a bicycle. To keep your balance, you must keep moving.
- Albert Einstein

3
- Most marine fish ... can survive in a tank filled with human blood

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 18 Jun 2020 at 8:49 AM -

interesting facts


1- A full day on the moon, from one sunrise to the next, lasts about 29.5 earth days on average.

2- Rain contains vitamin B12.

3
- You get the best out of others when you get the best out of yourself.
- Harvey S. Firestone

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 17 Jun 2020 at 10:33 PM -

interesting facts


1- The best intelligence test is what we do with our leisure.
- Laurence J. Peter

2- A tiger's roar can be heard as far as 1.8 miles away.

3
- There is no tool for development more effective than the empowerment of women.
- Kofi Annan

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 17 Jun 2020 at 10:36 AM -

interestinh facts


1- A “Jiffy” is the scientific name for 1/100th of a second.

2- To produce a single pound of honey, a single bee would have to visit 2 million flowers.

3
- Knowing your own darkness is the best method for dealing with the darkness of other people.
... - Carl Jung

4- Some fish, like the Triggerfish, can swim backward.

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 10 Jun 2020 at 9:38 AM -

interesting

1- The world's deepest postbox is in Susami Bay in Japan. It is 10 metres underwater.

2- A problem is a chance for you to do your best.
- Duke Ellington

3
- The best revenge is massive success.
- Frank Sinatra

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 08 Jun 2020 at 2:59 PM -

interesting

1- Always remember that you are absolutely unique. Just like everyone else.
- Margaret Mead

2- An epidemic of laughing that lasted almost a year broke out in Tanganyika (now Tanzania) in 1962. Several thousand people were affected, across several villages.

3
- Do not take life too ... seriously. You will never get out of it alive.
- Elbert Hubbard

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 08 Jun 2020 at 10:21 AM -

interesting

1- Queen Elizabeth II served as a mechanic and driver in World War 2.

2- Life is about making your own happiness - and living by your own rules.
- Aimee Mullins

3
- Melting glaciers and icebergs make a distinctive fizzing noise known as “bergy seltzer”.

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 07 Jun 2020 at 6:02 AM -

छोटा परिवार

तथाकथित मूल निवासियों से अनुरोध है कि खुद भी परिवार छोटा रखें और दूसरों को भी परिवार छोटा रखने को बाध्य करें। इसके निम्नलिखित फायदे हो सकते हैं-
1, कमजोर होती आर्थिक दशा में सुधार आएगा।
2, गरीबों की संख्या कम होगी।
3
, बौद्धिक विकास में तेजी आएगी।
4, ... बेरोजगारों की संख्या घटेगी।
5, लुटेरों शोषकों के पास शोषण के अवसर घटेंगे।
6, अंधविश्वास और अंधविश्वासियों की संख्या में कमी आएगी।
7, मूर्ख बनाने वाले नेताओं को सपोर्ट करने वालों की संख्या कम होने से देश को बेहतर नेतृत्व मिलेगा।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 05 Jun 2020 at 7:54 AM -

ओवर लोडिंग

ओवरलोडिंग का महत्व-
1- सामग्री कम फेरों में पहुंच जाती है।
2- गाड़ी के इंजन पर अधिक लोड पड़ता है, जिससे इंजन जल्दी खराब होता है, फलतः इंजन बनाने वालों को रोजगार मिलता है। इंजन अल्युमिनियम से बनता है, अल्युमिनियम भारत में ही निकलता है, इसलिए चिंता ... की कोई बात नहीं।
3
- ओवरलोड से यातायात में वाहनों की संख्या कम होती है, जिससे जाम की समस्या से काफी हद तक निजात मिलती है, जो भारतीय शहरों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
4- ओवरलोड से डीजल की बचत होती है, डीजल आयात करना पड़ता है, इसलिए डीजल की बचत से विदेशी मुद्रा की भी बचत होती है।
5- डीजल का आयात अरब देशों से होता है, जो आतंकवादियों को वित्तीय मदद पहुंचाते हैं, अतः डीजल के आयात में कमी आने से आतंकवाद में भी कमी आयेगी।
6- डीजल का उपयोग कम होने से ऑक्सीजन भी कम खर्च होगी और वातावरण में धुआं भी कम फैलेगा, अतः पर्यावरण प्रदूषण भी कम होगा।
7- ओवरलोड से गाड़ियां धीमी चलती हैं जिससे दुर्घटनाएं भी कम होती हैं।
8- ओवरलोड से ट्रक पलटने का खतरा बढ़ जाता है। ट्रक पलटने से सड़क किनारे रह रहे लोगों को न सिर्फ रोजगार मिलता है बल्कि अक्सर मुफ्त का माल भी मिलता है।
9- ओवरलोडिंग से सड़कें जल्दी खराब हो जाती हैं जिससे बचने के लिए pwd को सड़कें भी मजबूत बनानी पड़ती हैं, इस प्रकार रोड बनाने में कमीशनबाजी भी कम होती है।
10- ओवरलोडिंग से मोरंग, गिट्टी आदि सस्ती मिलती है जिससे सड़क एवं भवन निर्माण की लागत कम आती है।
11- अधिक सवारी बैठाना भी ओवर लोडिंग का एक विशिष्ट उदाहरण है। ट्रेनें और रोडवेज बसें इस विधा की एक्सपर्ट हैं।
12- ऑटो और टेम्पो भी ओवरलोडिंग में किसी से कम नहीं हैं।
13- ओवरलोडिंग के क्षेत्र में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान isro ने भी एक ही यान में 105 सैटेलाइट अंतरिक्ष में सफलतापूर्वक भेज कर विश्व कीर्तिमान बनाते हुए देश का गौरव बढ़ाया है।
14- ओवरलोडिंग का डायरेक्ट लाभ गाड़ी मालिक और ड्राइवर को मिलता है जो इनडायरेक्टली दूसरों तक भी पहुंचता है।

जिस तरह से गाय को राष्ट्रीय पशु तथा बन्दर को राष्ट्रीय देवता घोषित किये जाने की योजना है, उसी तरह से ओवरलोडिंग को राष्ट्रीय व्यापार घोषित किया जाना चाहिए।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 04 Jun 2020 at 4:40 AM -

रोचक बातें


1- There's a town in Norway called “Hell”.

2- Male bees die after having sex.


3
- If you want to shine like a sun. First burn like a sun.
- A.P.J. Abdul Kalam

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 02 Jun 2020 at 2:14 PM -

रोचक तथ्य


1- The Apollo 11 had about 20 seconds of fuel left when it landed.

2- Our bodies contain about 0.2 milligrams of gold, most of it in our blood.


3
- Fact: Sunsets on Mars are blue.

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 01 Jun 2020 at 6:14 PM -

central list of obc

CENTRAL LIST OF OBCs FOR THE STATE OF UTTAR PRADESH
1. Ahir, Yadav
2. Arakh, Arakvanshiya
3
. Kachhi, Kachhi-Kushwaha, Shakya
4. Kahar, Tanwar, Singhariya
5. Kewat or Mallah
6. Kisan
7. Koeri, Koiri
8. Kumhar, Prajapati
9. Kurmi, Kurmi-Sainthwar/Kurmi-Mall, Kurmi- Patanwar
10. Kasgar
11. Kunjra or Rayeen
12. Gosain
13. Gujar
14. Gaderia
15. Gaddi, Ghosi
16. Giri
17. Chikwa ... Qassab, (Qureshi), Kasai/ Qassai, Chak,
18. Chhipi, Chhipe
19. Jogi
20. Jhoja
21. Dafali
22. Tamoli, Barai, Chaurasia
23. Teli, Samani, Rogangar, Teli Malik (Muslim), Teli Sahu, Teli Rathore
24. Darzi
25. Dhivar , Dhiver
26. Naqqal
27. Nat (excluding those who are included in Scheduled Castes)
28. Nayak
29. Faqir
3
0. Banjara, Mukeri, Ranki, Mekrani
3
1. Barhai, Badhai, Viswakarma, Ramgarhia
3
2. Bari
3
3. Bairagi
3
4. Bind
3
5. Biyar
3
6. Bhar
3
7. Bhurji, Bharbhuja, Bharbhunja, Bhooj, Kandu
3
8. Bhathiara 12011/68/93-BCC(C) dt. 10/09/1993
3
9. Mali, Saini, Baghban
40. Manihar, Kacher, Lakher, Lakhera (excluding Lakhera sub-caste of Brahmans in Tehri Garhwal region), Churihar
41. Murao or Murai, Maurya
42. Momin (Ansar, Ansari), Julah
43. Mirasi
44. Muslim Kayastha
45. Naddaf (Dhunia), Dhunia, Mansoori, Behna, Kandere, Kadere, Pinjara
46. Marchha
47. Rangrez, Rangwa
48. Lodh, Lodha, Lodhi, Lodhi-Rajput
49. Lohar, Luhar, Saifi
50. Lonia, Noniya, Luniya, Gole Thakur, Nunere
51. Sonar, Sunar
52. Halwai
53.Hajjam (Nai), Salmani, Nai, Sain (Nai)
54. Halalkhor, Hela, Lalbegi (other than those who are included in the list of Scheduled Castes)
55. Dhobi(other than those who are already included in the list of Scheduled Castes for UP)
56. Mewati, Meo
57. Saqqa-Bhisti, Bhisti-Abbassi
58. Koshta/Koshti
59. Khumra, Sangtarash, Hansiri
60. Patwa, Patua, Pathar (excluding Agarwala, Deobansi, Kharewal or Khandelwal who are sub-caste of Baniya and Kharwar who claim to the rank of Rajput) Tatwa
61. Atishbaz, Darugar
62. Madari
63. Nalband, Sais
64. Bhand 12011/88/98-BCC dt. 06/12/1999
65. Mochi (excluding those who are included in the List of SC of Uttar Pradesh)
66. Raj (Memar)
67. Sheikh Sarvari (Pirai), Peerahi
68. Aheria/ Aheriya
69. Bot (does not include ‘Bhotia’ who are already in the list of ST in UP)
70. Kuthaliya Bora (belonging to Almora, Pithoragarh, Bageswar and Nainital Districts)
71. Kalal, Kalwar, Kalar
72. Dohar
73. Kasera, Thathera, Tamrakar Kalaikar
74. Rai Sikh (Mahatam) 12011/44/99-BCC dt. 21/09/2000
75. Unai Sahu
76. Gada

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 31 May 2020 at 7:33 PM -

रानी अहिल्या बाई होल्कर

आज पाल धनगर गड़ेरिया समाज के बहुत ही साधारण परिवार में जन्मी महान विभूति अहिल्याबाई होल्कर का जन्मदिन है । उनका बाल्यकाल से लेकर सम्पूर्ण जीवन इस देश में साधारण सामाजिक और पारिवारिक परिस्थितियों में पैदा हुई महिलाओं के लिए एक प्रेरणास्रोत और एक ... प्रकाशपुंज हैं।
ऐसी महान विभूति को कोटि कोटि नमन के साथ सभी देशवासियों को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामना।

3
1 मई सन् 1725 को जन्मी अहिल्याबाई होल्कर 40 साल की उम्र में मालवा राज्य की रानी बनी ।उन्होंने 30 वर्ष तक मालवा देश को बहुत ही उत्तम यादगार सुशासन दिया ।
उनका जीवन बहुत ही क्रांतिकारी था ।एक छोटे से गाँव में साधारण परिवार में जन्मी अहिल्याबाई असाधारण प्रतिभा की धनी थी ।ये तीक्ष्ण बुद्धि, अद्भुत साहस और करुणा पूरित व्यक्तित्व की शुरू से ही धनी थी।
अठाईस साल के युवावस्था में पति की मृत्यु हो गई। उस समय जहाँ विधवा होने पर सती होने की प्रथा राज घरानों में थी , अहिल्या बाई होलकर ने उस प्रथा के विरुद्ध जाकर अपने ससुर के साथ राजकार्य में हाथ बँटाने का निर्णय लिया। जहाँ पेशवा राज्य में महिलाओं की स्थिति मात्र हरम की शोभा बढ़ाना था ,वहाँ अहिल्याबाई होलकर ने राजकाज में सक्रिय भूमिका निभाई और अपने ससुर की मृत्यु के पश्चात 40 वर्ष की अवस्था में मालवा राज्य की महारानी बनी।
मालवा राज्य के शासन की बागडोर को एक विधवा महिला द्वारा संभालना वास्तव में उस समय के परंपरा के दृष्टिगत बहुत ही क्रांतिकारी और साहसिक निर्णय था।

अहिल्याबाई होल्कर जहाँ एक ओर मानवीय संवेदना से ओत प्रोत एक कुशल प्रशासक, कुशल संगठनकर्ता और दयालु प्रजापालक थीं ,वहीं दूसरी ओर एक कुशल योद्धा भी थीं । उन्होंने अपना सेनापति तुको जी होलकर को बनाया और स्वयं युद्ध के दौरान सेना का नेतृत्व किया।
उस समय एक महिला का राज्य का मुखिया होना, खुलकर युद्ध का नेतृत्व करना और राज्य में प्रजा के बीच जाकर उनके सुख दुःख में भागीदारी करना निश्चित रूप से एक महिला के लिए बहुत क्रांतिकारी जीवन निर्णय था। तमाम ब्रितानी इतिहासकारों ने और उनके समकालीन ब्रितानी लेखकों ने भी उन्हें एक संत शासक या दार्शनिक शासक की संज्ञा दी है । बहुत बिरले ही शासक उस समय के होंगे ,जिन्हें प्रजा के सुख और समृद्धि में प्रसन्नता मिलती हो, अन्यथा ज़्यादातर शासक अपने बीच किसी भी प्रजा को कम से कम समृद्ध तो नहीं ही देख सकते थे। मालवा राज्य में उनके शासन का यह काल खंड शोषण उत्पीड़न से मुक्त शांति ,विकास और प्रजा के सुख और कल्याण के युग के रूप में इतिहास के पन्नों में दर्ज है।
राजतंत्र में ऐसे सह्रृदय, ईमानदार ,दयालु और अपने राज्य में सुख ,समृद्धि और विकास का कार्य करने वाले राजे महाराजे इस काल में बिरले ही हुए हैं ।उनके बीच अहिल्याबाई होल्कर का नाम प्रकाशपुंज की भाँति है।


user image Arvind Swaroop Kushwaha - 31 May 2020 at 8:29 AM -

मूल भारतीयों की औसत लंबाई राजपूतों की औसत लंबाई से कम क्यों है?
क्योंकि-
1, उनके भोजन में कैल्शियम की मात्रा कम रहती है।
2, बढ़ने की उम्र में भी बच्चों से ज्यादा ताकत लगाने वाले या थका देने वाले कार्य करवाये जाते हैं जिससे मांशपेशियां सख्त हो ... जाती हैं फलतः हड्डियों की वृद्धि में बाधक बनती हैं।
3
, बढ़ने की उम्र में भी कुछ लोग कसरत ज्यादा करवा देते हैं।
4, जिनके पास खाने की कमी नहीं है वो कार्बोहाइड्रेट ज्यादा खाने लगते हैं जिससे मोटापा आ जाता है जिससे हड्डियां लम्बी होने के बजाय चौड़ी होने लगती हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 27 May 2020 at 7:01 PM -

स्त्री और पुरुष

पोस्ट बडी़ है. धैर्य पूर्वक पढे़ (सत्य पर आधारित यह पोस्ट)

मैं यह समझा सकता हूँ कि क्यों लोग (प्रेमी जोड़े या पति-पत्नी) एक दूसरे को कुछ समय बाद छोड़ देते हैं!

क्योकि इंसान मौलिक रूप से पोलिगेमस होता है, वैसे 99% सभी जीव ऐसे ही होते ... हैं तो कुछ नया नहीं है। विवाह का अर्थ सेक्स होता है विज्ञान में और लोगों की राय में भी, तो पोलिगेमस को हिंदी में बहुविवाही कह सकते हैं।

दुनिया मे सबसे सम्भोग नहीं किया जा सकता लेकिन जितनों से भी कर लिया जाए, ये मानव का मूलभूत प्रयास रहता है। क्योंकि न तो हर एक सम्भोग में बच्चे हो सकते हैं और न ही हर जन्तु प्रजनन क्रिया करने में सफल ही हो पाता है।

(मानवों में तो यह इसलिए भी बेमौसम होता है क्योंकि एक महिला सिर्फ ४०० अंडे पैदा करने की क्षमता लेकर दुनिया में आती है और माह में केवल एक दिन ही प्रजनन योग्य स्थिति में होती है जो हर माह का 14वां दिन होता है (यदि महिला स्वस्थ है और उसका माहवारी चक्र 28 दिन पर टिका हो)। बच्चे होने के सम्भावित दिवस 14वें दिन से 3 दिन पहले और 3 दिन बाद तक के हो सकते हैं। लेकिन ovolution (अन्डोत्सर्ग) वाले दिन न सिर्फ 100% बच्चे होने की सम्भावना होती है बल्कि महिला इसी दिन सम्भोग के प्रति वास्तविक रूप से लालायित होती है। उसकी योनी में श्लेष्मा का स्राव अधिक होने से सम्भोग की इच्छा अपने आप जागृत हो जाती है। इस एक हफ्ते में यदि वीर्य योनी से गर्भाशय में पहुचता है तो निषेचन की प्रक्रिया होगी अन्यथा यह अंडा आत्महत्या कर लेगा। इसी अंडे की प्रतिमाह आत्महत्या को हम माहवारी कह कर सम्बोधित करते हैं। (है न रोचक जानकारी, अब मत कहना कभी कि मैं महिलाओं को समझ नहीं सकता)।

अब सवाल उठता है कि कैसे पता चले कि अन्डोत्सर्ग वाला दिन कौन सा है? यह पता नहीं लगाया जा सकता क्योंकि अब मानव कपड़े पहन कर रहते हैं। पहले माहवारी के रक्त को बहता देख कर माहवारी के दिन का पता चल जाता था उसके बाद दिनों की गिनती करके अन्डोत्सर्ग का समय पता लगाया जा सकता था लेकिन अब इसे गंदा-घिनौना बता कर छिपा लिया जाता है।

(इससे दाग न लग जाए, इसलिए लोग आज भी गंदा कपड़ा इस्तेमाल करना उचित समझते हैं। सेनेटरी पैड महंगा जो है। अरे हाँ २ रूपये वाला भी आ गया है। लेकिन सिर्फ फिल्म में। अब आ गया है pad man से बढ़ कर चमत्कारी menstrual cup man! (ही ही ही)। जी हाँ, 150 (सिफ़ारिश करता हूँ) रुपए से लेकर 2000 रुपए तक की प्रारम्भिक खर्च के बाद 5 से 10 वर्ष तक माहवारी और कपड़े, सेनेटरी पैड से छुट्टी। खरीदने के लिए सम्पर्क करें)।

इसलिए कुल मिला कर पुरुष जानता ही नहीं कि प्रजनन का दिवस कब है। परिणामस्वरूप पुरुष हर समय सम्भोग की इच्छा जताता रहता है।

ये मानव दिमाग मे भरा हुआ है (coded in gene) कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा किये जायें ताकि मानव जाति या कोई भी जाति (अन्य जीवों के मामले में) बची रहे। इस प्रावस्था को natalism कहते हैं।

प्रकृति में ये ऐसा इसलिये था क्योंकि जब विवाह नहीं था और विज्ञान नहीं था तो सभी मानव बहुत कम समय तक जी पाते थे (अन्य जंतुओं की तरह)।

ऐसे में सिर्फ वही प्रजाति जीवित बची रह सकी जो ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करने में सफल हुई। Evolution (उद्विकास) के दौरान केवल वही मानव जीवित बचे जो सम्भोग करने में और अधिक बच्चे पैदा करने में ज्यादा सफल हुए।

इन मानवों में सम्भोग के प्रति बहुत तीव्र इच्छा थी और इसी कारण ये यहाँ तक पहुच सके। यही तीव्र इच्छा आज के मेडिकल साइंस के आ जाने के कारण जनसँख्या बढ़ाने की ज़िम्मेदार कहलाई क्योकि अब लोग चिकित्सा विज्ञान के कारण कम मरते हैं।

लेकिन इंसान की प्रवृत्ति (instinct) नहीं बदली। वह वैसी ही रह गई।

लोगों ने इस प्रवृत्ति को बदलने के लिये monogamy (एकल विवाह) को अनिवार्य बनाया ताकि समाज मे धन का विनिमय करने के लिये मजदूर मिल सकें और प्रति व्यक्ति परिवार के होने के कारण बच्चों का पालनपोषण सुनिश्चित हो सके। इस प्रकार जनसँख्या तीव्र गति से बढ़ने लगी। समाज की अर्थव्यवस्था को चलाने के लिये मोनोगैमी काम आई और एक व्यक्ति से विवाह बहुत प्रसिद्ध हुआ।

लेकिन इसके दुष्परिणाम भी समय के साथ सामने आने लगे। एक समाज एक निश्चित स्थान पर स्थित परिवार के समान होता है। प्रायः समाज एक शहर, राज्य या एक देश तक सीमित होता है। संगठित रूप में यह एक समुदाय के रूप में होता है। इसकी एक निश्चित सीमा होती है, निश्चित संसाधन (resources) होते हैं और उनकी जीवटता उन्हीं पर निर्भर होती है। अर्थात यदि संसाधनों में कमी आयी तो समाज में समस्याएं आनी तय हैं।

उदाहरण 1: एक छोटे शहर में 50 घर हैं। वे लोग वर्तमान परिस्थितियों में 60 घरो का खर्च उठा सकें इतना ही कमाते हैं। यानी अभी इसमें 10 और घर बसाए जा सकते हैं। लेकिन जगह की कमी है। इसलिये वह संख्या 50 से आगे कभी नहीं बढ़ सकती। यह 10 घरों की अतिरिक्त राशि सभी परिवार आंशिक रूप से अपने भविष्य की विकट परिस्थितियों (आपातकाल) के लिये सुरक्षित रखते हैं।

लेकिन जनसँख्या समानुपातिक ढंग से बढ़ रही है। कारण है नेटालिस्टिक भावना और संस्कृति द्वारा इसके सन्दर्भ में बनाये गये विवाह और शीघ्र बच्चों को पैदा करने जैसे अनिवार्य व्यवहार/परम्पराएं।

नतीजा साफ है। अपराध जन्म ले चुका है। अतिरिक्त लोग सड़कों पर भिखारी, विकलांग, बेकार, बेरोजगार और गुंडे/चोर बनकर जीवन गुजारने लगे हैं। इससे उन 50 घरों को ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। उनका वह 10 घरों के बराबर का आंशिक जमा धन इनको पाल रहा है।

लोगों ने कानून बनाया लेकिन फिर भी भृष्टाचारी समाज उसका पालन नहीं कर सका। यही एक सामान्य समाज का आर्थिक ढांचा है। इस प्रकार लोग मरते और नए पैदा होते रहते हैं। लेकिन सिर्फ तभी तक जब तक मृत्युदर और जन्म दर -50 और +60 रहती है। +10 परिवारों की वह अतिरिक्त जनसँख्या है जो अपराध/छेड़छाड़/बलात्कार की जड़ है लेकिन घटिया/भृष्ट समाज में स्वीकार्य है।

उदाहरण 2: उपर्युक्त उदाहरण में एक नियमित समन्वय दिखाया गया है जब परिस्थिति नियंत्रण में है। अब आती है अनियंत्रित परिस्थिति (वर्तमान)। वर्तमान समय में चिकित्सा विज्ञान उत्तरोत्तर प्रगति कर चुका हैं। असाध्य रोग और समस्याएं सुलझाई जा रही हैं। जनसंख्या नियंत्रण खतरे में है। इंसान की औसत आयु 80 तक खिंच गई है। जो भविष्य में और ऊपर जा सकती है।

अब क्या होगा? सीमित जगह, सीमित संसाधन, सीमित स्थान लेकिन अधिक आबादी।

1. आपके बच्चे: मम्मी-पापा का कमरा खाली हो जाता तो उनके पोते-पोतियों को दूसरे शहर में ऋण लेकर नया घर न लेना पड़ता।

2. आपके पोते-पोती: ये बुड्ढे-बुढ़िया मरते क्यों नही? मुझे सम्पत्ति की ज़रूरत है और ये कुंडली मारे बैठे हैं।

3
. बैंक: 100 साल तक ही पेंशन मिलेगी माता जी। उसके बाद भी जिंदा रहीं तो कुछ और जुगाड़ ढूंढ लो।

जब लोग ज्यादा और संसाधन कम होंगे तो क्या होगा? सब एक दूसरे का मुहँ ताकना शुरू।

अब क्या करें? फिर से मौत पीछे? फिर क्या फायदा जीकर जब जीने को साधन नहीं। फिर से आदिमकाल शुरू। फिर से संघर्ष? फिर से एक दूसरे से छीनने का दौर शुरू। हिंसात्मक दृश्य। सब लड़-भिड़ के पुनः समाप्ति की ओर। यह क्या? तो क्या करें? बच्चे न पैदा करें? नेटालिस्टिक प्रवृत्ति का लोप कर दें? तब anti-natalist समाज समाप्ति की ओर नहीं बढ़ जाएगा? मानव जाति समाप्त नहीं हो जाएगी?

चलिये देखते हैं। अभी हमने बात की थी कि पोलिगेमस मानव को सदियों से मोनोगेमस बनाये जाने का प्रयास किया गया। लेकिन फिर भी इसका उल्लंघन हुआ और आज भी विश्व के 80% परिवार अपने वंश को नहीं चला रहे हैं।

(असल में तो कोई भी नहीं चला रहा* लेकिन जो सोचते हैं कि वे चला रहे हैं तो उनके लिये बुरी खबर। विदेशों में कुछ वर्ष पूर्व एक सर्वे हुआ। जिसमें कई परिवारों के DNA जांच की गयी और समझिये विस्फोट सा हुआ। कोई भी बच्चा उनके माता-पिता का नहीं निकला। पड़ोसियों के निकले।

*वंश चलाने के लिये यह परम आवश्यक है कि सभी 28 गुणसूत्र एक ही वंश से आये हों। अर्थात आपके माता-पिता एक ही माता-पिता की सन्तानें होना परमावश्यक है। इसी सिद्धान्त पर मिस्र में सदियों तक वंश चले। यदि आपके माता-पिता एक ही परिवार के रक्त सम्बन्धी नहीं हैं तो आपके आधे गुणसूत्र आपके पिता के और आधे आपकी माता के वंश के होंगे। यानी अशुद्ध वंश)।

तो क्या सीखा? मतलब प्रवृत्ति पर पूरी तरह रोक लगाना असम्भव। इसलिये मोनोगैमी की तरह एन्टी नेटालिस्ट सोच लाइये। जनसँख्या को स्वेच्छा से रोकिये। गर्भनिरोधकों का जम कर उपयोग करें। सरकार का सहयोग लें। कंडोम, नसबंदी, मैथुन भंग, डायफ्राम, IUV (आधुनिक और सुरक्षित 3 से 5 वर्ष तक), copper T, फीमेल कंडोम (reusable), 72 घंटे, आई पिल, माला-डी, सहेली, डिम्पा इंजेक्शन इत्यादि का विकल्प चुनें। अनजान साथी से सम्भोग करते समय कंडोम प्रयोग करें या उसकी STD/HIV जांच अवश्य करवा लें।

कुछ लोग मेरी बात कभी नहीं मानेंगे और जो विवाह को त्यागेंगे वे live-in-relationship में बच्चे पैदा करेंगे ही और जनसँख्या संतुलित हो जाएगी।

अब बात आती है कि हम पोलिगेमस हैं तो यह प्यार किस चिड़िया का नाम है? क्यों एक के साथ चिपक जाता है यदि इंसान पोलिगेमस है असल में?

तो दिल थाम कर इसका विश्व में प्रथम बार रहस्योद्घाटन देखिये शुभाँशु की कलम से।

इंसान खाली नहीं बैठ सकता। इसलिये उसे कोई न कोई काम चाहिए। कुछ नहीं तो मनोरंजन या गप शप करने के लिये ही सही, एक साथी। ये बात सिर्फ इंसान के लिये ही सही नहीं है। लगभग सभी जीव-जंतु ऐसा ही करते हैं। उनको भी कोई न कोई चाहिए ताकि अपना फालतू समय काट सकें। जिनको यह साथी नहीं मिल पाता वे या तो निर्जीव वस्तुओं से मनोरंजन करते हैं। जैसे खेल इत्यादि या वे सोते रहते हैं।

इस प्रकार जो आनन्द प्राप्त होता है, उससे सभी के मस्तिष्क से डोपामिन, सेरोटोनिन, ऑक्सीटोसिन तथा एंडोर्फिन्स हार्मोन निकलता है जो एडिक्टिव (जिसकी लत लग जाती है) होता है। इनके अतिरिक्त विशेष प्रकार के शरीर से जोड़ रखने वाले फेरोमोन भी होते हैं जो मानव की पसीने की ग्रन्थियों से स्रावित होते हैं। यह ऐसे गुण रखते हैं जो केवल नाक् के विशेष ग्राहियों (receptors) को ही महसूस होते हैं। जिनको आप पहचान नहीं सकते अर्थात गन्धहीन होते हैं। यह सीधे कामोत्तेजना पैदा कर सकते हैं। आपने इसी के कारण पहली ही मुलाकात में प्यार हो जाने वाला गुण पाया है। भाई-बहन-माता-पिता-पुत्री-पुत्र के फेरोमोन समान होने के कारण उनमें इनका प्रभाव हल्का होता है। लेकिन साफसफाई से रहने के कारण यह फेरोमोन अब बेकार हो गए। विपरीत फेरोमोन एक दूसरे को आकर्षित और समान प्रतिकर्षित करते हैं।

प्राचीन काल में पसीने की गंध सेक्स का turn on होती थी। लेकिन आज डिओडरेंट ने इसको एक बुराई में बदल दिया है। अब हम बैक्टीरिया जनित मल की गंध को साफ करने के चक्कर में असली फेरोमोन को भी ख़त्म कर रहे हैं।

इसी लत को प्यार/love/मोहब्बत/इश्क/प्रेम कहते हैं। ये किसी भी चीज से हो सकता है। जिससे भी आनन्द की प्राप्ति हो। परंतु संभोग की इच्छा ऑक्सीटोसिन और डोपामिन का मिला जुला प्रभाव होता है जिसमें ऑक्सीटोसिन love को बढाने वाला addictive हार्मोन कहा जाता है। इसके प्रभाव से यौनांगों का विकास शीघ्र हो जाता है। यह माता में दुग्ध उत्पादन में भी सहयोग करता है।

आवश्यकतानुसार इसमें भेद भी उत्पन्न हुए और जब मानव समाज रिश्ते बना रहा था तो उसने प्रेम को तरह-तरह के भेदों में बांट लिया।

माता-पिता का प्यार, भाई-बहन का प्यार, रिश्तेदारों का प्यार, दोस्तों का प्यार, शिक्षक और विद्यार्थियों का प्यार और सबसे महत्वपूर्ण, रोमांस वाला प्यार (विश्व प्रसिद्ध), आकर्षण का सुख, कामोत्तेजना का आनन्द, संभोग का आनंद।*

(*सम्भोग का आनंद एक ऐसा आनंद है जिसके कारण प्रजनन की भावना जीवित है। यह सभ्यता के साथ-साथ मनोरंजन में बदल गया। इसी के चलते पोलिगेमस स्वभाव फलाफूला। इसे आम भाषा में हवस (lust) कहते हैं। यह डोपामिन और ऑक्सीटोसिन का मिला जुला प्रभाव हैं। यह एक सम्पन्न समाज में एक अनिवार्य समझी जाने वाली बुराई* यानि वैश्यावृत्ति और पोर्न बन कर उभरा। पोलिगेमस पुरुषों ने सत्ता में आकर नगर वधु का चलन शुरू किया। नाम से ही स्पष्ट है कि सारे नगर की पत्नी। यह विधुरों (जिसकी पत्नी मर गई हो) के लिए शुरू की गई सेवा रही होगी लेकिन जल्द ही इसने पूरे नगर को अपनी चपेट में ले लिया। कारण वही, एक बार से दिल नहीं भरता, जाऊंगा मैं फिर दोबारा। क्यों? आखिर क्यों एक साथी से दिल नहीं भरता?

*बुराई इसलिए क्योंकि कुछ लोगों ने इनके चक्कर में अपनी पत्नी ही छोड़ दी।

प्रश्न: इन वैश्याओं के बच्चों का क्या होता है?

उत्तर: लड़की को रख लिया जाता है और लड़के को मार डाला जाता है। जी हाँ, आज भी)।

ऐसा पाया गया है कि एक ही साथी से सम्भोग करते-करते बोरियत हो जाती है। यानि कामोत्तेजना ही समाप्त हो जाती है। अब क्या करें? वियाग्रा/केलियास खाएं? अगर एक के साथ ही रहना है तो अवश्य खाइए लेकिन इसके दुष्परिणाम भी इन्टरनेट पर देखें। बहुत लोग मर गए इन दवाओं के प्रयोग से।

कमाल देखिये, नयी/नया साथी देखते ही ये बंद कलियाँ खिलने लगती हैं। जगह/स्थान/रोल बदलने से भी कुछ समय तक यही असर। फिर क्या कोई 1500-2000 रुपये की गोली लेगा या नया साथी? (अरे भई सेक्स गुरु नहीं हूँ। जानकारी रखता हूँ। अनुभव भी है कुछ।)

प्रारम्भ में केवल विपरीत लिंग के लोगों में ही रोमांस सम्भव माना जाता था परंतु कालांतर में इसके अन्य भेद भी सामने आए। जैसे LGBTQ*

(LGBTQ = Lesbian, Gay, Bisexual, Transgender, Questioned)।

इन सभी रोमांटिक प्रेमों के खिलाफ धर्म और कानूनों ने व्यापक मुहिम छेड़ दी।

खरबों जोड़ो को मार डाला गया, उनके ही, अपने घरवालों के द्वारा, या जो जोड़े नहीं मार पाए गए, उनको बाकायदा पापी घोषित करके धर्म के ठेकेदारों ने कत्ल कर दिया।

क्यों?

बहुत कड़वा जवाब है इस क्यों का। जानने से पहले खुद को मजबूत कर लो...

तो चलो कुछ सवालों का जवाब ढूंढते हैं पहले:

विवाह जो समर्थन प्राप्त संस्था है, उसकी सामान्य विधि क्या है?

1. अपनी ही जाति और स्टेटस वाले, सुदंर चेहरे वाले या उनसे ऊपर के खानदान से बात चलाई जाती है।

2. यदि बात नहीं बनती तो कम से कम में जो भी मानक पूरे करता हो उसके साथ रिश्ता पक्का किया जाता है।

3
. धन का लेनदेन शुरू।

4. विवाह के उम्मीदवारों से या तो कुछ नहीं पूछा जाता है या कुछ लोग (जो खुद को आधुनिक कहते हैं) फ़ोटो दिखा कर या आमने-सामने बिठा कर परिचय करवा देते हैं। ज्यादा सम्पन्न हैं तो आपस में फोन पर बकलोली भी होती है।

5. फिर उचित समय निर्धारित करके, विवाह समारोह आयोजित किया जाता है जिसमे ज्यादा से ज्यादा लोगों को, अपना स्टेटस दिखाने और जान पहचान बढ़ाने के लिये, तथा नेग/उपहार रूपी धन की वापसी की उम्मीद में, बुलाया जाता है।

इनकी आव-भगत की जाती है, वर पक्ष और वधू पक्ष के तमाम लोग इस तमाशे में शामिल होते हैं। जिनको भोजन कराने, ठहराने, घुमाने, लाने और ले जाने की व्यवस्था मेजबान करता है। भारी धन हानि। सूट बूट में तोंद वाले लोग आकर गरिष्ठ और महंगा भोजन भकोसते हैं और भरी हुई प्लेट कूड़े के ढेर में फेंक देते हैं।

6. इस सब के बाद या पहले (परम्परानुसार) विवाह की रस्म होती है। जिसमे कोई धार्मिक पुजारी/काजी/मुल्ला/पादरी आकर वर और वधु को सैकडों लोगों की मौजूदगी में जीवन भर साथ रहने की शपथ दिलवाता है और ईश्वर का डर दिखाता है कि यदि उन्होंने ऐसा नहीं किया तो बुरा होगा। सभी लोग इस agreement के गवाह बनते हैं और आज कल तो इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग भी करा ली जाती है कि कहीं दोनों में से कोई भाग निकला तो पकड़ा जा सके।

7. सम्भोग रात्रि (सुहाग रात): दो अनजान लोग सीधे कुश्ती लड़ते हैं। समाज का कुंवारी कन्या को प्रथम सम्भोग में रक्त रंजित करके यह कहना कि उसकी इस रक्त पात में सहमति थी। कमाल का समाज है न?

(यह तथ्य है कि बिना foreplay के कुवारी कन्या कभी कौमार्य भंग करवाने की इच्छुक नहीं हो सकती। भारतवासी ये foreplay किस चिड़िया का नाम है यही पूछते रहते हैं, आप अब समझ गए होंगे कि बलात्कार संस्कृति कैसे बनता है। कानून भी संस्कृति से प्रेरित। मेरिटल रेप पहले दिन ही हुआ है तो सभी पति जेल में होंगे। इसलिए जज दुरूपयोग का बहाना बना कर इसे टाल देते हैं। कुछ ऐसा ही जैसे पुरुष का बलात्कार कानून में अपराध नहीं है। बस खाली कहने को सम्विधान में समानता का अधिकार है)।

इतनी बड़ी परियोजना केवल 2 लोगों के बच्चे पैदा करने के लिये? नहीं मित्रों, बहुत बड़ी साजिश है इसके पीछे।

ये सब इसलिये ताकि कोई भी अपनी मर्जी से विवाह न कर ले। एक विवाह एक व्यापारी के लिए विज्ञापन, एक कारपोरेट के लिये नए व्यापार के लिये रास्ते खोलने वाला और बड़े लोगो से सम्पर्क बनाना हो सकता है।

धर्म को क्या फायदा है? जितने ज्यादा कमाने वाले होंगे उतना ज्यादा दान। उतने ज्यादा नामकरण, यग्योपवीत संस्कार, मुंडन, इत्यादि 16 संस्कारों में धन कमाने का अवसर। और फिर खानदानी लॉयल्टी।

अब अगर उन माता-पिता के बच्चे खुद ही अपना जीवन साथी चुन लेंगे तो उनके इस प्लान का क्या होगा?

भारत के परिपेक्ष्य में:

वधू पक्ष: कितने निष्ठुर हैं न ये माता पिता? एक तो लड़की को घर से विदा कर दिया जबरन और फिर रोने का नाटक भी? ज़िन्दगी भर अपमान करवाने और ससुराल वालों के नखरे और फरमाइशों को पूरा करने का वादा भी कर लिया। उनकी तरफ के बच्चे का भी चरणस्पर्श। दान देने वाला बाप छोटा और लेने वाला बड़ा?

वर पक्ष: एक तो लड़की ले आये दूसरे की खा पी कर, साथ में पैसा भी ले आये, फिर भी dowry चाहिए? नहीं दें तो?

1. लड़की केरोसीन stove से जल मरी। दुर्घटना है।

2. लड़की ने जहर खा लिया। कायर है।

3
. लड़की के फांसी लगा ली। चाय में चीनी डालने को कह दिया, इतनी सी बात पर नाराज हो गई थी।

4. नई शादी...

5. Repeat...

यदि दहेज की मांग पूरी करते रहे:

वधू पक्ष:

1. गरीबी में जीवन।

2. अपनी ही लड़की को कोसना।

3
. किस्मत को कोसना।

4. अपने लड़के की शादी में 2 गुना दहेज माँगूँगा तब जा कर कुछ आराम मिलेगा।

उधर वर-वधु का जीवन:

पति:

1. तू लाई ही क्या थी? ये दो कौड़ी का सामान?

2. तेरे बाप ने तुझे यही सिखा पढ़ा के भेजा है कि तू हमसे जुबान लड़ाती है?

3
. अब तेरे में वो पहले वाली बात नहीं रही, अब तेरे साथ मज़ा नहीं आता।

4. आफिस में अपनी जूनियर को पटाऊंगा। वो नया माल लगती है।

5. अब मस्त ज़िंदगी है, घरवाली और बाहरवाली दोनों होनी चाहिए।

सास:

1. अरे करमजली, फिर दूध जला दिया, यही सिखा कर भेजा है तेरी माँ ने?

2. अरे नास पीटी, तुझ से कहा था कि मुझे नाश्ता टाइम पर चाहिए, अभी तेरे बाप को बुलाती हूँ ठहर जा।

3
. अरे ये पोछे का पानी अब तक नहीं सूखा? अभी मैं गिर जाती तो? मार डालने का प्लान है।

4. फिर लड़की? लड़का कब देगी तू डायन?

ससुर:

1. बहू, ज़रा मेरा भी थोड़ा ध्यान रख लिया कर, तेरी सास तो कुछ करती नहीं है, तू आ गई तो लगा कि जीवन आराम से कट जाएगा, मेरे कपड़े, सामान वगेरह का ध्यान तुमको ही रखना है अब।

बहू:

1. एक आदमी से शादी की थी, ये तो पूरा कुटुंब ही पल्ले पड़ गया। क्या क्या कर लूँ अकेले मैं?

2. इज़्ज़त तो कोई है नहीं, नौकर बन कर जीना पड़ रहा है।

3
. लड़का क्या पड़ोस से कर लूं? जो होगा वही तो मिलेगा? में क्या जानू पेट मे क्या पल रहा है?

4. मैं कहाँ फंस गई?

5. वो पी कर आते हैं, 1 मिनट से ज्यादा सम्भोग नहीं करते, में तड़पती रहती हूं।

6. देवर की नज़र मेरे ऊपर है, अब तक खुद को रोका लेकिन अब कहीं फिसल न जाऊं।

7. पड़ौस का लड़का बहुत लाइन मारता है, इधर मुझे ये खुश कर नहीं पाते, कहीं मन बहक न जाये।

8. अब क्या कर सकती हूं, ऐसे ही जीना है अब मुझको। चुप रहूंगी।

ऑफिस की जूनियर:

1. Sir ने मेरा रेप किया। किस से कहूं? सहेली से कहती हूँ।

2. पागल हो गई क्या? वो तेरे से मजे ले रहा है तो लेने दे, मैंने भी यही झेला है। कुछ कहेगी तो demotion करवा देगा या निकलवा देगा, कॉन्ट्रासेप्टिव लेती रहना। सब ठीक होगा। किसी से कहना मत, नहीं तो सब तुझे ही गलत कहेंगे। सोसायटी लड़कियों को जॉब करते नहीं देख सकती, उनके लिये तो हम हमेशा धंधे वाली ही रहेंगे। और तुझे करना क्या है? शादी ही न? कर देगा तेरा बाप।

परिणाम: विवाह सफल! बधाई हो। लड़का हुआ है।

गुलामी स्वीकार कर लो तो कोई दिक्कत नहीं है। लड़की समाज के पांव की जूती ही तो है। लड़की का तो नाम ही समर्पण है। बोले तो आत्मसमर्पण (surrender)।

विरोध किया तो? समस्या शुरू। यहीं से सब दिक्कत शुरू है। समाज कहता है कि विरोध मत करो।

तो मत करिए, यही चाहते हैं न आप सब भी? जो चलता है चलने दो न। शुभांशु जी काहे पंगा ले रहे हैं दुनिया से? उंगली न करें। अच्छा नहीं होगा। है न?

इस सब का विरोध शुरू से क्यों नहीं हुआ? क्योकि इसको चलाने में धर्म का बहुत बड़ा हाथ था जिसके डर से लोगों ने विरोध नहीं किया।

"लड़की की अब लाश ही वापस आएगी।"

"पति का घर ही अब उसका घर है।"

इसी तरह लोग अपनी वास्तविक पृवृत्ति को छुपा कर जीने लगे, अपने पोलिगेमस होने को दबाए रहे, लेकिन समय बदला और इसके बुरे परिणाम सामने आने लगे, क्योकि इंसान अपनी पृवृत्ति को नहीं बदल सकता और बलात्कार का आविष्कार हुआ।

विवाहेतर सम्बन्ध, बलात्कार और हत्या सब अवैध कहलाने के डर से चुप चाप होने लगीं।

समाज के ठेकेदारों ने इस पर सजा रख दी लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ, बलात्कार के बाद सज़ा के डर से लड़की को मारा जाने लगा, यानी सज़ा से फायदे के स्थान पर नुकसान हो गया।

आज भी यही हो रहा है, दिल्ली रेप केस में ज्यादातर लड़के शादी शुदा थे। जो नाबालिग थे उनको शादीशुदा लोग भड़काते और उकसाते हैं। कहते हैं, नहीं करेगा? मर्द नही है साला।

शादी शुदा जीवन तो पत्नी का बलात्कार ही होता है 90%। कितनी पत्नियां होंगी जो खुद पति से आकर कहती हैं, "ऐ जी बहुत मन कर रहा है आज, चलो कमरे में।"

हमेशा पति ही अपनी इच्छा पूर्ति करता रहता है, महिला तो कह तक नहीं पाती। और यदि कहे तो? रंडी है, छिनाल है। पति भी कौन सा स्टैमिना वाला होता है, 1 या 2 मिनट में out। मौसम की तरह। जब मौसम का मजा आने लगता है तभी खत्म।

जो लोग बलात्कार नही कर सकते थे वो gf-bf खेलने लगे। वैसे इसमें भी पहले दिन बलात्कार होता ही है। इसे डेट रेप कहते हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि ये बलात्कारी प्यार का वास्ता देकर मना लेता है, जबकि दूसरे बन्दूक दिखा कर या ब्लैकमेल करके।

और क्या आपको सबसे बढ़िया उपाय पता है बलात्कार के केस से बचने का? लड़की से समझौता करके शादी कर लो। वह केस अपने आप ही निरस्त हो जाएगा। फिर चाहे उसी दिन तलाक/divorce देकर मुक्त हो जाओ। कमाते हो तो गुजारा भत्ता देने का नुकसान होगा। साथ ही कभी-कभी माफी मांगने भी जा सकते हैं, रात भर माफी मांगिये फिर अपने रस्ते। लड़की तलाक न दे तो? घरेलू हिंसा है न। झक मार के देगी...तलाक।

जब मुझे ये सब पता है तो मैं प्यार का नाटक नहीं करता, जिसके साथ सेक्स का मन है उस से सेक्स करो और जिस से प्यार करना है उस से प्यार करो। दोनों को मिलाने से ही क्लेश और अपराध होते हैं। सेक्स लोयल्टी की निशानी नहीं होता, लेकिन प्यार होता है।

इतना गन्दा समाज, इतना घटिया सिस्टम, इतने घटिया लोग। फिर क्यों न मैं साथ दूँ लिव इन रिलेशनशिप का? कोई दखल नहीं दूसरे का। आज़ादी, दो लोगों का व्यक्तिगत सम्बन्ध। ये उनके लिए जो बच्चे चाहते हैं।

जिनके बच्चे नहीं और अलग/व्यस्त रहते हैं तो वे अपने माता-पिता की देखभाल के लिये नौकर रख लें और माता-पिता स्वीकार लें इस सम्बंध को। नौकर, जिसकी पुलिस पड़ताल हो चुकी हो।

जो Antinatalist Vegans* हैं, वे Freesex का concept पढ़ें और सेफ सेक्स और प्यार को कायदे से मैनेज करें।

*Vegan: बहुत हो गया और जानकारी फिर कभी! इतने में ही मेरे को मारने को ढूंढ रहे होंगे आप सब। सबकी पोल जो खोल के फैला दी है! (ही ही ही) फिर से पिटने के लिए जल्द ही आऊंगा। डंडों को तेल पिला कर लगे रहिये मेरी जासूसी में।

अस्वीकरण: मेरी व्यक्तिगत सोच, किसी को बाध्य नहीं किया गया है। वही करें जो दिल कहे। धन्यवाद।

Final Edited: 2018/02/16 17:55 IST, First written: 2017/06/16 06:51 IST

मौलिक लेख: ~ Shubhanshu Singh Chauhan.....

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 May 2020 at 6:34 AM -

मर्दानगी

बच्चा पैदा करने के लिए क्या आवश्यक है..??

पुरुष का वीर्य और औरत का गर्भ !!!

लेकिन रुकिए ...सिर्फ गर्भ ???

नहीं... नहीं...!!!

एक ऐसा शरीर जो गर्भधारण के लिए तैयार हो।
जबकि वीर्य के लिए 13 साल और 70 साल का पुरुष भी चलेगा।
लेकिन गर्भाशय का मजबूत होना ... अति आवश्यक है,
इसलिए सेहत भी अच्छी होनी चाहिए।
एक ऐसी स्त्री का गर्भाशय
जिसको बाकायदा हर महीने समयानुसार
माहवारी (Period) आती हो।
जी हाँ !
वही माहवारी जिसको सभी स्त्रियाँ
हर महीने बर्दाश्त करती हैं।
बर्दाश्त इसलिए क्योंकि
महावारी (Period) उनकी Choice नहीं है।
यह कुदरत के द्वारा दिया गया एक नियम है।
वही महावारी जिसमें शरीर पूरा अकड़ जाता है,
कमर लगता है टूट गयी हो,
पैरों की पिण्डलियाँ फटने लगती हैं,
लगता है पेड़ू में किसी ने पत्थर ठूँस दिये हों,
दर्द की हिलोरें सिहरन पैदा करती हैं।
ऊपर से लोगों की घटिया मानसिकता की वजह से इसको छुपा छुपा के रखना अपने आप में किसी जँग से कम नहीं।

बच्चे को जन्म देते समय असहनीय दर्द को बर्दाश्त करने के लिए मानसिक और शारीरिक दोनो रूप से तैयार हों।
चालीस हड्डियाँ एक साथ टूटने जैसा दर्द
सहन करने की क्षमता से परिपूर्ण हों।

गर्भधारण करने के बाद शुरू के 3 से 4 महीने जबरदस्त शारीरिक और हार्मोनल बदलाव के चलते उल्टियाँ, थकान, अवसाद के लिए मानसिक रूप से तैयार हों।
5वें से 9वें महीने तक अपने बढ़े हुए पेट और शरीर के साथ सभी काम यथावत करने की शक्ति हो।

गर्भधारण के बाद कुछ
विशेष परिस्थितियों में तरह तरह के
हर दूसरे तीसरे दिन इंजेक्शन लगवानें की हिम्मत रखती हों।
(जो कभी एक इंजेक्शन लगने पर भी
घर को अपने सिर पर उठा लेती थी।)
प्रसव पीड़ा को दो-चार, छः घंटे के अलावा, दो दिन, तीन दिन तक बर्दाश्त कर सकने की क्षमता हो। और अगर फिर भी बच्चे का आगमन ना हो तो
गर्भ को चीर कर बच्चे को बाहर निकलवाने की हिम्मत रखती हों।

अपने खूबसूरत शरीर में Stretch Marks और Operation का निशान ताउम्र अपने साथ ढोने को तैयार हों। कभी कभी प्रसव के बाद दूध कम उतरने या ना उतरने की दशा में तरह-तरह के काढ़े और दवाई पीने का साहस रखती हों।
जो अपनी नीन्द को दाँव पर लगा कर
दिन और रात में कोई फर्क ना करती हो।
3
साल तक सिर्फ बच्चे के लिए ही जीने की शर्त पर गर्भधारण के लिए राजी होती हैं।

गर्भ में बच्चा आने के बाद एक स्त्री की यही मनोदशा होती है, जिसे एक 99% पुरुष शायद ही समझ पाएं।
औरत तो स्वयं अपने आप में एक शक्ति है, बलिदान है।
इतना कुछ सहन करतें हुए भी वह
तुम्हारें अच्छे-बुरे, पसन्द-नापसन्द का ख्याल रखती है।
अरे जो पूजा करनें योग्य है जो पूजनीय है
उसे हम बस अपनी उपभोग की वस्तु समझते हैं।
उसकी ज़िन्दगी के हर फैसले, खुशियों और धारणाओं पर हम अपना अँकुश रख कर खुद को मर्द समझते हैं।
पुरुषों को इस घटिया मर्दानगी पर अगर इतना ही घमण्ड है तो बस एक दिन खुद को उनकी जगह रख कर देखें, अगर ये दो कौड़ी की मर्दानगी बिखर कर चकनाचूर न हो जाये तो कहना।
याद रखें
जो औरतों की इज्ज़त करना नहीं जानते
वो कभी इज्जतदार मर्द कहलाने लायक हो ही नहीं सकते।

तेजपाल मौर्य बरेली

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 26 May 2020 at 6:34 AM -

मर्दानगी

बच्चा पैदा करने के लिए क्या आवश्यक है..??

पुरुष का वीर्य और औरत का गर्भ !!!

लेकिन रुकिए ...सिर्फ गर्भ ???

नहीं... नहीं...!!!

एक ऐसा शरीर जो गर्भधारण के लिए तैयार हो।
जबकि वीर्य के लिए 13 साल और 70 साल का पुरुष भी चलेगा।
लेकिन गर्भाशय का मजबूत होना ... अति आवश्यक है,
इसलिए सेहत भी अच्छी होनी चाहिए।
एक ऐसी स्त्री का गर्भाशय
जिसको बाकायदा हर महीने समयानुसार
माहवारी (Period) आती हो।
जी हाँ !
वही माहवारी जिसको सभी स्त्रियाँ
हर महीने बर्दाश्त करती हैं।
बर्दाश्त इसलिए क्योंकि
महावारी (Period) उनकी Choice नहीं है।
यह कुदरत के द्वारा दिया गया एक नियम है।
वही महावारी जिसमें शरीर पूरा अकड़ जाता है,
कमर लगता है टूट गयी हो,
पैरों की पिण्डलियाँ फटने लगती हैं,
लगता है पेड़ू में किसी ने पत्थर ठूँस दिये हों,
दर्द की हिलोरें सिहरन पैदा करती हैं।
ऊपर से लोगों की घटिया मानसिकता की वजह से इसको छुपा छुपा के रखना अपने आप में किसी जँग से कम नहीं।

बच्चे को जन्म देते समय असहनीय दर्द को बर्दाश्त करने के लिए मानसिक और शारीरिक दोनो रूप से तैयार हों।
चालीस हड्डियाँ एक साथ टूटने जैसा दर्द
सहन करने की क्षमता से परिपूर्ण हों।

गर्भधारण करने के बाद शुरू के 3 से 4 महीने जबरदस्त शारीरिक और हार्मोनल बदलाव के चलते उल्टियाँ, थकान, अवसाद के लिए मानसिक रूप से तैयार हों।
5वें से 9वें महीने तक अपने बढ़े हुए पेट और शरीर के साथ सभी काम यथावत करने की शक्ति हो।

गर्भधारण के बाद कुछ
विशेष परिस्थितियों में तरह तरह के
हर दूसरे तीसरे दिन इंजेक्शन लगवानें की हिम्मत रखती हों।
(जो कभी एक इंजेक्शन लगने पर भी
घर को अपने सिर पर उठा लेती थी।)
प्रसव पीड़ा को दो-चार, छः घंटे के अलावा, दो दिन, तीन दिन तक बर्दाश्त कर सकने की क्षमता हो। और अगर फिर भी बच्चे का आगमन ना हो तो
गर्भ को चीर कर बच्चे को बाहर निकलवाने की हिम्मत रखती हों।

अपने खूबसूरत शरीर में Stretch Marks और Operation का निशान ताउम्र अपने साथ ढोने को तैयार हों। कभी कभी प्रसव के बाद दूध कम उतरने या ना उतरने की दशा में तरह-तरह के काढ़े और दवाई पीने का साहस रखती हों।
जो अपनी नीन्द को दाँव पर लगा कर
दिन और रात में कोई फर्क ना करती हो।
3
साल तक सिर्फ बच्चे के लिए ही जीने की शर्त पर गर्भधारण के लिए राजी होती हैं।

गर्भ में बच्चा आने के बाद एक स्त्री की यही मनोदशा होती है, जिसे एक 99% पुरुष शायद ही समझ पाएं।
औरत तो स्वयं अपने आप में एक शक्ति है, बलिदान है।
इतना कुछ सहन करतें हुए भी वह
तुम्हारें अच्छे-बुरे, पसन्द-नापसन्द का ख्याल रखती है।
अरे जो पूजा करनें योग्य है जो पूजनीय है
उसे हम बस अपनी उपभोग की वस्तु समझते हैं।
उसकी ज़िन्दगी के हर फैसले, खुशियों और धारणाओं पर हम अपना अँकुश रख कर खुद को मर्द समझते हैं।
पुरुषों को इस घटिया मर्दानगी पर अगर इतना ही घमण्ड है तो बस एक दिन खुद को उनकी जगह रख कर देखें, अगर ये दो कौड़ी की मर्दानगी बिखर कर चकनाचूर न हो जाये तो कहना।
याद रखें
जो औरतों की इज्ज़त करना नहीं जानते
वो कभी इज्जतदार मर्द कहलाने लायक हो ही नहीं सकते।

तेजपाल मौर्य बरेली

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 24 May 2020 at 6:45 PM -

परिवार नियोजन

जिस भारत देश में 20 करोड़ लोग बिना खाना खाये रात गुजारने को मजबूर होते हों उस देश में विशेष परिवार नियोजन कानून बनना चाहिए। जैसे कि-
1- इनकम टैक्स नहीं देते तो एक बच्चे से ज्यादा नहीं।
2- इनकम टैक्स देते हैं तो दो से ज्यादा ... नहीं।
3
- उच्च प्रतिभा के धनी हैं तो तीन से ज्यादा नहीं।
4- 50 साल के बाद भी शारीरिक और मानसिक रूप से सशक्त हैं तो चौथा बच्चा भी पैदा कर सकते हैं। लम्बी उम्र तक बेहतर कार्य क्षमता वाले लोगों की संख्या बढ़ेगी।
5- साठ साल के बाद भी यदि शारीरिक और मानसिक रूप से सशक्त हैं तो पांचवां बच्चा भी पैदा कर सकते हैं। ऐसे लोगों की संतानें दीर्घायु हो सकती हैं।
6- भिक्षा मांगते हैं तो बच्चा नहीं पैदा कर सकते।
7- आपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं तो 15 साल की उम्र के बाद जब भी आपराधिक मानसिकता का पता चले तत्काल नसबंदी।

इससे देश के निम्नकोटि के जीन की आबादी घटने लगेगी और देश कांग्रेसमुक्त भले ही न हो पाये पाखंडमुक्त जरूर हो जायेगा।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 May 2020 at 9:06 AM -

कर्मों का फल

Karmon Ka Phal - Munshi Premchand
कर्मों का फल - मुंशी प्रेम चंद

1
मुझे हमेशा आदमियों के परखने की सनक रही है और अनुभव के आधार पर कह सकता हूँ कि यह अध्ययन जितना मनोरंजक, शिक्षाप्रद और उदधाटनों से भरा हुआ है, उतना शायद और कोई अध्ययन ... न होगा। लेकिन अपने दोस्त लाला साईंदयाल से बहुत अर्से तक दोस्ती और बेतकल्लुफी के सम्बन्ध रहने पर भी मुझे उनकी थाह न मिली। मुझे ऐसे दुर्बल शरीर में ज्ञानियों की-सी शान्ति और संतोष देखकर आश्चर्य होता था जो एक़ नाजुक पौधे की तरह मुसीबतों के झोंकों में भी अचल और अटल रहता था। ज्यों वह बहुत ही मामूली दरजे का आदमी था जिसमें मानव कमजोरियों की कमी न थी। वह वादे बहुत करता था लेकिन उन्हें पूरा करने की जरूरत नहीं समझता था। वह मिथ्याभाषी न हो लेकिन सच्चा भी न था। बेमुरौवत न हो लेकिन उसकी मुरौवत छिपी रहती थी। उसे अपने कर्त्तव्य पर पाबन्द रखने के लिए दबाव ओर निगरानी की जरुरत थी, किफायतशारी के उसूलों से बेखबर, मेहनत से जी चुराने वाला, उसूलों का कमजोर, एक ढीला-ढाला मामूली आदमी था। लेकिन जब कोई मुसीबत सिर पर आ पड़ती तो उसके दिल में साहस और दृढ़ता की वह जबर्दस्त ताकत पैदा हो जाती थी जिसे शहीदों का गुण कह सकते हैं। उसके पास न दौलत थी न धार्मिक विश्वास, जो ईश्वर पर भरोसा करने और उसकी इच्छाओं के आगे सिर झुका देने का स्त्रोत है। एक छोटी-सी कपड़े की दुकान के सिवाय कोई जीविका न थी। ऐसी हालतों में उसकी हिम्मत और दृढ़ता का सोता कहॉँ छिपा हुआ है, वहॉँ तक मेरी अन्वेषण-दृष्टि नहीं पहुँचती थी। 


बाप के मरते ही मुसीबतों ने उस पर छापा मारा कुछ थोड़ा-सा कर्ज विरासत में मिला जिसमें बराबर बढ़ते रहने की आश्चर्यजनक शक्ति छिपी हुई थी। बेचारे ने अभी बरसी से छुटकारा नहीं पाया था कि महाजन ने नालिश की और अदालत के तिलस्मी अहाते में पहुँचते ही यह छोटी-सी हस्ती इस तरह फूली जिस तरह मशक फलती है। डिग्री हुई। जो कुछ जमा-जथा थी; बर्तन-भॉँड़ें, हॉँडी-तवा, उसके गहरे पेट में समा गये। मकान भी न बचा। बेचारे मुसीबतों के मारे साईंदयाल का अब कहीं ठिकाना न था। कौड़ी-कौड़ी को मुहताज, न कहीं घर, न बार। कई-कई दिन फाके से गुजर जाते। अपनी तो खैर उन्हें जरा भी फिक्र न थी लेकिन बीवी थी, दो-तीन बच्चे थे, उनके लिए तो कोई-न-कोई फिक्र करनी पड़ती थी। कुनबे का साथ और यह बेसरोसामानी, बड़ा दर्दनाक दृश्य था। शहर से बाहर एक पेड़ की छॉँह में यह आदमी अपनी मुसीबत के दिन काट रहा था। सारे दिन बाजारों की खाक छानता। आह, मैंने एक बार उस रेलवे स्टेशन पर देखा। उसके सिर पर एक भारी बोझ था। उसका नाजुग, सुख-सुविधा में पला हुआ शरीर, पसीना-पसीना हो रहा था। पैर मुश्किल से उठते थे। दम फूल रहा था लेकिन चेहरे से मर्दाना हिम्मत और मजबूत इरादे की रोशनी टपकती थी। चेहरे से पूर्ण संतोष झलक रहा था। उसके चेहरे पर ऐसा इत्मीनान था कि जैसे यही उसका बाप-दादों का पेशा है। मैं हैरत से उसका मुंह ताकता रह गया। दुख में हमदर्दी दिखलाने की हिम्मत न हुई। कई महीने तक यही कैफियत रही। आखिरकार उसकी हिम्मत और सहनशक्ति उसे इस कठिन दुर्गम घाटी से बाहर निकल लायी। 

3
 
थोड़े ही दिनों के बाद मुसीबतों ने फिर उस पर हमला किया। ईश्वर ऐसा दिन दुश्मन को भी न दिखलाये। मैं एक महीने के लिए बम्बई चला गया था, वहॉँ से लौटकर उससे मिलने गया। आह, वह दृश्य याद करके आज भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं। ओर दिल डर से कॉँप उठता है। सुबह का वक्त था। मैंने दरवाजे पर आवाज दी और हमेशा की तरह बेतकल्लुफ अन्दर चला गया, मगर वहॉँ साईंदयाल का वह हँसमुख चेहरा, जिस पर मर्दाना हिम्मत की ताजगी झलकती थी, नजर न आया। मैं एक महीने के बाद उनके घर जाऊँ और वह आँखों से रोते लेकिन होंठों से हँसते दौड़कर मेरे गले लिपट न जाय! जरूर कोई आफत है। उसकी बीवी सिर झुकाये आयी और मुझे उसके कमरे में ले गयी। मेरा दिल बैठ गया। साईंदयाल एक चारपाई पर मैले-कुचैले कपड़े लपेटे, आँखें बन्द किये, पड़ा दर्द से कराह रहा था। जिस्म और बिछौने पर मक्खियों के गुच्छे बैठे हुए थे। आहट पाते ही उसने मेरी तरफ देखा। मेरे जिगर के टुकड़े हो गये। हड्डियों का ढॉँचा रह गया था। दुर्बलता की इससे ज्यादा सच्ची और करुणा तस्वीर नहीं हो सकती। उसकी बीवी ने मेरी तरफ निराशाभरी आँखों से देखा। मेरी आँसू भर आये। उस सिमटे हुए ढॉँचे में बीमारी को भी मुश्किल से जगह मिलती होगी, जिन्दगी का क्या जिक्र! आखिर मैंने धीरे पुकारा। आवाज सुनते ही वह बड़ी-बड़ी आँखें खुल गयीं लेकिन उनमें पीड़ा और शोक के आँसू न थे, सन्तोष और ईश्वर पर भरोसे की रोशनी थी और वह पीला चेहरा! आह, वह गम्भीर संतोष का मौन चित्र, वह संतोषमय संकल्प की सजीव स्मृति। उसके पीलेपन में मर्दाना हिम्मत की लाली झलकती थी। मैं उसकी सूरत देखकर घबरा गया। क्या यह बुझते हुए चिराग की आखिरी झलक तो नहीं है? 
मेरी सहमी हुई सूरत देखकर वह मुस्कराया और बहुत धीमी आवाज में बोला—तुम ऐसे उदास क्यों हो, यह सब मेरे कर्मों का फल है। 


मगर कुछ अजब बदकिस्मत आदमी था। मुसीबतों को उससे कुछ खास मुहब्बत थी। किसे उम्मीद थी कि वह उस प्राणघातक रोग से मुक्ति पायेगा। डाक्टरों ने भी जवाब दे दिया था। मौत के मुंह से निकल आया। अगर भविष्य का जरा भी ज्ञान होता तो सबसे पहले मैं उसे जहर दे देता। आह, उस शोकपूर्ण घटना को याद करके कलेजा मुंह को आता है। धिककार है इस जिन्दगी पर कि बाप अपनी आँखों से अपनी इकलौते बेटे का शोक देखे। 
कैसा हँसमुख, कैसा खूबसूरत, होनहार लड़का था, कैसा सुशील, कैसा मधुरभाषी, जालिम मौत ने उसे छॉँट लिया। प्लेग की दुहाई मची हुई थी। शाम को गिल्टी निकली और सुबह को—कैसी मनहूस, अशुभ सुबह थी—वह जिन्दगी सबेरे के चिराग की तरह बुझ गयी। मैं उस वक्त उस बच्चे के पास बैठा हुआ था और साईंदयाल दीवार का सहारा लिए हुए खामोशा आसमान की तरफ देखता था। मेरी और उसकी आँखों के सामने जालिम और बेरहम मौत ने उस बचे को हमारी गोद से छीन लिया। मैं रोते हुए साईंदयाल के गले से लिपट गया। सारे घर में कुहराम मचा हुआ था। बेचारी मॉँ पछाड़ें खा रही थी, बहनें दौड-दौड़कर भाई की लाश से लिपटती थीं। और जरा देर के लिए ईर्ष्या ने भी समवेदना के आगे सिर झुका दिया था—मुहल्ले की औरतों को आँस बहाने के लिए दिल पर जोर डालने की जरूरत न थी। 
जब मेरे आँसू थमे तो मैंने साईंदयाल की तरफ देखा। आँखों में तो आँसू भरे हुए थे—आह, संतोष का आँखों पर कोई बस नहीं, लेकिन चेहरे पर मर्दाना दृढ़ता और समर्पण का रंग स्पष्ट था। इस दुख की बाढ़ और तूफानों मे भी शान्ति की नैया उसके दिल को डूबने से बचाये हुए थी। 
इस दृश्य ने मुझे चकित नहीं स्तम्भित कर दिया। सम्भावनाओं की सीमाएँ कितनी ही व्यापक हों ऐसी हृदय-द्रावक स्थिति में होश-हवास और इत्मीनान को कायम रखना उन सीमाओं से परे है। लेकिन इस दृष्टि से साईंदयाल मानव नहीं, अति-मानव था। मैंने रोते हुए कहा—भाईसाहब, अब संतोष की परीक्षा का अवसर है। उसने दृढ़ता से उत्तर दिया—हॉँ, यह कर्मों का फल है। 
मैं एक बार फिर भौंचक होकर उसका मुंह ताकने लगा। 


लेकिन साईंदयाल का यह तपस्वियों जैसा धैर्य और ईश्वरेच्छा पर भरोसा अपनी आँखों से देखने पर भी मेरे दिल में संदेह बाकी थे। मुमकिन है, जब तक चोट ताजी है सब्र का बाँध कायम रहे। लेकिन उसकी बुनियादें हिल गयी हैं, उसमें दरारें पड़ गई हैं। वह अब ज्यादा देर तक दुख और शोक की जहरों का मुकाबला नहीं कर सकता। 
क्या संसार की कोई दुर्घटना इतनी हृदयद्रावक, इतनी निर्मम, इतनी कठोर हो सकता है! संतोष और दृढ़ता और धैर्य और ईश्वर पर भरोसा यह सब उस आँधी के समान घास-फूस से ज्यादा नहीं। धार्मिक विश्वास तो क्या, अध्यात्म तक उसके सामने सिर झुका देता है। उसके झोंके आस्था और निष्ठा की जड़ें हिला देते हैं। 
लेकिन मेरा अनुमान गलत निकला। साईंदयाल ने धीरज को हाथ से न जाने दिया। वह बदस्तूर जिन्दगी के कामों में लग गया। दोस्तों की मुलाकातें और नदी के किनारे की सैर और तफरीह और मेलों की चहल-पहल, इन दिलचस्पियों में उसके दिल को खींचने की ताकत अब भी बाकी थी। मैं उसकी एक-एक क्रिया को, एक-एक बात को गौर से देखता और पढ़ता। मैंने दोस्ती के नियम-कायदों को भुलाकर उसे उस हालत में देखा जहॉँ उसके विचारों के सिवा और कोई न था। लेकिन उस हालत में भी उसके चेहरे पर वही पुरूषोचित धैर्य था और शिकवे-शिकायत का एक शब्द भी उसकी जबान पर नहीं आया। 


इसी बीच मेरी छोटी लड़की चन्द्रमुखी निमोनिया की भेंट चढ़ गयी। दिन के धंधे से फुरसत पाकर जब मैं घर पर आता और उसे प्यार से गोद में उठा लेता तो मेरे हृदय को जो आनन्द और आत्मिक शक्ति मिलती थी, उसे शब्दों में नहीं व्यक्त कर सकता। उसकी अदाएँ सिर्फ दिल को लुभानेवाली नहीं गम को भुलानेवाली हैं। जिस वक्त वह हुमककर मेरी गोद में आती तो मुझे तीनों लोक की संपत्ति मिल जाती थी। उसकी शरारतें कितनी मनमोहक थीं। अब हुक्के में मजा नहीं रहा, कोई चिलम को गिरानेवाला नहीं! खाने में मजा नहीं आता, कोई थाली के पास बैठा हुआ उस पर हमला करनेवाला नहीं! मैं उसकी लाश को गोद में लिये बिलख-बिलखकर रो रहा था। यही जी चाहता था कि अपनी जिन्दगी का खात्मा कर दूँ। यकायक मैंने साईंदयाल को आते देखा। मैंने फौरन आँसू पोंछ डाले और उस नन्हीं-सी जान को जमीन पर लिटाकर बाहर निकल आया। उस धैर्य और संतोष के देवता ने मेरी तरफ संवेदनशील की आँखों से देखा और मेरे गले से लिपटकर रोने लगा। मैंने कभी उसे इस तरह चीखें मारकर रोते नहीं देखा। रोते-रोते उसी हिचकियॉँ बंध गयीं, बेचैनी से बेसुध और बेहार हो गया। यह वही आदमी है जिसका इकलौता बेटा मरा और माथे पर बल नहीं आया। यह कायापलट क्यों? 


इस शोक पूर्ण घटना के कई दिन बाद जबकि दुखी दिल सम्हलने लगा, एक रोज हम दोनों नदी की सैर को गये। शाम का वक्त था। नदी कहीं सुनहरी, कहीं नीली, कहीं काली, किसी थके हुए मुसाफिर की तरह धीरे-धीरे बह रही थी। हम दूर जाकर एक टीले पर बैठ गये लेकिन बातचीत करने को जी न चाहता था। नदी के मौन प्रवाह ने हमको भी अपने विचारों में डुबो दिया। नदी की लहरें विचारों की लहरों को पैदा कर देती हैं। मुझे ऐसा मालूम हुआ कि प्यारी चन्द्रमुखी लहरों की गोद में बैठी मुस्करा रही है। मैं चौंक पड़ा ओर अपने आँसुओं को छिपाने के लिए नदी में मुंह धोने लगा। साईंदयाल ने कहा—भाईसाहब, दिल को मजबूत करो। इस तरह कुढ़ोगे तो जरूर बीमार हो जाओगे। 
मैंने जवाब दिया—ईश्वर ने जितना संयम तुम्हें दिया है, उसमें से थोड़ा-सा मुझे भी दे दो, मेरे दिल में इतनी ताकत कहॉँ। 
साईंदयाल मुस्कराकर मेरी तरफ ताकने लगे। 
मैंने उसी सिलसिले में कहा—किताबों में तो दृढ़ता और संतोष की बहुत-सी कहानियॉँ पढ़ी हैं मगर सच मानों कि तुम जैसा दृढ़, कठिनाइयों में सीधा खड़ा रहने वाला आदमी आज तक मेरी नजर से नहीं गुजरा। तुम जानते हो कि मुझे मानव स्वभाव के अध्ययन का हमेशा से शौक है लेकिन मेरे अनुभव में तुम अपनी तरह के अकेले आदमी हो। मैं यह न मानूँगा कि तुम्हारे दिल में दर्द और घुलावट नहीं है। उसे मैं अपनी आँखों से देख चुका हूँ। फिर इस ज्ञानियों जैसे संतोष और शान्ति का रहस्य तुमने कहॉँ छिपा रक्खा है? तुम्हें इस समय यह रहस्य मुझसे कहना पड़ेगा। साईंदयाल कुछ सोच-विचार में पड़ गया और जमीन की तरफ ताकते हुए बोला—यह कोई रहस्य नहीं, मेरे कर्मों का फल है। 
यह वाक्य मैंने चौथी बार उसकी जबान से सुना और बोला—जिन, कर्मों का फल ऐसा शक्तिदायक है, उन कर्मों की मुझे भी कुछ दीक्षा दो। मैं ऐसे फलों से क्यों वंचित रहूँ। 
साईंदयाल ने व्याथापूर्ण स्वर में कहा—ईश्वर न करे कि तुम ऐसा कर्म करो और तुम्हारी जिन्दगी पर उसका काला दाग लगे। मैंने जो कुछ किया है, व मुझे ऐसा लज्जाजनक और ऐसा घृणित मालूम होता है कि उसकी मुझे जो कुछ सजा मिले, मैं उसे खुशी के साथ झेलने को तैयार हूँ। आह! मैंने एक ऐसे पवित्र खानदान को, जहॉँ मेरा विश्वास और मेरी प्रतिष्ठा थी, अपनी वासनाओं की गन्दगी में लिथेड़ा और एक ऐसे पवित्र हृदय को जिसमें मुहब्बत का दर्द था, जो सौन्दर्य-वाटिका की एक अनोखी-नयी खिली हुई कली थी, और सच्चाई थी, उस पवित्र हृदय में मैंने पाप और विश्वासघात का बीज हमेशा के लिएबो दिया। यह पाप है जो मुझसे हुआ है और उसका पल्ला उन मुसीबतों से बहुत भारी है जो मेरे ऊपर अब तक पड़ी हैं या आगे चलकर पडेंगी। कोई सजा, कोई दुख, कोई क्षति उसका प्रायश्चित नहीं कर सकती। 
मैंने सपने में भी न सोचा था कि साईंदयाल अपने विश्वासों में इतना दृढ़ है। पाप हर आदमी से होते हैं, हमारा मानव जीवन पापों की एक लम्बी सूची है, वह कौन-सा दामन है जिस पर यह काले दाग न हों। लेकिन कितने ऐसे आदमी हैं जो अपने कर्मों की सजाओं को इस तरह उदारतापूर्वक मुस्कराते हुए झेलने के लिए तैयार हों। हम आग में कूदते हैं लेकिन जलने के लिए तैयार नहीं होते। 
मैं साईंदयाल को हमेशा इज्जत की निगाह से देखता हूँ, इन बातों को सुनकर मेरी नजरों में उसकी इज्जत तिगुनी हो गयी। एक मामूली दुनियादार आदमी के सीने में एक फकीर का दिल छिपा हुआ था जिसमें ज्ञान की ज्योति चमकती थी। मैंने उसकी तरफ श्रद्धापूर्ण आँखों से देखा और उसके गले से लिपटकर बोला—साईंदयाल, अब तक मैं तुम्हें एक दृढ़ स्वभाव का आदमी समझता था, लेकिन आज मालूम हुआ कि तुम उन पवित्र आत्माओं में हो, जिनका अस्तित्व संसार के लिए वरदान है। तुम ईश्वर के सच्चे भक्त हो और मैं तुम्हारे पैरों पर सिर झुकाता हूँ। 

('प्रेम पचीसी' से) 

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 May 2020 at 8:30 AM -

उम्मीद

 Hindi Kahani- हिंदी कहानी
इस कहानी को एडिट करना है।
Kaptaan Sahib - Munshi Premchand
कप्तान साहब - मुंशी प्रेम चंद

1
जगत सिंह को स्कूल जाना कुनैन की गोली खाने या मछली का तेल पीने से कम अप्रिय न लगता था। वह सैलानी, आवारा और घुमक्कड़ युवक था। ... वह कभी दरिया की सैर करता तो मल्लाहों की डोंगियों में बैठकर उस पार के देहातों में निकल जाता। कभी अमरूद के बागों की ओर निकल जाता तो अमरूदों के साथ साथ माली की गालियां भी बड़े मजे से खाता। । गालियां खाने में उसे विशेष आनंद आता था। गालियां खाने का कोई अवसर वह हाथ से जाने नहीं देता था। सवारी के घोड़े के पीछे ताली बजाना, इक्कों को पीछे से पकड़ कर अपनी ओर खींचना, बूढों की चाल की नकल करना, उसके मनोरंजन के प्रिय विषय थे। इस प्रकार का मनोरंजन करने में भी उसको बढ़िया बढ़िया किस्म की गालियां खाने को मिलती रहतीं। उसको आलसी कहना तो गलत होगा लेकिन कामचोर निसंदेह था। कामचोर काम तो नहीं करता; पर दुर्व्यसनों का दास होता है, और दुर्व्यसन धन के बिना पूरे नहीं होते। जगतसिंह को जब भी अवसर मिलता घर से रूपये उड़ा ले जाता। नकद न मिले, तो बरतन और कपड़े उठा ले जाने में भी उसे संकोच नहीं होता था। घर में जो भी शीशियां और बोतलें थीं, वह सब उसने एक-एक करके गुदड़ी बाजार पहुँचा दीं। पुराने दिनों की कितनी ही चीजें घर में पड़ी थीं, मगर उसके मारे एक भी न बची। वह इस कला में ऐसा दक्ष ओर निपुण था कि उसकी चतुराई और पटुता पर आश्चर्य होता था। एक बार बाहर ही बाहर, केवल कार्निसों के सहारे अपने दो-मंजिला मकान की छत पर चढ़ गया और ऊपर ही से पीतल की एक बड़ी थाली लेकर उतर आया। घर वालों को आहट तक न मिली। 
उसके पिता ठाकुर भगत सिहं अपने कस्बे के डाकखाने के मुंशी थे। अफसरों ने उन्हें शहर का डाकखाना बड़ी दौड़-धूप करने पर दिया था; किन्तु भगत सिंह जिन इरादों से यहाँ आये थे, उनमें से एक भी पूरा न हुआ। उलटी हानि यह हुई कि देहातो में जो भाजी-साग, उपले-ईधन मुफ्त मिल जाते थे, वे सब यहाँ बंद हो गये। यहाँ सबसे पुराना घराँव था। न किसी को दबा सकते थे, न सता सकते थे। इस दुरवस्था में जगतसिंह की हथलपकियॉँ बहुत अखरतीं। उन्होंने कितनी ही बार उसे बड़ी निर्दयता से पीटा। जगतसिंह भीमकाय होने पर भी चुपचाप मार खा लिया करता। अगर वह अपने पिता के दोनों हाथ पकड़ लेता, तो वह हिल भी न सकते; पर जगतसिंह इतना सीनाजोर न था। हाँ, मार-पीट, घुड़की-धमकी किसी का उस पर कोई असर न होता था। 
जगतसिंह ज्यों ही घर में कदम रखता; चारों ओर से कॉँव-कॉँव मच जाती, मॉँ दुर-दुर करके दौड़ती, बहने गालियॉँ देन लगती; मानो घर में कोई सॉँड़ घुस आया हो। घर के ताले उसकी सूरत से जलते थे। इन तिरस्कारों ने उसे निर्लज्ज बना दिया था। कष्टों के ज्ञान से वह निर्द्वन्द्व-सा हो गया था। जहाँ नींद आ जाती, वहीं पड़ रहता; जो कुछ मिल जाता, वही खा लेता। 
ज्यों-ज्यों घर वालें को उसकी चोर-कला के गुप्त साधनों का ज्ञान होता जाता था, वे उससे चौकन्ने होते जाते थे। यहाँ तक कि एक बार पूरे महीने-भर तक उसकी दाल न गली। चरस वाले के कई रूपये ऊपर चढ़ गये। गॉँजे वाले ने धुआँधार तकाजे करने शुरू किय। हलवाई कड़वी बातें सुनाने लगा। बेचारे जगत को निकलना मुश्किल हो गया। रात-दिन ताक-झॉँक में रहता; पर घात न मिलत थी। आखिर एक दिन बिल्ली के भागों छींका टूटा। भक्तसिंह दोपहर को डाकखानें से चले, जो एक बीमा-रजिस्ट्री जेब में डाल ली। कौन जाने कोई हरकारा या डाकिया शरारत कर जाए; किंतु घर आये तो लिफाफे को अचकन की जेब से निकालने की सुधि न रही। जगतसिंह तो ताक लगाये हुए था ही। पेसे के लोभ से जेब टटोली, तो लिफाफा मिल गया। उस पर कई आने के टिकट लगे थे। वह कई बार टिकट चुरा कर आधे दामों पर बेच चुका था। चट लिफाफा उड़ा दिया। यदि उसे मालूम होता कि उसमें नोट हें, तो कदाचित वह न छूता; लेकिन जब उसने लिफाफा फाड़ डाला और उसमें से नोट निक पड़े तो वह बड़े धर्मसंकट में पड़ गया। वह फटा हुआ लिफाफा गला-फाड़ कर उसके दुष्कृत्य को धिक्कारने लगा। उसकी दशा उस शिकारी की-सी हो गयी, जो चिड़ियों का शिकार करने जाए और अनजाने में किसी आदमी पर निशाना मार दे। उसके मन में पश्चाताप था, लज्जा थी, दु:ख था, पर उसमें भूल का दंड सहने की शक्ति न थी। उसने नोट लिफाफे में रख दिये और बाहर चला गया। 
गरमी के दिन थे। दोपहर को सारा घर सो रहा था; पर जगत की आँखों में नींद न थी। आज उसकी बुरी तरह कुटाई होगी- इसमें संदेह न था। उसका घर पर रहना ठीक नहीं, दस-पॉँच दिन के लिए उसे कहीं खिसक जाना चाहिए। तब तक लोगों का क्रोध शांत हो जाता। लेकिन कहीं दूर गये बिना काम न चलेगा। बस्ती में वह क्रोध दिन तक अज्ञातवास नहीं कर सकता। कोई न कोई जरूर ही उसका पता देगा ओर वह पकड़ लिया जायगा। दूर जाने केक लिए कुछ न कुछ खर्च तो पास होना ही चहिए। क्यों न वह लिफाफे में से एक नोट निकाल ले? यह तो मालूम ही हो जायगा कि उसी ने लिफाफा फाड़ा है, फिर एक नोट निकल लेने में क्या हानि है? दादा के पास रूपये तो हे ही, झक मार कर दे देंगे। यह सोचकर उसने दस रूपये का एक नोट उड़ा लिया; मगर उसी वक्त उसके मन में एक नयी कल्पना का प्रादुर्भाव हुआ। अगर ये सब रूपये लेकर किसी दूसरे शहर में कोई दूकान खोल ले, तो बड़ा मजा हो। फिर एक-एक पैसे के लिए उसे क्यों किसी की चोरी करनी पड़े! कुछ दिनों में वह बहुत-सा रूपया जमा करके घर आयेगा; तो लोग कितने चकित हो जाएेंगे! 
उसने लिफाफे को फिर निकाला। उसमें कुल दो सौ रूपए के नोट थे। दो सौ में दूध की दूकान खूब चल सकती है। आखिर मुरारी की दूकान में दो-चार कढ़ाव और दो-चार पीतल के थालों के सिवा और क्या है? लेकिन कितने ठाट से रहता हे! रूपयों की चरस उड़ा देता हे। एक-एक दॉँव पर दस-दस रूपए रख देता है, नफा न होता, तो वह ठाट कहाँ से निभाता? इस आननद-कल्पना में वह इतना मग्न हुआ कि उसका मन उसके काबू से बाहर हो गया, जैसे प्रवाह में किसी के पॉँव उखड़ जाएें ओर वह लहरों में बह जाए। 
उसी दिन शाम को वह बम्बई चल दिया। दूसरे ही दिन मुंशी भक्तसिंह पर गबन का मुकदमा दायर हो गया। 


बम्बई के किले के मैदान में बैंड़ बज रहा था और राजपूत रेजिमेंट के सजीले सुंदर जवान कवायद कर रहे थे, जिस प्रकार हवा बादलों को नए-नए रूप में बनाती और बिगाड़ती है, उसी भॉँति सेना नायक सैनिकों को नए-नए रूप में बनाती और बिगाड़ती है, उसी भॉँति सेना नायक सैनिकों को नए-नए रूप में बना बिगाड़ रहा था। 
जब कवायद खतम हो गयी, तो एक छरहरे डील का युवक नायक के सामने आकर खड़ा हो गया। नायक ने पूछा-क्या नाम है? सैनिक ने फौजी सलाम करके कहा-जगतसिंह? 
'क्या चाहते हो।' 
'फौज में भरती कर लीजिए।' 
'मरने से तो नहीं डरते?' 
'बिलकुल नहीं-राजपूत हूँ।' 
'बहुत कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी।' 
'इसका भी डर नहीं।' 
'अदन जाना पड़ेगा।' 
'खुशी से जाऊँगा।' 
कप्तान ने देखा, बला का हाजिर-जवाब, मनचला, हिम्मत का धनी जवान है, तुरंत फौज में भरती कर लिया। तीसरे दिन रेजिमेंट अदन को रवाना हुआ। मगर ज्यों-ज्यों जहाज आगे चलता था, जगत का दिल पीछे रह जाता था। जब तक जमीन का किनारा नजर आता रहा, वह जहाज के डेक पर खड़ा अनुरक्त नेत्रों से उसे देखता रहा। जब वह भूमि-तट जल में विलीन हो गया तो उसने एक ठंडी सॉँस ली और मुँह ढॉँप कर रोने लगा। आज जीवन में पहली बर उसे प्रियजानों की याद आयी। वह छोटा-सा कस्बा, वह गॉँजे की दूकान, वह सैर-सपाटे, वह सुहूद-मित्रों के जमघट आँखों में फिरने लगे। कौन जाने, फिर कभी उनसे भेंट होगी या नहीं। एक बार वह इतना बेचैन हुआ कि जी में आय, पानी में कूद पड़े। 

3
 
जगतसिंह को अदन में रहते तीन महीने गुजर गए। भॉँति-भॉँति की नवीनताओं ने कई दिन तक उसे मुग्ध किये रखा; लेकिन पुराने संस्कार फिर जाग्रत होने लगे। अब कभी-कभी उसे स्नेहमयी माता की याद आने लगी, जो पिता के क्रोध, बहनों के धिक्कार और स्वजनों के तिरस्कार में भी उसकी रक्षा करती थी। उसे वह दिन याद आया, जब एक बार वह बीमार पड़ा था। उसके बचने की कोई आशा न थी, पर न तो पिता को उसकी कुछ चिन्ता थी, न बहनों को। केवल माता थी, जो रात की रात उसके सिरहाने बैठी अपनी मधुर, स्नेहमयी बातों से उसकी पीड़ा शांत करती रही थी। उन दिनों कितनी बार उसने उस देवी को नीव रात्रि में रोते देखा था। वह स्वयं रोगों से जीर्झ हो रही थी; लेकिन उसकी सेवा-शुश्रूषा में वह अपनी व्यथा को ऐसी भूल गयी थी, मानो उसे कोई कष्ट ही नहीं। क्या उसे माता के दर्शन फिर होंगे? वह इसी क्षोभ ओर नेराश्य में समुद्र-तट पर चला जाता और घण्टों अनंत जल-प्रवाह को देखा करता। कई दिनों से उसे घर पर एक पत्र भेजने की इच्छा हो रही थी, किंतु लज्जा और ग्लानिक कके कारण वह टालता जाता था। आखिर एक दिन उससे न रहा गया। उसने पत्र लिखा और अपने अपराधों के लिए क्षमा मॉँग। पत्र आदि से अन्त तक भक्ति से भरा हुआ थां अंत में उसने इन शब्दों में अपनी माता को आश्वासन दिया था-माता जी, मैने बड़े-बड़े उत्पात किय हें, आप लेग मुझसे तंग आ गयी थी, मै उन सारी भूलों के लिए सच्चे हृदय से लज्जित हूँ और आपको विश्वास दिलाता हूँ कि जीता रहा, तो कुछ न कुछ करके दिखाऊँगा। तब कदाचित आपको मुझे अपना पुत्र कहने में संकोच न होगा। मुझे आर्शीवाद दीजिए कि अपनी प्रतिज्ञा का पालन कर सकूँ।' 
यह पत्र लिखकर उसने डाकखाने में छोड़ा और उसी दिन से उत्तर की प्रतीक्षा करने लगा; किंतु एक महीना गुजर गया और कोई जवाब न आया। आसका जी घबड़ाने लगा। जवाब क्यों नहीं आता-कहीं माता जी बीमार तो नहीं हैं? शायद दादा ने क्रोध-वश जवाब न लिखा होगा? कोई और विपत्ति तो नहीं आ पड़ी? कैम्प में एक वृक्ष के नीचे कुछ सिपाहियों ने शालिग्राम की एक मूर्ति रख छोड़ी थी। कुछ श्रद्धालू सैनिक रोज उस प्रतिमा पर जल चढ़ाया करते थे। जगतसिंह उनकी हँसी उड़ाया करता; पर आप वह विक्षिप्तों की भॉँति प्रतिमा के सम्मुख जाकर बड़ी देर तक मस्तक झुकाये बेठा रहा। वह इसी ध्यानावस्था में बैठा था कि किसी ने उसका नाम लेकर पुकार, यह दफ्तर का चपरासी था और उसके नाम की चिट्ठी लेकर आया थां जगतसिंह ने पत्र हाथ में लिया, तो उसकी सारी देह कॉँप उठी। ईश्वर की स्तुति करके उसने लिफाफा खोला ओर पत्र पढ़ा। लिखा था-'तुम्हारे दादा को गबन के अभियोग में पॉँच वर्ष की सजा हो गई। तुम्हारी माता इस शोक में मरणासन्न है। छुट्टी मिले, तो घर चले आओ।' 
जगतसिंह ने उसी वक्त कप्तान के पास जाकर कह -'हुजूर, मेरी मॉँ बीमार है, मुझे छुट्टी दे दीजिए।' 
कप्तान ने कठोर आँखों से देखकर कहा-अभी छुट्टी नहीं मिल सकती। 
'तो मेरा इस्तीफा ले लीजिए।' 
'अभी इस्तीफा नहीं लिया जा सकता।' 'मै अब एक क्षण भी नहीं रह सकता।' 
'रहना पड़ेगा। तुम लोगों को बहुत जल्द लाभ पर जाना पड़ेगा।' 
'लड़ाई छिड़ गयी! आह, तब मैं घर नहीं जाऊँगा? हम लोग कब तक यहाँ से जाएंगे?' 
'बहुत जल्द, दो ही चार दिनों में।' 


चार वर्ष बीत गए। कैप्टन जगतसिंह का-सा योद्धा उस रेजीमेंट में नहीं हैं। कठिन अवस्थाओं में उसका साहस और भी उत्तेजित हो जाता है। जिस महिम में सबकी हिम्मते जवाब दे जाती है, उसे सर करना उसी का काम है। हल्ले और धावे में वह सदैव सबसे आगे रहता है, उसकी त्योरियों पर कभी मैल नहीं आता; उसके साथ ही वह इतना विनम्र, इतना गंभीर, इतना प्रसन्नचित है कि सारे अफसर ओर मातहत उसकी बड़ाई करते हैं, उसका पुनर्जीतन-सा हो गया। उस पर अफसरों को इतना विश्वास है कि अब वे प्रत्येक विषय में उससे परामर्श करते हें। जिससे पूछिए, वही वीर जगतसिंह की विरूदावली सुना देगा-कैसे उसने जर्मनों की मेगजीन में आग लगायी, कैसे अपने कप्तान को मशीनगनों की मार से निकाला, कैसे अपने एक मातहत सिपाही को कंधे पर लेकर निल आया। ऐसा जान पड़ता है, उसे अपने प्राणों का मोह नही, मानो वह काल को खोजता फिरता हो! 
लेकिन नित्य रात्रि के समय, जब जगतसिंह को अवकाश मिलता है, वह अपनी छोलदारी में अकेले बैठकर घरवालों की याद कर लिया करता है-दो-चार आँसू की बँदे अवश्य गिरा देता हे। वह प्रतिमास अपने वेतन का बड़ा भाग घर भेज देता है, और ऐसा कोई सप्ताह नहीं जाता जब कि वह माता को पत्र न लिखता हो। सबसे बड़ी चिंता उसे अपने पिता की है, जो आज उसी के दुष्कर्मो के कारण कारावास की यातना झेल रहे हैं। हाय! वह कौन दिन होगा, जब कि वह उनके चरणों पर सिर रखकर अपना अपराध क्षमा करायेगा, और वह उसके सिर पर हाथ रखकर आर्शीवाद देंगे? 


सवा चार वर्ष बीत गए। संध्या का समय है। नैनी जेल के द्वार पर भीड़ लगी हुई है। कितने ही कैदियों की मियाद पूरी हो गयी है। उन्हें लिवा जाने के लिए उनके घरवाले आये हुए है; किन्तु बूढ़ा भक्तसिंह अपनी अँधेरी कोठरी में सिर झुकाये उदास बैठा हुआ है। उसकी कमर झुक कर कमान हो गयी है। देह अस्थि-पंजर-मात्र रह गयी हे। ऐसा जान पड़ता हें, किसी चतुर शिल्पी ने एक अकाल- पीड़ित मनुष्य की मूर्ति बनाकर रख दी है। उसकी भी मीयाद पूरी हो गयी है; लेकिन उसके घर से कोई नहीं आया। आये कौन? आने वाल था ही कौन? 
एक बूढ़ किन्तु हृष्ट-पुष्ट कैदी ने आकर उसक कंधा हिलाया और बोला-कहो भगत, कोई घर से आया? 
भक्तसिंह ने कंपित कंठ-स्वर से कहा-घर पर है ही कौन? 
'घर तो चलोगे ही?' 
'मेरे घर कहाँ है?' 
'तो क्या यही पड़े रहोंगे?' 
'अगर ये लोग निकाल न देंगे, तो यहीं पड़ा रहूँगा।' 
आज चार साल के बाद भगतसिंह को अपने प्रताड़ित, निर्वासित पुत्र की याद आ रही थी। जिसके कारण जीतन का सर्वनाश हो गया; आबरू मिट गयी; घर बरबाद हो गया, उसकी स्मृति भी असहय थी; किन्तु आज नैराश्य ओर दु:ख के अथाह सागर में डूबते हुए उन्होंने उसी तिनके का सहार लियां न-जाने उस बेचारे की क्या दख्शा हुई। लाख बुरा है, तो भी अपना लड़का हे। खानदान की निशानी तो हे। मरूँगा तो चार आँसू तो बहायेगा; दो चिल्लू पानी तो देगा। हाय! मैने उसके साथ कभी प्रेम का व्यवहार नहीं कियां जरा भी शरारत करता, तो यमदूत की भॉँति उसकी गर्दन पर सवार हो जाता। एक बार रसोई में बिना पैर धोये चले जाने के दंड में मेने उसे उलटा लटका दिया था। कितनी बार केवल जोर से बोलने पर मैंने उस वमाचे लगाये थे। पुत्र-सा रत्न पाकर मैंने उसका आदर न कियां उसी का दंड है। जहाँ प्रेम का बन्धन शिथिल हो, वहाँ परिवार की रक्षा कैसे हो सकती है? 


सबेरा हुआ। आशा की सूर्य निकला। आज उसकी रश्मियॉँ कितनी कोमल और मधुर थीं, वायु कितनी सुखद, आकाश कितना मनोहर, वृक्ष कितने हरे-भरे, पक्षियों का कलरव कितना मीठा! सारी प्रकृति आश के रंग में रंगी हुई थी; पर भक्तसिंह के लिए चारों ओर धरे अंधकार था। 
जेल का अफसर आया। कैदी एक पंक्ति में खड़े हुए। अफसर एक-एक का नाम लेकर रिहाई का परवाना देने लगा। कैदियों के चेहरे आशा से प्रफुलित थे। जिसका नाम आता, वह खुश-खुश अफसर के पास जात, परवाना लेता, झुककर सलाम करता और तब अपने विपत्तिकाल के संगियों से गले मिलकर बाहर निकल जाता। उसके घरवाले दौड़कर उससे लिपट जाते। कोई पैसे लुटा रहा था, कहीं मिठाइयॉँ बॉँटी जा रही थीं, कहीं जेल के कर्मचारियों को इनाम दिया जा रहा था। आज नरक के पुतले विनम्रता के देवता बने हुए थे। 
अन्त में भक्तसिंह का नाम आया। वह सिर झुकाये आहिस्ता-आहिस्ता जेलर के पास गये और उदासीन भाव से परवाना लेकर जेल के द्वार की ओर चले, मानो सामने कोई समुद्र लहरें मार रहा है। द्वार से बाहर निकल कर वह जमीन पर बैठ गये। कहाँ जाएँ? 
सहसा उन्होंने एक सैनिक अफसर को घोड़े पर सवार, जेल की ओर आते देखा। उसकी देह पर खाकी वरदी थी, सिर पर कारचोबी साफा। अजीब शान से घोड़े पर बैठा हुआ था। उसके पीछे-पीछे एक फिटन आ रही थी। जेल के सिपाहियों ने अफसर को देखते ही बन्दूकें सँभाली और लाइन में खड़े हाकर सलाम किया। 
भक्तससिंह ने मन में कहा-एक भाग्यवान वह है, जिसके लिए फिटन आ रही है; ओर एक अभागा मै हूँ, जिसका कहीं ठिकाना नहीं। 
फौजी अफसर ने इधर-उधर देखा और घोड़े से उतर कर सीधे भक्तसिंह के सामने आकर खड़ा हो गया। 
भक्तसिंह ने उसे ध्यान से देखा और तब चौंककर उठ खड़े हुए और बोले-अरे! बेटा जगतसिंह! 
जगतसिंह रोता हुआ उनके पैरों पर गिर पड़ा। 

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 May 2020 at 8:30 AM -

Kaptaan Sahib - Munshi Premchand


कप्तान साहब - मुंशी प्रेम चंद

1
जगत सिंह को स्कूल जान कुनैन खाने या मछली का तेल पीने से कम अप्रिय न था। वह सैलानी, आवारा, घुमक्कड़ युवक थां कभी अमरूद के बागों की ओर निकल जाता और अमरूदों के साथ माली की गालियॉँ बड़े शौक ... से खाता। कभी दरिया की सैर करता और मल्लाहों को डोंगियों में बैठकर उस पार के देहातों में निकल जाता। गालियॉँ खाने में उसे मजा आता था। गालियॉँ खाने का कोई अवसर वह हाथ से न जाने देता। सवार के घोड़े के पीछे ताली बजाना, एक्को को पीछे से पकड़ कर अपनी ओर खींचना, बूढों की चाल की नकल करना, उसके मनोरंजन के विषय थे। आलसी काम तो नहीं करता; पर दुर्व्यसनों का दास होता है, और दुर्व्यसन धन के बिना पूरे नहीं होते। जगतसिंह को जब अवसर मिलता घर से रूपये उड़ा ले जात। नकद न मिले, तो बरतन और कपड़े उठा ले जाने में भी उसे संकोच न होता था। घर में शीशियॉँ और बोतलें थीं, वह सब उसने एक-एक करके गुदड़ी बाजार पहुँचा दी। पुराने दिनों की कितनी चीजें घर में पड़ी थीं, उसके मारे एक भी न बची। इस कला में ऐसा दक्ष ओर निपुण था कि उसकी चतुराई और पटुता पर आश्चर्य होता था। एक बार बाहर ही बाहर, केवल कार्निसों के सहारे अपने दो-मंजिला मकान की छत पर चढ़ गया और ऊपर ही से पीतल की एक बड़ी थाली लेकर उतर आया। घर वालें को आहट तक न मिली। 
उसके पिता ठाकुर भक्त सिहं अपने कस्बे के डाकखाने के मुंशी थे। अफसरों ने उन्हें शहर का डाकखाना बड़ी दौड़-धूप करने पर दिया था; किन्तु भक्त सिंह जिन इरादों से यहाँ आये थे, उनमें से एक भी पूरा न हुआ। उलटी हानि यह हुई कि देहातो में जो भाजी-साग, उपले-ईधन मुफ्त मिल जाते थे, वे सब यहाँ बंद हो गये। यहाँ सबसे पुराना घराँव थां न किसी को दबा सकते थे, न सता सकते थे। इस दुरवस्था में जगतसिंह की हथलपकियॉँ बहुत अखरतीं। अन्होंने कितनी ही बार उसे बड़ी निर्दयता से पीटा। जगतसिंह भीमकाय होने पर भी चुपके में मार खा लिया करता थां अगर वह अपने पिता के हाथ पकड़ लेता, तो वह हल भी न सकते; पर जगतसिंह इतना सीनाजोर न था। हाँ, मार-पीट, घुड़की-धमकी किसी का भी उस पर असर न होता था। 
जगतसिंह ज्यों ही घर में कदम रखता; चारों ओर से कॉँव-कॉँव मच जाती, मॉँ दुर-दुर करके दौड़ती, बहने गालियॉँ देन लगती; मानो घर में कोई सॉँड़ घुस आया हो। घर ताले उसकी सूरत से जलते थे। इन तिरस्कारों ने उसे निर्लज्ज बना दिया थां कष्टों के ज्ञान से वह निर्द्वन्द्व-सा हो गया था। जहाँ नींद आ जाती, वहीं पड़ रहता; जो कुछ मिल जात, वही खा लेता। 
ज्यों-ज्यों घर वालें को उसकी चोर-कला के गुप्त साधनों का ज्ञान होता जाता था, वे उससे चौकन्ने होते जाते थे। यहाँ तक कि एक बार पूरे महीने-भर तक उसकी दाल न गली। चरस वाले के कई रूपये ऊपर चढ़ गये। गॉँजे वाले ने धुआँधार तकाजे करने शुरू किय। हलवाई कड़वी बातें सुनाने लगा। बेचारे जगत को निकलना मुश्किल हो गया। रात-दिन ताक-झॉँक में रहता; पर घात न मिलत थी। आखिर एक दिन बिल्ली के भागों छींका टूटा। भक्तसिंह दोपहर को डाकखानें से चले, जो एक बीमा-रजिस्ट्री जेब में डाल ली। कौन जाने कोई हरकारा या डाकिया शरारत कर जाए; किंतु घर आये तो लिफाफे को अचकन की जेब से निकालने की सुधि न रही। जगतसिंह तो ताक लगाये हुए था ही। पेसे के लोभ से जेब टटोली, तो लिफाफा मिल गया। उस पर कई आने के टिकट लगे थे। वह कई बार टिकट चुरा कर आधे दामों पर बेच चुका था। चट लिफाफा उड़ा दिया। यदि उसे मालूम होता कि उसमें नोट हें, तो कदाचित वह न छूता; लेकिन जब उसने लिफाफा फाड़ डाला और उसमें से नोट निक पड़े तो वह बड़े संकट में पड़ गया। वह फटा हुआ लिफाफा गला-फाड़ कर उसके दुष्कृत्य को धिक्कारने लगा। उसकी दशा उस शिकारी की-सी हो गयी, जो चिड़ियों का शिकार करने जाए और अनजान में किसी आदमी पर निशाना मार दे। उसके मन में पश्चाताप था, लज्जा थी, दु:ख था, पर उसे भूल का दंड सहने की शक्ति न थी। उसने नोट लिफाफे में रख दिये और बाहर चला गया। 
गरमी के दिन थे। दोपहर को सारा घर सो रहा था; पर जगत की आँखें में नींद न थी। आज उसकी बुरी तरह कुंदी होगी- इसमें संदेह न था। उसका घर पर रहना ठीक नहीं, दस-पॉँच दिन के लिए उसे कहीं खिसक जाना चाहिए। तब तक लोगों का क्रोध शांत हो जाता। लेकिन कहीं दूर गये बिना काम न चलेगा। बस्ती में वह क्रोध दिन तक अज्ञातवास नहीं कर सकता। कोई न कोई जरूर ही उसका पता देगा ओर वह पकड़ लिया जायगा। दूर जाने केक लिए कुछ न कुछ खर्च तो पास होना ही चहिए। क्यों न वह लिफाफे में से एक नोट निकाल ले? यह तो मालूम ही हो जायगा कि उसी ने लिफाफा फाड़ा है, फिर एक नोट निकल लेने में क्या हानि है? दादा के पास रूपये तो हे ही, झक मार कर दे देंगे। यह सोचकर उसने दस रूपये का एक नोट उड़ा लिया; मगर उसी वक्त उसके मन में एक नयी कल्पना का प्रादुर्भाव हुआ। अगर ये सब रूपये लेकर किसी दूसरे शहर में कोई दूकान खोल ले, तो बड़ा मजा हो। फिर एक-एक पैसे के लिए उसे क्यों किसी की चोरी करनी पड़े! कुछ दिनों में वह बहुत-सा रूपया जमा करके घर आयेगा; तो लोग कितने चकित हो जाएेंगे! 
उसने लिफाफे को फिर निकाला। उसमें कुल दो सौ रूपए के नोट थे। दो सौ में दूध की दूकान खूब चल सकती है। आखिर मुरारी की दूकान में दो-चार कढ़ाव और दो-चार पीतल के थालों के सिवा और क्या है? लेकिन कितने ठाट से रहता हे! रूपयों की चरस उड़ा देता हे। एक-एक दॉँव पर दस-दस रूपए रख देता है, नफा न होता, तो वह ठाट कहाँ से निभाता? इस आननद-कल्पना में वह इतना मग्न हुआ कि उसका मन उसके काबू से बाहर हो गया, जैसे प्रवाह में किसी के पॉँव उखड़ जाएें ओर वह लहरों में बह जाए। 
उसी दिन शाम को वह बम्बई चल दिया। दूसरे ही दिन मुंशी भक्तसिंह पर गबन का मुकदमा दायर हो गया। 


बम्बई के किले के मैदान में बैंड़ बज रहा था और राजपूत रेजिमेंट के सजीले सुंदर जवान कवायद कर रहे थे, जिस प्रकार हवा बादलों को नए-नए रूप में बनाती और बिगाड़ती है, उसी भॉँति सेना नायक सैनिकों को नए-नए रूप में बनाती और बिगाड़ती है, उसी भॉँति सेना नायक सैनिकों को नए-नए रूप में बना बिगाड़ रहा था। 
जब कवायद खतम हो गयी, तो एक छरहरे डील का युवक नायक के सामने आकर खड़ा हो गया। नायक ने पूछा-क्या नाम है? सैनिक ने फौजी सलाम करके कहा-जगतसिंह? 
'क्या चाहते हो।' 
'फौज में भरती कर लीजिए।' 
'मरने से तो नहीं डरते?' 
'बिलकुल नहीं-राजपूत हूँ।' 
'बहुत कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी।' 
'इसका भी डर नहीं।' 
'अदन जाना पड़ेगा।' 
'खुशी से जाऊँगा।' 
कप्तान ने देखा, बला का हाजिर-जवाब, मनचला, हिम्मत का धनी जवान है, तुरंत फौज में भरती कर लिया। तीसरे दिन रेजिमेंट अदन को रवाना हुआ। मगर ज्यों-ज्यों जहाज आगे चलता था, जगत का दिल पीछे रह जाता था। जब तक जमीन का किनारा नजर आता रहा, वह जहाज के डेक पर खड़ा अनुरक्त नेत्रों से उसे देखता रहा। जब वह भूमि-तट जल में विलीन हो गया तो उसने एक ठंडी सॉँस ली और मुँह ढॉँप कर रोने लगा। आज जीवन में पहली बर उसे प्रियजानों की याद आयी। वह छोटा-सा कस्बा, वह गॉँजे की दूकान, वह सैर-सपाटे, वह सुहूद-मित्रों के जमघट आँखों में फिरने लगे। कौन जाने, फिर कभी उनसे भेंट होगी या नहीं। एक बार वह इतना बेचैन हुआ कि जी में आय, पानी में कूद पड़े। 

3
 
जगतसिंह को अदन में रहते तीन महीने गुजर गए। भॉँति-भॉँति की नवीनताओं ने कई दिन तक उसे मुग्ध किये रखा; लेकिन पुराने संस्कार फिर जाग्रत होने लगे। अब कभी-कभी उसे स्नेहमयी माता की याद आने लगी, जो पिता के क्रोध, बहनों के धिक्कार और स्वजनों के तिरस्कार में भी उसकी रक्षा करती थी। उसे वह दिन याद आया, जब एक बार वह बीमार पड़ा था। उसके बचने की कोई आशा न थी, पर न तो पिता को उसकी कुछ चिन्ता थी, न बहनों को। केवल माता थी, जो रात की रात उसके सिरहाने बैठी अपनी मधुर, स्नेहमयी बातों से उसकी पीड़ा शांत करती रही थी। उन दिनों कितनी बार उसने उस देवी को नीव रात्रि में रोते देखा था। वह स्वयं रोगों से जीर्झ हो रही थी; लेकिन उसकी सेवा-शुश्रूषा में वह अपनी व्यथा को ऐसी भूल गयी थी, मानो उसे कोई कष्ट ही नहीं। क्या उसे माता के दर्शन फिर होंगे? वह इसी क्षोभ ओर नेराश्य में समुद्र-तट पर चला जाता और घण्टों अनंत जल-प्रवाह को देखा करता। कई दिनों से उसे घर पर एक पत्र भेजने की इच्छा हो रही थी, किंतु लज्जा और ग्लानिक कके कारण वह टालता जाता था। आखिर एक दिन उससे न रहा गया। उसने पत्र लिखा और अपने अपराधों के लिए क्षमा मॉँग। पत्र आदि से अन्त तक भक्ति से भरा हुआ थां अंत में उसने इन शब्दों में अपनी माता को आश्वासन दिया था-माता जी, मैने बड़े-बड़े उत्पात किय हें, आप लेग मुझसे तंग आ गयी थी, मै उन सारी भूलों के लिए सच्चे हृदय से लज्जित हूँ और आपको विश्वास दिलाता हूँ कि जीता रहा, तो कुछ न कुछ करके दिखाऊँगा। तब कदाचित आपको मुझे अपना पुत्र कहने में संकोच न होगा। मुझे आर्शीवाद दीजिए कि अपनी प्रतिज्ञा का पालन कर सकूँ।' 
यह पत्र लिखकर उसने डाकखाने में छोड़ा और उसी दिन से उत्तर की प्रतीक्षा करने लगा; किंतु एक महीना गुजर गया और कोई जवाब न आया। आसका जी घबड़ाने लगा। जवाब क्यों नहीं आता-कहीं माता जी बीमार तो नहीं हैं? शायद दादा ने क्रोध-वश जवाब न लिखा होगा? कोई और विपत्ति तो नहीं आ पड़ी? कैम्प में एक वृक्ष के नीचे कुछ सिपाहियों ने शालिग्राम की एक मूर्ति रख छोड़ी थी। कुछ श्रद्धालू सैनिक रोज उस प्रतिमा पर जल चढ़ाया करते थे। जगतसिंह उनकी हँसी उड़ाया करता; पर आप वह विक्षिप्तों की भॉँति प्रतिमा के सम्मुख जाकर बड़ी देर तक मस्तक झुकाये बेठा रहा। वह इसी ध्यानावस्था में बैठा था कि किसी ने उसका नाम लेकर पुकार, यह दफ्तर का चपरासी था और उसके नाम की चिट्ठी लेकर आया थां जगतसिंह ने पत्र हाथ में लिया, तो उसकी सारी देह कॉँप उठी। ईश्वर की स्तुति करके उसने लिफाफा खोला ओर पत्र पढ़ा। लिखा था-'तुम्हारे दादा को गबन के अभियोग में पॉँच वर्ष की सजा हो गई। तुम्हारी माता इस शोक में मरणासन्न है। छुट्टी मिले, तो घर चले आओ।' 
जगतसिंह ने उसी वक्त कप्तान के पास जाकर कह -'हुजूर, मेरी मॉँ बीमार है, मुझे छुट्टी दे दीजिए।' 
कप्तान ने कठोर आँखों से देखकर कहा-अभी छुट्टी नहीं मिल सकती। 
'तो मेरा इस्तीफा ले लीजिए।' 
'अभी इस्तीफा नहीं लिया जा सकता।' 'मै अब एक क्षण भी नहीं रह सकता।' 
'रहना पड़ेगा। तुम लोगों को बहुत जल्द लाभ पर जाना पड़ेगा।' 
'लड़ाई छिड़ गयी! आह, तब मैं घर नहीं जाऊँगा? हम लोग कब तक यहाँ से जाएंगे?' 
'बहुत जल्द, दो ही चार दिनों में।' 


चार वर्ष बीत गए। कैप्टन जगतसिंह का-सा योद्धा उस रेजीमेंट में नहीं हैं। कठिन अवस्थाओं में उसका साहस और भी उत्तेजित हो जाता है। जिस महिम में सबकी हिम्मते जवाब दे जाती है, उसे सर करना उसी का काम है। हल्ले और धावे में वह सदैव सबसे आगे रहता है, उसकी त्योरियों पर कभी मैल नहीं आता; उसके साथ ही वह इतना विनम्र, इतना गंभीर, इतना प्रसन्नचित है कि सारे अफसर ओर मातहत उसकी बड़ाई करते हैं, उसका पुनर्जीतन-सा हो गया। उस पर अफसरों को इतना विश्वास है कि अब वे प्रत्येक विषय में उससे परामर्श करते हें। जिससे पूछिए, वही वीर जगतसिंह की विरूदावली सुना देगा-कैसे उसने जर्मनों की मेगजीन में आग लगायी, कैसे अपने कप्तान को मशीनगनों की मार से निकाला, कैसे अपने एक मातहत सिपाही को कंधे पर लेकर निल आया। ऐसा जान पड़ता है, उसे अपने प्राणों का मोह नही, मानो वह काल को खोजता फिरता हो! 
लेकिन नित्य रात्रि के समय, जब जगतसिंह को अवकाश मिलता है, वह अपनी छोलदारी में अकेले बैठकर घरवालों की याद कर लिया करता है-दो-चार आँसू की बँदे अवश्य गिरा देता हे। वह प्रतिमास अपने वेतन का बड़ा भाग घर भेज देता है, और ऐसा कोई सप्ताह नहीं जाता जब कि वह माता को पत्र न लिखता हो। सबसे बड़ी चिंता उसे अपने पिता की है, जो आज उसी के दुष्कर्मो के कारण कारावास की यातना झेल रहे हैं। हाय! वह कौन दिन होगा, जब कि वह उनके चरणों पर सिर रखकर अपना अपराध क्षमा करायेगा, और वह उसके सिर पर हाथ रखकर आर्शीवाद देंगे? 


सवा चार वर्ष बीत गए। संध्या का समय है। नैनी जेल के द्वार पर भीड़ लगी हुई है। कितने ही कैदियों की मियाद पूरी हो गयी है। उन्हें लिवा जाने के लिए उनके घरवाले आये हुए है; किन्तु बूढ़ा भक्तसिंह अपनी अँधेरी कोठरी में सिर झुकाये उदास बैठा हुआ है। उसकी कमर झुक कर कमान हो गयी है। देह अस्थि-पंजर-मात्र रह गयी हे। ऐसा जान पड़ता हें, किसी चतुर शिल्पी ने एक अकाल- पीड़ित मनुष्य की मूर्ति बनाकर रख दी है। उसकी भी मीयाद पूरी हो गयी है; लेकिन उसके घर से कोई नहीं आया। आये कौन? आने वाल था ही कौन? 
एक बूढ़ किन्तु हृष्ट-पुष्ट कैदी ने आकर उसक कंधा हिलाया और बोला-कहो भगत, कोई घर से आया? 
भक्तसिंह ने कंपित कंठ-स्वर से कहा-घर पर है ही कौन? 
'घर तो चलोगे ही?' 
'मेरे घर कहाँ है?' 
'तो क्या यही पड़े रहोंगे?' 
'अगर ये लोग निकाल न देंगे, तो यहीं पड़ा रहूँगा।' 
आज चार साल के बाद भगतसिंह को अपने प्रताड़ित, निर्वासित पुत्र की याद आ रही थी। जिसके कारण जीतन का सर्वनाश हो गया; आबरू मिट गयी; घर बरबाद हो गया, उसकी स्मृति भी असहय थी; किन्तु आज नैराश्य ओर दु:ख के अथाह सागर में डूबते हुए उन्होंने उसी तिनके का सहार लियां न-जाने उस बेचारे की क्या दख्शा हुई। लाख बुरा है, तो भी अपना लड़का हे। खानदान की निशानी तो हे। मरूँगा तो चार आँसू तो बहायेगा; दो चिल्लू पानी तो देगा। हाय! मैने उसके साथ कभी प्रेम का व्यवहार नहीं कियां जरा भी शरारत करता, तो यमदूत की भॉँति उसकी गर्दन पर सवार हो जाता। एक बार रसोई में बिना पैर धोये चले जाने के दंड में मेने उसे उलटा लटका दिया था। कितनी बार केवल जोर से बोलने पर मैंने उस वमाचे लगाये थे। पुत्र-सा रत्न पाकर मैंने उसका आदर न कियां उसी का दंड है। जहाँ प्रेम का बन्धन शिथिल हो, वहाँ परिवार की रक्षा कैसे हो सकती है? 


सबेरा हुआ। आशा की सूर्य निकला। आज उसकी रश्मियॉँ कितनी कोमल और मधुर थीं, वायु कितनी सुखद, आकाश कितना मनोहर, वृक्ष कितने हरे-भरे, पक्षियों का कलरव कितना मीठा! सारी प्रकृति आश के रंग में रंगी हुई थी; पर भक्तसिंह के लिए चारों ओर धरे अंधकार था। 
जेल का अफसर आया। कैदी एक पंक्ति में खड़े हुए। अफसर एक-एक का नाम लेकर रिहाई का परवाना देने लगा। कैदियों के चेहरे आशा से प्रफुलित थे। जिसका नाम आता, वह खुश-खुश अफसर के पास जात, परवाना लेता, झुककर सलाम करता और तब अपने विपत्तिकाल के संगियों से गले मिलकर बाहर निकल जाता। उसके घरवाले दौड़कर उससे लिपट जाते। कोई पैसे लुटा रहा था, कहीं मिठाइयॉँ बॉँटी जा रही थीं, कहीं जेल के कर्मचारियों को इनाम दिया जा रहा था। आज नरक के पुतले विनम्रता के देवता बने हुए थे। 
अन्त में भक्तसिंह का नाम आया। वह सिर झुकाये आहिस्ता-आहिस्ता जेलर के पास गये और उदासीन भाव से परवाना लेकर जेल के द्वार की ओर चले, मानो सामने कोई समुद्र लहरें मार रहा है। द्वार से बाहर निकल कर वह जमीन पर बैठ गये। कहाँ जाएँ? 
सहसा उन्होंने एक सैनिक अफसर को घोड़े पर सवार, जेल की ओर आते देखा। उसकी देह पर खाकी वरदी थी, सिर पर कारचोबी साफा। अजीब शान से घोड़े पर बैठा हुआ था। उसके पीछे-पीछे एक फिटन आ रही थी। जेल के सिपाहियों ने अफसर को देखते ही बन्दूकें सँभाली और लाइन में खड़े हाकर सलाम किया। 
भक्तससिंह ने मन में कहा-एक भाग्यवान वह है, जिसके लिए फिटन आ रही है; ओर एक अभागा मै हूँ, जिसका कहीं ठिकाना नहीं। 
फौजी अफसर ने इधर-उधर देखा और घोड़े से उतर कर सीधे भक्तसिंह के सामने आकर खड़ा हो गया। 
भक्तसिंह ने उसे ध्यान से देखा और तब चौंककर उठ खड़े हुए और बोले-अरे! बेटा जगतसिंह! 
जगतसिंह रोता हुआ उनके पैरों पर गिर पड़ा। 

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 21 May 2020 at 7:33 AM -

population analysis

Human Population Growth:

The world population is the total number of living humans on the planet Earth, currently estimated to be 6.94 billion by the United States Census Bureau as of July 1, 2011. The world population has experienced continuous growth since the end of the ... Bubonic Plague, Great Famine and Hundred Years Wars in 1350, when it was about 300 million. The highest rates of growth—increases above 1.8% per year—were seen briefly during the 1950s, for a longer period during the 1960s and 1970s; the growth rate peaked at 2.2% in 1963, and declined to 1.1% by 2009. Annual births have reduced to 140 million since their peak at 173 million in the late 1990s, and are expected to remain constant, while deaths number 57 million per year and are expected to increase to 80 million per year by 2040. Current projections show a continued increase of population (but a steady decline in the population growth rate) with the population to reach between 7.5 and 10.5 billion by the year 2050.

Largest populations by country:

1 People's Republic of China - 1,345,740,000 - August 16, 2011 - 19.4% - Chinese Official Population Clock
2 India - 1,210,193,422 - March 2011 - 17% - Census of India Organisation
3
United States - 311,996,000 - August 16, 2011 - 4.5% - United States Official Population Clock
4 Indonesia - 238,400,000 - May 2010 - 3.38% - SuluhNusantara Indonesia Census report
5 Brazil - 195,097,000 - February 16, 2011 - 2.81% - Brazilian Official Population Clock
6 Pakistan - 176,941,000 - August 16, 2011 - 2.55% - Official Pakistani Population Clock
7 Nigeria - 158,259,000 - 2010 - 2.28% - 2008 UN estimate for year 2010
8 Bangladesh - 142,325,250 - 2010 - 2.37% - 2008 UN estimate for year 2010
9 Russia - 141,927,297 - January 1, 2010 - 2.05% - Federal State Statistics Service of Russia
10 Japan - 127,380,000 - June 1, 2010 - 1.84% - Official Japan Statistics Bureau

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 20 May 2020 at 7:44 PM -

वेटिकन सिटी

वेटिकन सिटी के बारे में रोचक तथ्य-
1- इसको एक अलग देश के रूप में मान्यता है।
2- इसकी जनसंख्या 1000 फिक्स है।
3
- इस देश में महिला नागरिकों की संख्या शून्य है।
4- यहां सभी नागरिक ईसाई हैं।
5- यह एक धार्मिक देश है। तथापि प्रति व्यक्ति अपराध की ... दृष्टि से यह दुनिया का सिरमौर है।
6- यहां पर अधिकांश अपराध दूसरे देशों के तीर्थ यात्रियों से जुड़े होते हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 16 May 2020 at 5:34 PM -

बेल के अनुप्रयोग

My experiments with beil(बेल)-
बेल बड़ा ही गुणकारी है लेकिन गर्मियों में सब पक जाता है। इसलिये ठीक से सदुपयोग नहीं हो पाता। इस समस्या से निजात पाने के लिए मैंने अपनी धर्मपत्नी लक्ष्मी देवी के साथ मिलकर बेल पर निम्नलिखित सफल प्रयोग किये।
1- बेल का ... शर्बत
2- बेल का मुरब्बा
3
- बेल का अचार
4- बेल की कैंडी
5- बेल की सब्जी
6- आटे में बेल मिलाकर रोटी
7- आटे में बेल मिलाकर गुलगुले
8- बेल का च्यवनप्राश।
9- बेल की मिथौरी अर्थात बरी
10- बेल का चूर्ण

बेल का च्यवनप्राश बनाने की विधि- पका हुआ बेल लेकर उसका पल्प निकाल लें। उसमें वजन के अनुसार करीब एक चौथाई चीनी मिला लें। करीब दसवां भाग आंवले का च्यवनप्राश मिला लें और 20 मिनट पका लें।

आंवले का च्यवनप्राश बनाने की विधि तो आप जानते ही होंगे।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 16 May 2020 at 7:39 AM -

दिल की बीमारियां

अगर आपको भी है दिल की बीमारी तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

अगर आप इस बीमारी को होने से रोकना चाहते हैं या फिर अगर आपको ये बीमारी हो गई है ये घरेलू नुस्खे आपको स्वस्थ्य रखने में आपकी काफी मदद कर सकते हैं।


मौजूदा समय में ... जिस बीमारी के कारण सबसे ज्यादा लोगों की मौत हो रही है वो है दिल की बीमारी। कई बार लोगों को इस बीमारी का पता भी नहीं चल पाता और उनकी मौत हो जाती है। इसलिए जरूरी है कि शुरू से ही इस बीमारी को होने से रोक दिया जाए। अगर आप इस बीमारी को होने से रोकना चाहते हैं या फिर अगर आपको ये बीमारी हो गई है ये घरेलू नुस्खे आपको स्वस्थ्य रखने में आपकी काफी मदद कर सकते हैं।


ये हो सकती हैं दिल की बीमारियां

1. परिहार्दिक सूजन : इस बीमारी के कारण हमारे दिल की झिल्ली में सूजन आ जाती है जिसके कारण हमारे दिल में हल्का-हल्का दर्द होने लगता है। इसके साथ ही इसके कारण हमारी नर्व्स भी तेज़ चलने लगती है। सिर्फ इतना ही नहीं, इस बीमारी के कारण कई बार दिल की झिल्ली में पानी भी भर जाता है और बुखार भी आ जाता है।


2. दिल की मांसपेशी फैल जाना : कई बार दिल की मांसपेशियों के ज्यादा काम करने के कारण ये मांसपेशियां फैल जाती हैं और बीमारी का रूप ले लेती हैं। इस बीमारी के होने से अकसर मरीज़ को हाई ब्लड प्रेशर की बीमारी बनी रहती है।


3
. रक्तगांठ बनना : इस बीमारी में मरीज़ की रक्त धमनियों में कैल्शियम, कोलेस्ट्रोल और फैट की परत जमने लगती है जो कि एक बीमारी का रूप ले लेती है।


4. आमवातिक ह्रदय रोग : ये बीमारी हड्डी की जोड़ों में बुखार होने से होती है। इस बुखार से हड्डी के जोड़ और दिल के वॉल्व सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं और इनमें खराबी आ जाती है। ये बीमारी सबसे ज्यादा 5-15 साल के बच्चों में पाई जाती है।


5. वॉल्वूलर हार्ट डिजीज :कभी कभी किन्हीं वजहों से हार्ट के वॉल्व में होने वाला रक्त का रिसाव होने लगता है जिसकी वजह से वॉल्व का डैमेज हो सकता है। इसे वॉल्वूलर हार्ट डिजीज कहते हैं।


ये हैं दिल की बीमारी के लक्षण


अगर आपको नीचे दिये गए लक्षण में से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें क्योंकि ये लक्षण दिल की बीमारी का इशारा हो सकते हैं।


1. सीने में असहज महसूस करना- अगर आपको सीने में दबाव महसूस हो या फिर दर्द महसूस हो तो ये आर्टरी ब्लॉक का भी संकेत हो सकता है।


2. नॉशिया, हार्टबर्न और पेट में दर्द- कई बार मितली आना, सीने में जलन, पेट में दर्द और पाचन संबंधी दिक्कतें दिल की बीमारी का संकेत हो सकती हैं।


3
. हाथ में दर्द होना- कई बार दिल के मरीज़ों को सीने में और बाएं कंधे में दर्द की शिकायत होने लगती है।


4. ज्यादा समय के लिए कफ होना- अगर आपको सर्दी-जुकाम होने के साथ-साथ ज्यादा समय के लिए कफ की समस्या होती है तो ये दिल की बीमारी भी हो सकती है।


5. ज्यादा पसीना आना- अगर आपको सामान्य से ज्यादा पसीना आता है तो ये दिल के खतरे की तरफ इशारा हो सकता है।

ये घरेलू इलाज रखेंगे दिल की बीमारी से दूर

अगर आप किसी भी तरह की दिल की बीमारी का शिकार नहीं बनना चाहते हैं तो ये घरेलू नुस्खे अपनाए। इससे आप दिल की बीमारी से तो दूर रहेंगे ही, इसके साथ ही आप स्वस्थ्य भी रहेंगे।


1. आप फैटी भोजन से बचें। यदि जरूरी लगे खाने में सरसों के तेल का इस्तमाल करें। इससे आप फैटी एसिड से दूर रहेंगे जो कि दिल की बीमारी के जोखिम को 70 प्रतिशत तक कम कर देता है।


2. रोज़ सुबह खाली पेट कच्चा लहसुन खाने से पूरे शरीर में खून का संचार सही तरीके से होता है। इसके साथ ही इससे हमारा दिल मज़बूत बनता है और इससे कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है।


3
. रोज़ाना एक चम्मच शहद खाने से दिल की बीमारियां दूर रहती हैं।


4. आंवले का मुरब्बा भी दिल की बीमारी को दूर रखने में काफी मदद करता है।


5. सेब का जूस हमारे दिल को काफी हेल्दी बनाता है और साथ ही दिल की बीमारियों को दूर रखता है।

6. नियमित रूप से परिश्रम करें। परिश्रम करने का अवसर न मिले तो कसरत और व्यायाम करें।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 15 May 2020 at 10:36 PM -

अकाल उत्सव

Hindi Kahan- हिंदी कहानी

Laghu Vyangya, Kathayen: Harishankar Parsai

लघु व्यंग्य, कथाएँ: हरिशंकर परसाई1. अकाल-उत्सव

दरारों वाली सपाट सूखी भूमि नपुंसक पति की संतानेच्छु पत्नी की तरह बेकल नंगी पड़ी है। अकाल पड़ा है। पास ही एक गाय अकाल के समाचार वाले अखबार को खाकर पेट भर रही ... है। कोई 'सर्वे वाला' अफसर छोड़ गया होगा। आदमी इस मामले में गाय-बैल से भी गया बीता है। गाय तो इस अखबार को भी खा लेती है, मगर आदमी उस अखबार को भी नहीं खा सकता जिसमें छपा है कि अमेरिका से अनाज के जहाज चल चुके हैं। एक बार मैं खा गया था। एक कॉलम का 6 पंक्तियों का समाचार था। मैंने उसे काटा और पानी के साथ निगल गया। दिन भर भूख नहीं लगी। आजकल अखबारों में आधे पन्नों पर सिर्फ अकाल और भुखमरी के समाचार छपते हैं। अगर अकाल ग्रस्त आदमी सड़क पर पड़ा अखबार उठाकर उतने पन्ने खा ले, तो महीने भर भूख नहीं लगे। पर इस देश का आदमी मूर्ख है। अन्न खाना चाहता है। भुखमरी के समाचार नहीं खाना चाहता। 
(संक्षिप्त)

2. बाएं क्यों चलें?

साधो हमारे देश का आदमी नियम मान ही नहीं सकता। वह मुक्त आत्मा है। वह सड़क के बीच चलकर प्राण दे देगा, पर बाएं नहीं चलेगा। मरकर स्वर्ग पहुंचेगा, तो वहां भी सड़क के नियम नहीं मानेगा। फरिश्ते कहेंगे कि बाएं चलो। तो वह दाहिने चलेगा। साधो, आत्मा अमर है। सड़क पर दुर्घटना में सिर्फ देह मरती है, आत्मा थोड़े ही मरती है। इस तुच्छ देह के लिए ज्ञानी इतना अनुशासन क्यों सीखे कि सड़क के बाए बाजू चले। साधो, मैं तो पुलिस का भक्त हूं सो फौरन बाएं बाजू हो जाता हूं। मैं कायर हूं। मगर उन्हें नमन करता हूं, जो सड़क के कोई नियम नहीं मानते।

3
. वात्सल्य

एक मोटर से 7-8 साल का एक बच्चा टकरा गया। सिर में चोट आ गई। वह रोने लगा। 
आसपास के लोग सिमट आए। सब क्रोधित। मां-बाप भी आ गए। ' पकड़ लो ड्राइवर को। ' भागने न पाए। ' पुकार लगने लगी। लोग मारने पर उतारू। भागता है तो पिटता है। लोगों की आंखों में खून आ गया है। 
उसे कुछ सूझा। वह बढ़ा और लहू में सने बच्चे को उठाकर छाती से चिपका लिया। उसे थपथपाकर बोला - 'बेटा! बेटा!' 
इधर लोगों का क्रोध गायब हो गया था। 
मां-बाप कहने लगे। 'कितना भला आदमी है।? और होता तो भाग जाता।' 



user image Arvind Swaroop Kushwaha - 15 May 2020 at 6:45 AM -

स्वदेशी

लोग स्वदेशी क्यों नहीं अपनाते-
1- ज्यादातर लोगों का देशप्रेम शाब्दिक है।
2- स्वदेशी आंदोलन चलाने वाले स्वयं अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत नहीं कर रहे।
3
- विदेशी मशरूम, विदेशी जूते, विदेशी चश्मा, विदेशी सूट, विदेशी कार, विदेशी जहाज तो मैं खुद ही प्रयोग करता रहा हूँ। (जब मैं pm ... था)
4- हम चाहते हैं कि हमें स्वदेशी के लिए एक रुपया भी बलिदान न करना पड़े।
5- हम चाहते हैं कि हमें अपनी सहूलियतों की कुर्बानी न देनी पड़े।
6- हम यह भी सोचते हैं कि हमारे स्वदेशी से किसी दूसरे को धन, प्रसिद्धि जैसी चीज का लाभ न मिल जाये।

फिर भी हम सोचते हैं कि हम बड़े ही देशप्रेमी और देशभक्त हैं।

user image Govind Mourya

Iske kai resion hai pahla resion ye hai ki jo bhi jyada bada product banata hai wo jyada Labh kàmana chahta hai . quality me chalega bola jata hai.

Friday, May 15, 2020
user image Arvind Swaroop Kushwaha

रविकांत जी अपनों का सपोर्ट करना अच्छी बात है।

Friday, May 15, 2020
user image Ravi kant Shakya

सर मैं कोशिश करता हूं। कि किसी वनिये की दुकान से सामान नही खरीदता ।

Friday, May 15, 2020
user image Arvind Swaroop Kushwaha

रविकांत जी सहमत हूँ

Friday, May 15, 2020
user image Ravi kant Shakya

उदाहरण के तौर पर मोबाइल ही ले लो।

Friday, May 15, 2020
user image Ravi kant Shakya

स्वदेशी पर ज्ञान देने वाले सबसे ज्यादा विदेशी पसंद करते हैं।

Friday, May 15, 2020
user image Arvind Swaroop Kushwaha - 14 May 2020 at 5:02 PM -

पायरिया दांतों का रोग है, जो मसूढ़ों को भी प्रभावित करता है। इस राग से ग्रस्त होने पर कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इससे बचने के लिए इसके कारण और लक्षणों को जानना भी बेहद जरूरी है। जानिए पायरिया के ... कारण, लक्षण और उपाय... 

कारण : 1 पायरिया की शुरुआत, दांतों की ठीक से देखभाल न करने, अनियमित ढंग से जब-तब कुछ-न-कुछ खाते रहने के कारण तथा भोजन के ठीक से न पचने के कारण होता है। 

2 लि‍वर की खराबी के कारण रक्त में अम्लता बढ़ जाती है। दूषित अम्लीय रक्त के कारण दांत पायरिया से प्रभावित हो जाते हैं।

3
 मांसाहार तथा अन्य गरिष्ठ भोज्य पदार्थों का सेवन, पान, गुटखा, तम्बाकू आदि पदार्थों का अत्यधिक मात्रा में सेवन, नाक के बजाए मुंह श्वास लेने का अभ्यास, भोजन को ठीक से चबाकर न खाना, अजीर्ण, कब्ज आदि पायरिया होने के प्रमुख कारण हैं।

लक्षण : पायरिया से ग्रस्त होने पर दांत ढीले होकर हिलने लग जाते हैं। मसूढ़ों से मवाद और रक्त निकलने लगता है। दांतों पर कड़ी पपड़ियां जम जाती हैं। मुंह से दुर्गंध आने लगती है। उचित चिकित्सा न करने पर दांत कमजोर होकर गिर सकते हैं।
पायरिया एक प्रकार का अमीबा से होता है। एन्टी अमीबिक दवाएं खाने से पायरिया ठीक हो जाता है।

उपाय : पायरिया से बचने के लिए जानिए यह 11 बेशकीमती उपाय - 

user image Pramod Sharma - 13 May 2020 at 10:27 AM -

सुबह खाली पेट लहसुन खाने के होते हैं ये 5 फायदा

सुबह खाली पेट लहसुन खाने के होते हैं ये 5 फायदा
लहसुन
लहसुन खाने के अनेक फायदे है। आयुर्वेद में तो लहसुन को औषधि माना गया है। कहा जाता है कि किसी न किसी रूप में लहसुन को अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। लेकिन ... सुबह-सवेरे खाली पेट लहसुन खाने के बहुत फायदे होते है। आइए जानते हैं।
1. हाई बीपी से छुटकारा
लहसुन खाने से हाई बीपी में आराम मिलता है। दरअसल लहसुन ब्‍लड सर्कुलेशन को कंट्रोल करने में काफी मददगार है। हाई बीपी की समस्‍या से जूझ रहे लोगों को रोजाना लहसुन खाने की सलाह दी जाती है।
2. पेट की बीमारियां छूमंतर
पेट से जुड़ी बीमारियों जैसे डायरिया और कब्‍ज की रोकथाम में लहसुन बेहद उपयोगी है। पानी उबालकर उसमें लहसुन की कलियां डाल लें। खाली पेट इस पानी को पीने से डायरिया और कब्‍ज से आराम मिलेगा।
3
. दिल रहेगा सेहतमंद
लहसुन दिल से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है। लहसुन खाने से खून का जमाव नहीं होता है और हार्ट अटैक होने का खतरा कम हो जाता है।
4. डाइजेशन होगा बेहतर
खाली पेट लहसुन की कलियां चबाने से आपका डाइजेशन अच्‍छा रहता है और भूख भी खुलती है।
5.सर्दी-खांसी में राहत
लहसुन खाने से सर्दी-जुकाम, खांसी, अस्‍थमा, निमोनिया, ब्रोंकाइटिस के इलाज में फायदा है।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 12 May 2020 at 6:34 PM -

Ishwariya Nyaya - Munshi Premchand ईश्वरीय न्याय - मुंशी प्रेम चंद

Hindi Kahani - हिंदी कहानी
Ishwariya Nyaya - Munshi Premchand
ईश्वरीय न्याय - मुंशी प्रेम चंद

1
कानपुर जिले में पंडित भृगुदत्त नामक एक बड़े जमींदार थे। मुंशी सत्यनारायण उनके कारिंदा थे। वह बड़े स्वामिभक्त और सच्चरित्र मनुष्य थे। लाखों रुपये की तहसील और हजारों मन अनाज का लेन-देन ... उनके हाथ में था; पर कभी उनकी नियत डावॉँडोल न होती। उनके सुप्रबंध से रियासत दिनोंदिन उन्नति करती जाती थी। ऐसे कत्तर्व्यपरायण सेवक का जितना सम्मान होना चाहिए, उससे अधिक ही होता था। दु:ख-सुख के प्रत्येक अवसर पर पंडित जी उनके साथ बड़ी उदारता से पेश आते। धीरे-धीरे मुंशी जी का विश्वास इतना बढ़ा कि पंडित जी ने हिसाब-किताब का समझना भी छोड़ दिया। सम्भव है, उनसे आजीवन इसी तरह निभ जाती, पर भावी प्रबल है। प्रयाग में कुम्भ लगा, तो पंडित जी भी स्नान करने गये। वहॉँ से लौटकर फिर वे घर न आये। मालूम नहीं, किसी गढ़े में फिसल पड़े या कोई जल-जंतु उन्हें खींच ले गया, उनका फिर कुछ पता ही न चला। अब मुंशी सत्यनाराण के अधिकार और भी बढ़े। एक हतभागिनी विधवा और दो छोटे-छोटे बच्चों के सिवा पंडित जी के घर में और कोई न था। अंत्येष्टि-क्रिया से निवृत्त होकर एक दिन शोकातुर पंडिताइन ने उन्हें बुलाया और रोकर कहा—लाला, पंडित जी हमें मँझधार में छोड़कर सुरपुर को सिधर गये, अब यह नैया तुम्ही पार लगाओगे तो लग सकती है। यह सब खेती तुम्हारी लगायी हुई है, इसे तुम्हारे ही ऊपर छोड़ती हूँ। ये तुम्हारे बच्चे हैं, इन्हें अपनाओ। जब तक मालिक जिये, तुम्हें अपना भाई समझते रहे। मुझे विश्वास है कि तुम उसी तरह इस भार को सँभाले रहोगे। 
सत्यनाराण ने रोते हुए जवाब दिया—भाभी, भैया क्या उठ गये, मेरे तो भाग्य ही फूट गये, नहीं तो मुझे आदमी बना देते। मैं उन्हीं का नमक खाकर जिया हूँ और उन्हीं की चाकरी में मरुँगा भी। आप धीरज रखें। किसी प्रकार की चिंता न करें। मैं जीते-जी आपकी सेवा से मुँह न मोडूँगा। आप केवल इतना कीजिएगा कि मैं जिस किसी की शिकायत करुँ, उसे डॉँट दीजिएगा; नहीं तो ये लोग सिर चढ़ जायेंगे। 


इस घटना के बाद कई वर्षो तक मुंशीजी ने रियासत को सँभाला। वह अपने काम में बड़े कुशल थे। कभी एक कौड़ी का भी बल नहीं पड़ा। सारे जिले में उनका सम्मान होने लगा। लोग पंडित जी को भूल-सा गये। दरबारों और कमेटियों में वे सम्मिलित होते, जिले के अधिकारी उन्हीं को जमींदार समझते। अन्य रईसों में उनका आदर था; पर मान-वृद्वि की महँगी वस्तु है। और भानुकुँवरि, अन्य स्त्रियों के सदृश पैसे को खूब पकड़ती। वह मनुष्य की मनोवृत्तियों से परिचित न थी। पंडित जी हमेशा लाला जी को इनाम इकराम देते रहते थे। वे जानते थे कि ज्ञान के बाद ईमान का दूसरा स्तम्भ अपनी सुदशा है। इसके सिवा वे खुद भी कभी कागजों की जॉँच कर लिया करते थे। नाममात्र ही को सही, पर इस निगरानी का डर जरुर बना रहता था; क्योंकि ईमान का सबसे बड़ा शत्रु अवसर है। भानुकुँवरि इन बातों को जानती न थी। अतएव अवसर तथा धनाभाव-जैसे प्रबल शत्रुओं के पंजे में पड़ कर मुंशीजी का ईमान कैसे बेदाग बचता? 
कानपुर शहर से मिला हुआ, ठीक गंगा के किनारे, एक बहुत आजाद और उपजाऊ गॉँव था। पंडित जी इस गॉँव को लेकर नदी-किनारे पक्का घाट, मंदिर, बाग, मकान आदि बनवाना चाहते थे; पर उनकी यह कामना सफल न हो सकी। संयोग से अब यह गॉँव बिकने लगा। उनके जमींदार एक ठाकुर साहब थे। किसी फौजदारी के मामले में फँसे हुए थे। मुकदमा लड़ने के लिए रुपये की चाह थी। मुंशीजी ने कचहरी में यह समाचार सुना। चटपट मोल-तोल हुआ। दोनों तरफ गरज थी। सौदा पटने में देर न लगी, बैनामा लिखा गया। रजिस्ट्री हुई। रुपये मौजूद न थे, पर शहर में साख थी। एक महाजन के यहॉँ से तीस हजार रुपये मँगवाये गये और ठाकुर साहब को नजर किये गये। हॉँ, काम-काज की आसानी के खयाल से यह सब लिखा-पढ़ी मुंशीजी ने अपने ही नाम की; क्योंकि मालिक के लड़के अभी नाबालिग थे। उनके नाम से लेने में बहुत झंझट होती और विलम्ब होने से शिकार हाथ से निकल जाता। मुंशीजी बैनामा लिये असीम आनंद में मग्न 
भानुकुँवरि के पास आये। पर्दा कराया और यह शुभ-समाचार सुनाया। भानुकुँवरि ने सजल नेत्रों से उनको धन्यवाद दिया। पंडित जी के नाम पर मन्दिर और घाट बनवाने का इरादा पक्का हो गया। मुँशी जी दूसरे ही दिन उस गॉँव में आये। आसामी नजराने लेकर नये स्वामी के स्वागत को हाजिर हुए। शहर के रईसों की दावत हुई। लोगों के नावों पर बैठ कर गंगा की खूब सैर की। मन्दिर आदि बनवाने के लिए आबादी से हट कर रमणीक स्थान चुना गया।

3
 
यद्यपि इस गॉँव को अपने नाम लेते समय मुंशी जी के मन में कपट का भाव न था, तथापि दो-चार दिन में ही उनका अंकुर जम गया और धीरे-धीरे बढ़ने लगा। मुंशी जी इस गॉँव के आय-व्यय का हिसाब अलग रखते और अपने स्वामिनों को उसका ब्योरो समझाने की जरुरत न समझते। भानुकुँवरि इन बातों में दखल देना उचित न समझती थी; पर दूसरे कारिंदों से बातें सुन-सुन कर उसे शंका होती थी कि कहीं मुंशी जी दगा तो न देंगे। अपने मन का भाव मुंशी से छिपाती थी, इस खयाल से कि कहीं कारिंदों ने उन्हें हानि पहुँचाने के लिए यह षड़यंत्र न रचा हो। 
इस तरह कई साल गुजर गये। अब उस कपट के अंकुर ने वृक्ष का रुप धारण किया। भानुकुँवरि को मुंशी जी के उस मार्ग के लक्षण दिखायी देने लगे। उधर मुंशी जी के मन ने कानून से नीति पर विजय पायी, उन्होंने अपने मन में फैसला किया कि गॉँव मेरा है। हॉँ, मैं भानुकुँवरि का तीस हजार का ऋणी अवश्य हूँ। वे बहुत करेंगी तो अपने रुपये ले लेंगी और क्या कर सकती हैं? मगर दोनों तरफ यह आग अन्दर ही अन्दर सुलगती रही। मुंशी जी अस्त्रसज्जित होकर आक्रमण के इंतजार में थे और भानुकुँवरि इसके लिए अवसर ढूँढ़ रही थी। एक दिन उसने साहस करके मुंशी जी को अन्दर बुलाया और कहा—लाला जी ‘बरगदा’ के मन्दिर का काम कब से लगवाइएगा? उसे लिये आठ साल हो गये, अब काम लग जाय तो अच्छा हो। जिंदगी का कौन ठिकाना है, जो काम करना है; उसे कर ही डालना चाहिए। 
इस ढंग से इस विषय को उठा कर भानुकुँवरि ने अपनी चतुराई का अच्छा परिचय दिया। मुंशी जी भी दिल में इसके कायल हो गये। जरा सोच कर बोले—इरादा तो मेरा कई बार हुआ, पर मौके की जमीन नहीं मिलती। गंगातट की जमीन असामियों के जोत में है और वे किसी तरह छोड़ने पर राजी नहीं। 
भानुकुँवरि—यह बात तो आज मुझे मालूम हुई। आठ साल हुए, इस गॉँव के विषय में आपने कभी भूल कर भी दी तो चर्चा नहीं की। मालूम नहीं, कितनी तहसील है, क्या मुनाफा है, कैसा गॉँव है, कुछ सीर होती है या नहीं। जो कुछ करते हैं, आप ही करते हैं और करेंगे। पर मुझे भी तो मालूम होना चाहिए? 
मुंशी जी सँभल उठे। उन्हें मालूम हो गया कि इस चतुर स्त्री से बाजी ले जाना मुश्किल है। गॉँव लेना ही है तो अब क्या डर। खुल कर बोले—आपको इससे कोई सरोकार न था, इसलिए मैंने व्यर्थ कष्ट देना मुनासिब न समझा। भानुकुँवरि के हृदय में कुठार-सा लगा। पर्दे से निकल आयी और मुंशी जी की तरफ तेज ऑंखों से देख कर बोली—आप क्या कहते हैं! आपने गॉँव मेरे लिये लिया था या अपने लिए! रुपये मैंने दिये या आपने? उस पर जो खर्च पड़ा, वह मेरा था या आपका? मेरी समझ में नहीं आता कि आप कैसी बातें करते हैं। 
मुंशी जी ने सावधानी से जवाब दिया—यह तो आप जानती हैं कि गॉँव हमारे नाम से बसा हुआ है। रुपया जरुर आपका लगा, पर मैं उसका देनदार हूँ। रहा तहसील-वसूल का खर्च, यह सब मैंने अपने पास से दिया है। उसका हिसाब-किताब, आय-व्यय सब रखता गया हूँ। 
भानुकुँवरि ने क्रोध से कॉँपते हुए कहा—इस कपट का फल आपको अवश्य मिलेगा। आप इस निर्दयता से मेरे बच्चों का गला नहीं काट सकते। मुझे नहीं मालूम था कि आपने हृदय में छुरी छिपा रखी है, नहीं तो यह नौबत ही क्यों आती। खैर, अब से मेरी रोकड़ और बही खाता आप कुछ न छुऍं। मेरा जो कुछ होगा, ले लूँगी। जाइए, एकांत में बैठ कर सोचिए। पाप से किसी का भला नहीं होता। तुम समझते होगे कि बालक अनाथ हैं, इनकी सम्पत्ति हजम कर लूँगा। इस भूल में न रहना, मैं तुम्हारे घर की ईट तक बिकवा लूँगी। 
यह कहकर भानुकुँवरि फिर पर्दे की आड़ में आ बैठी और रोने लगी। स्त्रियॉँ क्रोध के बाद किसी न किसी बहाने रोया करती हैं। लाला साहब को कोई जवाब न सूझा। यहॉँ से उठ आये और दफ्तर जाकर कागज उलट-पलट करने लगे, पर भानुकुँवरि भी उनके पीछे-पीछे दफ्तर में पहुँची और डॉँट कर बोली—मेरा कोई कागज मत छूना। नहीं तो बुरा होगा। तुम विषैले साँप हो, मैं तुम्हारा मुँह नहीं देखना चाहती। 
मुंशी जी कागजों में कुछ काट-छॉँट करना चाहते थे, पर विवश हो गये। खजाने की कुन्जी निकाल कर फेंक दी, बही-खाते पटक दिये, किवाड़ धड़ाके-से बंद किये और हवा की तरह सन्न-से निकल गये। कपट में हाथ तो डाला, पर कपट मन्त्र न जाना। 
दूसरें कारिंदों ने यह कैफियत सुनी, तो फूले न समाये। मुंशी जी के सामने उनकी दाल न गलने पाती। भानुकुँवरि के पास आकर वे आग पर तेल छिड़कने लगे। सब लोग इस विषय में सहमत थे कि मुंशी सत्यनारायण ने विश्वासघात किया है। मालिक का नमक उनकी हड्डियों से फूट-फूट कर निकलेगा। 
दोनों ओर से मुकदमेबाजी की तैयारियॉँ होने लगीं! एक तरफ न्याय का शरीर था, दूसरी ओर न्याय की आत्मा। प्रकृति का पुरुष से लड़ने का साहस हुआ। 
भानकुँवरि ने लाला छक्कन लाल से पूछा—हमारा वकील कौन है? छक्कन लाल ने इधर-उधर झॉँक कर कहा—वकील तो सेठ जी हैं, पर सत्यनारायण ने उन्हें पहले गॉँठ रखा होगा। इस मुकदमें के लिए बड़े होशियार वकील की जरुरत है। मेहरा बाबू की आजकल खूब चल रही है। हाकिम की कलम पकड़ लेते हैं। बोलते हैं तो जैसे मोटरकार छूट जाती है सरकार! और क्या कहें, कई आदमियों को फॉँसी से उतार लिया है, उनके सामने कोई वकील जबान तो खोल नहीं सकता। सरकार कहें तो वही कर लिये जायँ। 
छक्कन लाल की अत्युक्ति से संदेह पैदा कर लिया। भानुकुँवरि ने कहा—नहीं, पहले सेठ जी से पूछ लिया जाय। उसके बाद देखा जायगा। आप जाइए, उन्हें बुला लाइए। 
छक्कनलाल अपनी तकदीर को ठोंकते हुए सेठ जी के पास गये। सेठ जी पंडित भृगुदत्त के जीवन-काल से ही उनका कानून-सम्बन्धी सब काम किया करते थे। मुकदमे का हाल सुना तो सन्नाटे में आ गये। सत्यनाराण को यह बड़ा नेकनीयत आदमी समझते थे। उनके पतन से बड़ा खेद हुआ। उसी वक्त आये। भानुकुँवरि ने रो-रो कर उनसे अपनी विपत्ति की कथा कही और अपने दोनों लड़कों को उनके सामने खड़ा करके बोली—आप इन अनाथों की रक्षा कीजिए। इन्हें मैं आपको सौंपती हूँ। 
सेठ जी ने समझौते की बात छेड़ी। बोले—आपस की लड़ाई अच्छी नहीं। 
भानुकुँवरि—अन्यायी के साथ लड़ना ही अच्छा है। 
सेठ जी—पर हमारा पक्ष निर्बल है। 
भानुकुँवरि फिर पर्दे से निकल आयी और विस्मित होकर बोली—क्या हमारा पक्ष निर्बल है? दुनिया जानती है कि गॉँव हमारा है। उसे हमसे कौन ले सकता है? नहीं, मैं सुलह कभी न करुँगी, आप कागजों को देखें। मेरे बच्चों की खातिर यह कष्ट उठायें। आपका परिश्रम निष्फल न जायगा। सत्यनारायण की नीयत पहले खराब न थी। देखिए जिस मिती में गॉँव लिया गया है, उस मिती में तीस हजार का क्या खर्च दिखाया गया है। अगर उसने अपने नाम उधार लिखा हो, तो देखिए, वार्षिक सूद चुकाया गया या नहीं। ऐसे नरपिशाच से मैं कभी सुलह न करुँगी। सेठ जी ने समझ लिया कि इस समय समझाने-बुझाने से कुछ काम न चलेगा। कागजात देखें, अभियोग चलाने की तैयारियॉँ होने लगीं। 


मुंशी सत्यनारायणलाल खिसियाये हुए मकान पहुँचे। लड़के ने मिठाई मॉँगी। उसे पीटा। स्त्री पर इसलिए बरस पड़े कि उसने क्यों लड़के को उनके पास जाने दिया। अपनी वृद्धा माता को डॉँट कर कहा—तुमसे इतना भी नहीं हो सकता कि जरा लड़के को बहलाओ? एक तो मैं दिन-भर का थका-मॉँदा घर आऊँ और फिर लड़के को खेलाऊँ? मुझे दुनिया में न और कोई काम है, न धंधा। इस तरह घर में बावैला मचा कर बाहर आये, सोचने लगे—मुझसे बड़ी भूल हुई। मैं कैसा मूर्ख हूँ। और इतने दिन तक सारे कागज-पत्र अपने हाथ में थे। चाहता, कर सकता था, पर हाथ पर हाथ धरे बैठे रहा। आज सिर पर आ पड़ी, तो सूझी। मैं चाहता तो बही-खाते सब नये बना सकता था, जिसमें इस गॉँव का और रुपये का जिक्र ही न होता, पर मेरी मूर्खता के कारण घर में आयी हुई लक्ष्मी रुठी जाती हैं। मुझे क्या मालूम था कि वह चुड़ैल मुझसे इस तरह पेश आयेगी, कागजों में हाथ तक न लगाने देगी। 
इसी उधेड़बुन में मुंशी जी एकाएक उछल पड़े। एक उपाय सूझ गया—क्यों न कार्यकर्त्ताओं को मिला लूँ? यद्यपि मेरी सख्ती के कारण वे सब मुझसे नाराज थे और इस समय सीधे बात भी न करेंगे, तथापि उनमें ऐसा कोई भी नहीं, जो प्रलोभन से मुठ्ठी में न आ जाय। हॉँ, इसमें रुपये पानी की तरह बहाना पड़ेगा, पर इतना रुपया आयेगा कहॉँ से? हाय दुर्भाग्य? दो-चार दिन पहले चेत गया होता, तो कोई कठिनाई न पड़ती। क्या जानता था कि वह डाइन इस तरह वज्र-प्रहार करेगी। बस, अब एक ही उपाय है। किसी तरह कागजात गुम कर दूँ। बड़ी जोखिम का काम है, पर करना ही पड़ेगा। 
दुष्कामनाओं के सामने एक बार सिर झुकाने पर फिर सँभलना कठिन हो जाता है। पाप के अथाह दलदल में जहॉँ एक बार पड़े कि फिर प्रतिक्षण नीचे ही चले जाते हैं। मुंशी सत्यनारायण-सा विचारशील मनुष्य इस समय इस फिक्र में था कि कैसे सेंध लगा पाऊँ! 
मुंशी जी ने सोचा—क्या सेंध लगाना आसान है? इसके वास्ते कितनी चतुरता, कितना साहब, कितनी बुद्वि, कितनी वीरता चाहिए! कौन कहता है कि चोरी करना आसान काम है? मैं जो कहीं पकड़ा गया, तो मरने के सिवा और कोई मार्ग न रहेगा। 
बहुत सोचने-विचारने पर भी मुंशी जी को अपने ऊपर ऐसा दुस्साहस कर सकने का विश्वास न हो सका। हॉँ, इसमें सुगम एक दूसरी तदबीर नजर आयी—क्यों न दफ्तर में आग लगा दूँ? एक बोतल मिट्टी का तेल और दियासलाई की जरुरत हैं किसी बदमाश को मिला लूँ, मगर यह क्या मालूम कि वही उसी कमरे में रखी है या नहीं। चुड़ैल ने उसे जरुर अपने पास रख लिया होगा। नहीं; आग लगाना गुनाह बेलज्जत होगा। 
बहुत देर मुंशी जी करवटें बदलते रहे। नये-नये मनसूबे सोचते; पर फिर अपने ही तर्को से काट देते। वर्षाकाल में बादलों की नयी-नयी सूरतें बनती और फिर हवा के वेग से बिगड़ जाती हैं; वही दशा इस समय उनके मनसूबों की हो रही थी। 
पर इस मानसिक अशांति में भी एक विचार पूर्णरुप से स्थिर था—किसी तरह इन कागजात को अपने हाथ में लाना चाहिए। काम कठिन है—माना! पर हिम्मत न थी, तो रार क्यों मोल ली? क्या तीस हजार की जायदाद दाल-भात का कौर है?—चाहे जिस तरह हो, चोर बने बिना काम नहीं चल सकता। आखिर जो लोग चोरियॉँ करते हैं, वे भी तो मनुष्य ही होते हैं। बस, एक छलॉँग का काम है। अगर पार हो गये, तो राज करेंगे, गिर पड़े, तो जान से हाथ धोयेंगे। 


रात के दस बज गये। मुंशी सत्यनाराण कुंजियों का एक गुच्छा कमर में दबाये घर से बाहर निकले। द्वार पर थोड़ा-सा पुआल रखा हुआ था। उसे देखते ही वे चौंक पड़े। मारे डर के छाती धड़कने लगी। जान पड़ा कि कोई छिपा बैठा है। कदम रुक गये। पुआल की तरफ ध्यान से देखा। उसमें बिलकुल हरकत न हुई! तब हिम्मत बॉँधी, आगे बड़े और मन को समझाने लगे—मैं कैसा बौखल हूँ 
अपने द्वार पर किसका डर और सड़क पर भी मुझे किसका डर है? मैं अपनी राह जाता हूँ। कोई मेरी तरफ तिरछी ऑंख से नहीं देख सकता। हॉँ, जब मुझे सेंध लगाते देख ले—नहीं, पकड़ ले तब अलबत्ते डरने की बात है। तिस पर भी बचाव की युक्ति निकल सकती है। 
अकस्मात उन्होंने भानुकुँवरि के एक चपरासी को आते हुए देखा। कलेजा धड़क उठा। लपक कर एक अँधेरी गली में घुस गये। बड़ी देर तक वहॉँ खड़े रहे। जब वह सिपाही ऑंखों से ओझल हो गया, तब फिर सड़क पर आये। वह सिपाही आज सुबह तक इनका गुलाम था, उसे उन्होंने कितनी ही बार गालियॉँ दी थीं, लातें मारी थीं, पर आज उसे देखकर उनके प्राण सूख गये। 
उन्होंने फिर तर्क की शरण ली। मैं मानों भंग खाकर आया हूँ। इस चपरासी से इतना डरा मानो कि वह मुझे देख लेता, पर मेरा कर क्या सकता था? हजारों आदमी रास्ता चल रहे हैं। उन्हीं में मैं भी एक हूँ। क्या वह अंतर्यामी है? सबके हृदय का हाल जानता है? मुझे देखकर वह अदब से सलाम करता और वहॉँ का कुछ हाल भी कहता; पर मैं उससे ऐसा डरा कि सूरत तक न दिखायी। इस तरह मन को समझा कर वे आगे बढ़े। सच है, पाप के पंजों में फँसा हुआ मन पतझड़ का पत्ता है, जो हवा के जरा-से झोंके से गिर पड़ता है। 
मुंशी जी बाजार पहुँचे। अधिकतर दूकानें बंद हो चुकी थीं। उनमें सॉँड़ और गायें बैठी हुई जुगाली कर रही थी। केवल हलवाइयों की दूकानें खुली थी और कहीं-कहीं गजरेवाले हार की हॉँक लगाते फिरते थे। सब हलवाई मुंशी जी को पहचानते थे, अतएव मुंशी जी ने सिर झुका लिया। कुछ चाल बदली और लपकते हुए चले। एकाएक उन्हें एक बग्घी आती दिखायी दी। यह सेठ बल्लभदास सवकील की बग्घी थी। इसमें बैठकर हजारों बार सेठ जी के साथ कचहरी गये थे, पर आज वह बग्घी कालदेव के समान भयंकर मालूम हुई। फौरन एक खाली दूकान पर चढ़ गये। वहॉँ विश्राम करने वाले सॉँड़ ने समझा, वे मुझे पदच्युत करने आये हैं! माथा झुकाये फुंकारता हुआ उठ बैठा; पर इसी बीच में बग्घी निकल गयी और मुंशी जी की जान में जान आयी। अबकी उन्होंने तर्क का आश्रय न लिया। समझ गये कि इस समय इससे कोई लाभ नहीं, खैरियत यह हुई कि वकील ने देखा नहीं। यह एक घाघ हैं। मेरे चेहरे से ताड़ जाता। कुछ विद्वानों का कथन है कि मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति पाप की ओर होती है, पर यह कोरा अनुमान ही अनुमान है, अनुभव-सिद्ध बात नहीं। सच बात तो यह है कि मनुष्य स्वभावत: पाप-भीरु होता है और हम प्रत्यक्ष देख रहे हैं कि पाप से उसे कैसी घृणा होती है। 
एक फर्लांग आगे चल कर मुंशी जी को एक गली मिली। वह भानुकुँवरि के घर का एक रास्ता था। धुँधली-सी लालटेन जल रही थी। जैसा मुंशी जी ने अनुमान किया था, पहरेदार का पता न था। अस्तबल में चमारों के यहॉँ नाच हो रहा था। कई चमारिनें बनाव-सिंगार करके नाच रही थीं। चमार मृदंग बजा-बजा कर गाते थे— 
‘नाहीं घरे श्याम, घेरि आये बदरा।
सोवत रहेउँ, सपन एक देखेउँ, रामा। 
खुलि गयी नींद, ढरक गये कजरा। 
नाहीं घरे श्याम, घेरि आये बदरा।’
दोनों पहरेदार वही तमाशा देख रहे थे। मुंशी जी दबे-पॉँव लालटेन के पास गए और जिस तरह बिल्ली चूहे पर झपटती है, उसी तरह उन्होंने झपट कर लालटेन को बुझा दिया। एक पड़ाव पूरा हो गया, पर वे उस कार्य को जितना दुष्कर समझते थे, उतना न जान पड़ा। हृदय कुछ मजबूत हुआ। दफ्तर के बरामदे में पहुँचे और खूब कान लगाकर आहट ली। चारों ओर सन्नाटा छाया हुआ था। केवल चमारों का कोलाहल सुनायी देता था। इस समय मुंशी जी के दिल में धड़कन थी, पर सिर धमधम कर रहा था; हाथ-पॉँव कॉँप रहे थे, सॉँस बड़े वेग से चल रही थी। शरीर का एक-एक रोम ऑंख और कान बना हुआ था। वे सजीवता की मूर्ति हो रहे थे। उनमें जितना पौरुष, जितनी चपलता, जितना-साहस, जितनी चेतना, जितनी बुद्वि, जितना औसान था, वे सब इस वक्त सजग और सचेत होकर इच्छा-शक्ति की सहायता कर रहे थे। 
दफ्तर के दरवाजे पर वही पुराना ताला लगा हुआ था। इसकी कुंजी आज बहुत तलाश करके वे बाजार से लाये थे। ताला खुल गया, किवाड़ो ने बहुत दबी जबान से प्रतिरोध किया। इस पर किसी ने ध्यान न दिया। मुंशी जी दफ्तर में दाखिल हुए। भीतर चिराग जल रहा था। मुंशी जी को देख कर उसने एक दफे सिर हिलाया, मानो उन्हें भीतर आने से रोका। 
मुंशी जी के पैर थर-थर कॉँप रहे थे। एड़ियॉँ जमीन से उछली पड़ती थीं। पाप का बोझ उन्हें असह्य था। पल-भर में मुंशी जी ने बहियों को उलटा-पलटा। लिखावट उनकी ऑंखों में तैर रही थी। इतना अवकाश कहॉँ था कि जरुरी कागजात छॉँट लेते। उन्होंनें सारी बहियों को समेट कर एक गट्ठर बनाया और सिर पर रख कर तीर के समान कमरे के बाहर निकल आये। उस पाप की गठरी को लादे हुए वह अँधेरी गली से गायब हो गए। 
तंग, अँधेरी, दुर्गन्धपूर्ण कीचड़ से भरी हुई गलियों में वे नंगे पॉँव, स्वार्थ, लोभ और कपट का बोझ लिए चले जाते थे। मानो पापमय आत्मा नरक की नालियों में बही चली जाती थी। 
बहुत दूर तक भटकने के बाद वे गंगा किनारे पहुँचे। जिस तरह कलुषित हृदयों में कहीं-कहीं धर्म का धुँधला प्रकाश रहता है, उसी तरह नदी की काली सतह पर तारे झिलमिला रहे थे। तट पर कई साधु धूनी जमाये पड़े थे। ज्ञान की ज्वाला मन की जगह बाहर दहक रही थी। मुंशी जी ने अपना गट्ठर उतारा और चादर से खूब मजबूत बॉँध कर बलपूर्वक नदी में फेंक दिया। सोती हुई लहरों में कुछ हलचल हुई और फिर सन्नाटा हो गया। 


मुंशी सत्यनारायण लाल के घर में दो स्त्रियॉँ थीं—माता और पत्नी। वे दोनों अशिक्षिता थीं। तिस पर भी मुंशी जी को गंगा में डूब मरने या कहीं भाग जाने की जरुरत न होती थी ! न वे बॉडी पहनती थी, न मोजे-जूते, न हारमोनियम पर गा सकती थी। यहॉँ तक कि उन्हें साबुन लगाना भी न आता था। हेयरपिन, ब्रुचेज, जाकेट आदि परमावश्यक चीजों का तो नाम ही नहीं सुना था। बहू में आत्म-सम्मान जरा भी नहीं था; न सास में आत्म-गौरव का जोश। बहू अब तक सास की घुड़कियॉँ भीगी बिल्ली की तरह सह लेती थी—हा मूर्खे ! सास को बच्चे के नहलाने-धुलाने, यहॉँ तक कि घर में झाड़ू देने से भी घृणा न थी, हा ज्ञानांधे! बहू स्त्री क्या थी, मिट्टी का लोंदा थी। एक पैसे की जरुरत होती तो सास से मॉँगती। सारांश यह कि दोनों स्त्रियॉँ अपने अधिकारों से बेखबर, अंधकार में पड़ी हुई पशुवत् जीवन व्यतीत करती थीं। ऐसी फूहड़ थी कि रोटियां भी अपने हाथों से बना लेती थी। कंजूसी के मारे दालमोट, समोसे कभी बाजार से न मँगातीं। आगरे वाले की दूकान की चीजें खायी होती तो उनका मजा जानतीं। बुढ़िया खूसट दवा-दरपन भी जानती थी। बैठी-बैठी घास-पात कूटा करती। 
मुंशी जी ने मॉँ के पास जाकर कहा—अम्मॉँ ! अब क्या होगा? भानुकुँवरि ने मुझे जवाब दे दिया।
माता ने घबरा कर पूछा—जवाब दे दिया? 
मुंशी—हॉँ, बिलकुल बेकसूर! 
माता—क्या बात हुई? भानुकुँवरि का मिजाज तो ऐसा न था। 
मुंशी—बात कुछ न थी। मैंने अपने नाम से जो गॉँव लिया था, उसे मैंने अपने अधिकार में कर लिया। कल मुझसे और उनसे साफ-साफ बातें हुई। मैंने कह दिया कि गॉँव मेरा है। मैंने अपने नाम से लिया है, उसमें तुम्हारा कोई इजारा नहीं। बस, बिगड़ गयीं, जो मुँह में आया, बकती रहीं। उसी वक्त मुझे निकाल दिया और धमका कर कहा—मैं तुमसे लड़ कर अपना गॉँव ले लूँगी। अब आज ही उनकी तरफ से मेरे ऊपर मुकदमा दायर होगा; मगर इससे होता क्या है? गॉँव मेरा है। उस पर मेरा कब्जा है। एक नहीं, हजार मुकदमें चलाएं, डिगरी मेरी होगी? 
माता ने बहू की तरफ मर्मांतक दृष्टि से देखा और बोली—क्यों भैया? वह गॉँव लिया तो था तुमने उन्हीं के रुपये से और उन्हीं के वास्ते? 
मुंशी—लिया था, तब लिया था। अब मुझसे ऐसा आबाद और मालदार गॉँव नहीं छोड़ा जाता। वह मेरा कुछ नहीं कर सकती। मुझसे अपना रुपया भी नहीं ले सकती। डेढ़ सौ गॉँव तो हैं। तब भी हवस नहीं मानती। 
माना—बेटा, किसी के धन ज्यादा होता है, तो वह उसे फेंक थोड़े ही देता है? तुमने अपनी नीयत बिगाड़ी, यह अच्छा काम नहीं किया। दुनिया तुम्हें क्या कहेगी? और दुनिया चाहे कहे या न कहे, तुमको भला ऐसा करना चाहिए कि जिसकी गोद में इतने दिन पले, जिसका इतने दिनों तक नमक खाया, अब उसी से दगा करो? नारायण ने तुम्हें क्या नहीं दिया? मजे से खाते हो, पहनते हो, घर में नारायण का दिया चार पैसा है, बाल-बच्चे हैं, और क्या चाहिए? मेरा कहना मानो, इस कलंक का टीका अपने माथे न लगाओ। यह अपजस मत लो। बरक्कत अपनी कमाई में होती है; हराम की कौड़ी कभी नहीं फलती। 
मुंशी—ऊँह! ऐसी बातें बहुत सुन चुका हूँ। दुनिया उन पर चलने लगे, तो सारे काम बन्द हो जायँ। मैंने इतने दिनों इनकी सेवा की, मेरी ही बदौलत ऐसे-ऐसे चार-पॉँच गॉँव बढ़ गए। जब तक पंडित जी थे, मेरी नीयत का मान था। मुझे ऑंख में धूल डालने की जरुरत न थी, वे आप ही मेरी खातिर कर दिया करते थे। उन्हें मरे आठ साल हो गए; मगर मुसम्मात के एक बीड़े पान की कसम खाता हूँ; मेरी जात से उनको हजारों रुपये-मासिक की बचत होती थी। क्या उनको इतनी भी समझ न थी कि यह बेचारा, जो इतनी ईमानदारी से मेरा काम करता है, इस नफे में कुछ उसे भी मिलना चाहिए? यह कह कर न दो, इनाम कह कर दो, किसी तरह दो तो, मगर वे तो समझती थी कि मैंने इसे बीस रुपये महीने पर मोल ले लिया है। मैंने आठ साल तक सब किया, अब क्या इसी बीस रुपये में गुलामी करता रहूँ और अपने बच्चों को दूसरों का मुँह ताकने के लिए छोड़ जाऊँ? अब मुझे यह अवसर मिला है। इसे क्यों छोडूँ? जमींदारी की लालसा लिये हुए क्यों मरुँ? जब तक जीऊँगा, खुद खाऊँगा। मेरे पीछे मेरे बच्चे चैन उड़ायेंगे। 
माता की ऑंखों में ऑंसू भर आये। बोली—बेटा, मैंने तुम्हारे मुँह से ऐसी बातें कभी नहीं सुनी थीं, तुम्हें क्या हो गया है? तुम्हारे आगे बाल-बच्चे हैं। आग में हाथ न डालो। 
बहू ने सास की ओर देख कर कहा—हमको ऐसा धन न चाहिए, हम अपनी दाल-रोटी में मगन हैं। 
मुंशी—अच्छी बात है, तुम लोग रोटी-दाल खाना, गाढ़ा पहनना, मुझे अब हल्वे-पूरी की इच्छा है। 
माता—यह अधर्म मुझसे न देखा जायगा। मैं गंगा में डूब मरुँगी। 
पत्नी—तुम्हें यह सब कॉँटा बोना है, तो मुझे मायके पहुँचा दो, मैं अपने बच्चों को लेकर इस घर में न रहूँगी! 
मुंशी ने झुँझला कर कहा—तुम लोगों की बुद्वि तो भॉँग खा गयी है। लाखों सरकारी नौकर रात-दिन दूसरों का गला दबा-दबा कर रिश्वतें लेते हैं और चैन करते हैं। न उनके बाल-बच्चों ही को कुछ होता है, न उन्हीं को हैजा पकड़ता है। अधर्म उनको क्यों नहीं खा जाता, जो मुझी को खा जायगा। मैंने तो सत्यवादियों को सदा दु:ख झेलते ही देखा है। मैंने जो कुछ किया है, सुख लूटूँगा। तुम्हारे मन में जो आये, करो। 
प्रात:काल दफ्तर खुला तो कागजात सब गायब थे। मुंशी छक्कनलाल बौखलाये से घर में गये और मालकिन से पूछा—कागजात आपने उठवा लिए हैं। 
भानुकुँवरि ने कहा—मुझे क्या खबर, जहॉँ आपने रखे होंगे, वहीं होंगे। 
फिर सारे घर में खलबली पड़ गयी। पहरेदारों पर मार पड़ने लगी। भानुकुँवरि को तुरन्त मुंशी सत्यनारायण पर संदेह हुआ, मगर उनकी समझ में छक्कनलाल की सहायता के बिना यह काम होना असम्भव था। पुलिस में रपट हुई। एक ओझा नाम निकालने के लिए बुलाया गया। मौलवी साहब ने कुर्रा फेंका। ओझा ने बताया, यह किसी पुराने बैरी का काम है। मौलवी साहब ने फरमाया, किसी घर के भेदिये ने यह हरकत की है। शाम तक यह दौड़-धूप रही। फिर यह सलाह होने लगी कि इन कागजातों के बगैर मुकदमा कैसे चले। पक्ष तो पहले से ही निर्बल था। जो कुछ बल था, वह इसी बही-खाते का था। अब तो सबूत भी हाथ से गये। दावे में कुछ जान ही न रही, मगर भानकुँवरि ने कहा—बला से हार जाऍंगे। हमारी चीज कोई छीन ले, तो हमारा धर्म है कि उससे यथाशक्ति लड़ें, हार कर बैठना कायरों का काम है। सेठ जी (वकील) को इस दुर्घटना का समाचार मिला तो उन्होंने भी यही कहा कि अब दावे में जरा भी जान नहीं है। केवल अनुमान और तर्क का भरोसा है। अदालत ने माना तो माना, नहीं तो हार माननी पड़ेगी। पर भानुकुँवरि ने एक न मानी। लखनऊ और इलाहाबाद से दो होशियार बैरिस्टिर बुलाये। मुकदमा शुरु हो गया। सारे शहर में इस मुकदमें की धूम थी। कितने ही रईसों को भानुकुँवरि ने साथी बनाया था। मुकदमा शुरु होने के समय हजारों आदमियों की भीड़ हो जाती थी। लोगों के इस खिंचाव का मुख्य कारण यह था कि भानुकुँवरि एक पर्दे की आड़ में बैठी हुई अदालत की कारवाई देखा करती थी, क्योंकि उसे अब अपने नौकरों पर जरा भी विश्वास न था। वादी बैरिस्टर ने एक बड़ी मार्मिक वक्तृता दी। उसने सत्यनाराण की पूर्वावस्था का खूब अच्छा चित्र खींचा। उसने दिखलाया कि वे कैसे स्वामिभक्त, कैसे कार्य-कुशल, कैसे कर्म-शील थे; और स्वर्गवासी पंडित भृगुदत्त का उस पर पूर्ण विश्वास हो जाना, किस तरह स्वाभाविक था। इसके बाद उसने सिद्ध किया कि मुंशी सत्यनारायण की आर्थिक व्यवस्था कभी ऐसी न थी कि वे इतना धन-संचय करते। अंत में उसने मुंशी जी की स्वार्थपरता, कूटनीति, निर्दयता और विश्वास-घातकता का ऐसा घृणोत्पादक चित्र खींचा कि लोग मुंशी जी को गोलियॉँ देने लगे। इसके साथ ही उसने पंडित जी के अनाथ बालकों की दशा का बड़ा करूणोत्पादक वर्णन किया—कैसे शोक और लज्जा की बात है कि ऐसा चरित्रवान, ऐसा नीति-कुशल मनुष्य इतना गिर जाय कि अपने स्वामी के अनाथ बालकों की गर्दन पर छुरी चलाने पर संकोच न करे। मानव-पतन का ऐसा करुण, ऐसा हृदय-विदारक उदाहरण मिलना कठिन है। इस कुटिल कार्य के परिणाम की दृष्टि से इस मनुष्य के पूर्व परिचित सदगुणों का गौरव लुप्त हो जाता है। क्योंकि वे असली मोती नहीं, नकली कॉँच के दाने थे, जो केवल विश्वास जमाने के निमित्त दर्शाये गये थे। वह केवल सुंदर जाल था, जो एक सरल हृदय और छल-छंद से दूर रहने वाले रईस को फँसाने के लिए फैलाया गया था। इस नर-पशु का अंत:करण कितना अंधकारमय, कितना कपटपूर्ण, कितना कठोर है; और इसकी दुष्टता कितनी घोर, कितनी अपावन है। अपने शत्रु के साथ दया करना एक बार तो क्षम्य है, मगर इस मलिन हृदय मनुष्य ने उन बेकसों के साथ दगा दिया है, जिन पर मानव-स्वभाव के अनुसार दया करना उचित है! यदि आज हमारे पास बही-खाते मौजूद होते, अदालत पर सत्यनारायण की सत्यता स्पष्ट रुप से प्रकट हो जाती, पर मुंशी जी के बरखास्त होते ही दफ्तर से उनका लुप्त हो जाना भी अदालत के लिए एक बड़ा सबूत है। 
शहर में कई रईसों ने गवाही दी, पर सुनी-सुनायी बातें जिरह में उखड़ गयीं। दूसरे दिन फिर मुकदमा पेश हुआ। प्रतिवादी के वकील ने अपनी वक्तृता शुरु की। उसमें गंभीर विचारों की अपेक्षा हास्य का आधिक्य था—यह एक विलक्षण न्याय-सिद्धांत है कि किसी धनाढ़य मनुष्य का नौकर जो कुछ खरीदे, वह उसके स्वामी की चीज समझी जाय। इस सिद्धांत के अनुसार हमारी गवर्नमेंट को अपने कर्मचारियों की सारी सम्पत्ति पर कब्जा कर लेना चाहिए। यह स्वीकार करने में हमको कोई आपत्ति नहीं कि हम इतने रुपयों का प्रबंध न कर सकते थे और यह धन हमने स्वामी ही से ऋण लिया; पर हमसे ऋण चुकाने का कोई तकाजा न करके वह जायदाद ही मॉँगी जाती है। यदि हिसाब के कागजात दिखलाये जायँ, तो वे साफ बता देंगे कि मैं सारा ऋण दे चुका। हमारे मित्र ने कहा कि ऐसी अवस्था में बहियों का गुम हो जाना भी अदालत के लिये एक सबूत होना चाहिए। मैं भी उनकी युक्ति का समर्थन करता हूँ। यदि मैं आपसे ऋण ले कर अपना विवाह करुँ तो क्या मुझसे मेरी नव-विवाहित वधू को छीन लेंगे? 
‘हमारे सुयोग मित्र ने हमारे ऊपर अनाथों के साथ दगा करने का दोष लगाया है। अगर मुंशी सत्यनाराण की नीयत खराब होती, तो उनके लिए सबसे अच्छा अवसर वह था जब पंडित भृगुदत्त का स्वर्गवास हुआ था। इतने विलम्ब की क्या जरुरत थी? यदि आप शेर को फँसा कर उसके बच्चे को उसी वक्त नहीं पकड़ लेते, उसे बढ़ने और सबल होने का अवसर देते हैं, तो मैं आपको बुद्विमान न कहूँगा। यथार्थ बात यह है कि मुंशी सत्यनाराण ने नमक का जो कुछ हक था, वह पूरा कर दिया। आठ वर्ष तक तन-मन से स्वामी के संतान की सेवा की। आज उन्हें अपनी साधुता का जो फल मिल रहा है, वह बहुत ही दु:खजनक और हृदय-विदारक है। इसमें भानुकुँवरि का दोष नहीं। वे एक गुण-सम्पन्न महिला हैं; मगर अपनी जाति के अवगुण उनमें भी विद्यमान हैं! ईमानदार मनुष्य स्वभावत: स्पष्टभाषी होता है; उसे अपनी बातों में नमक-मिर्च लगाने की जरुरत नहीं होती। यही कारण है कि मुंशी जी के मृदुभाषी मातहतों को उन पर आक्षेप करने का मौका मिल गया। इस दावे की जड़ केवल इतनी ही है, और कुछ नहीं। भानुकुँवरि यहॉँ उपस्थित हैं। क्या वे कह सकती हैं कि इस आठ वर्ष की मुद्दत में कभी इस गॉँव का जिक्र उनके सामने आया? कभी उसके हानि-लाभ, आय-व्यय, लेन-देन की चर्चा उनसे की गयी? मान लीजिए कि मैं गवर्नमेंट का मुलाजिम हूँ। यदि मैं आज दफ्तर में आकर अपनी पत्नी के आय-व्यय और अपने टहलुओं के टैक्सों का पचड़ा गाने लगूँ, तो शायद मुझे शीघ्र ही अपने पद से पृथक होना पड़े, और सम्भव है, कुछ दिनों तक बरेली की अतिथिशाला में भी रखा जाऊँ। जिस गॉँव से भानुकुँवरि का सरोवार न था, उसकी चर्चा उनसे क्यों की जाती?’ इसके बाद बहुत से गवाह पेश हुए; जिनमें अधिकांश आस-पास के देहातों के जमींदार थे। उन्होंने बयान किया कि हमने मुंशी सत्यनारायण असामियों को अपनी दस्तखती रसीदें और अपने नाम से खजाने में रुपया दाखिल करते देखा है। 
इतने में संध्या हो गयी। अदालत ने एक सप्ताह में फैसला सुनाने का हुक्म दिया। 


सत्यनारायण को अब अपनी जीत में कोई सन्देह न था। वादी पक्ष के गवाह भी उखड़ गये थे और बहस भी सबूत से खाली थी। अब इनकी गिनती भी जमींदारों में होगी और सम्भव है, यह कुछ दिनों में रईस कहलाने लगेंगे। पर किसी न किसी कारण से अब शहर के गणमान्य पुरुषों से ऑंखें मिलाते शर्माते थे। उन्हें देखते ही उनका सिर नीचा हो जाता था। वह मन में डरते थे कि वे लोग कहीं इस विषय पर कुछ पूछ-ताछ न कर बैठें। वह बाजार में निकलते तो दूकानदारों में कुछ कानाफूसी होने लगती और लोग उन्हें तिरछी दृष्टि से देखने लगते। अब तक लोग उन्हें विवेकशील और सच्चरित्र मनुष्य समझते, शहर के धनी-मानी उन्हें इज्जत की निगाह से देखते और उनका बड़ा आदर करते थे। यद्यपि मुंशी जी को अब तक इनसे टेढ़ी-तिरछी सुनने का संयोग न पड़ा था, तथापि उनका मन कहता था कि सच्ची बात किसी से छिपी नहीं है। चाहे अदालत से उनकी जीत हो जाय, पर उनकी साख अब जाती रही। अब उन्हें लोग स्वार्थी, कपटी और दगाबाज समझेंगे। दूसरों की बात तो अलग रही, स्वयं उनके घरवाले उनकी उपेक्षा करते थे। बूढ़ी माता ने तीन दिन से मुँह में पानी नहीं डाला! स्त्री बार-बार हाथ जोड़ कर कहती थी कि अपने प्यारे बालकों पर दया करो। बुरे काम का फल कभी अच्छा नहीं होता! नहीं तो पहले मुझी को विष खिला दो। जिस दिन फैसला सुनाया जानेवाला था, प्रात:काल एक कुंजड़िन तरकारियॉँ लेकर आयी और मुंशियाइन से बोली—
‘बहू जी! हमने बाजार में एक बात सुनी है। बुरा न मानों तो कहूँ? जिसको देखो, उसके मुँह से यही बात निकलती है कि लाला बाबू ने जालसाजी से पंडिताइन का कोई हलका ले लिया। हमें तो इस पर यकीन नहीं आता। लाला बाबू ने न सँभाला होता, तो अब तक पंडिताइन का कहीं पता न लगता। एक अंगुल जमीन न बचती। इन्हीं में एक सरदार था कि सबको सँभाल लिया। तो क्या अब उन्हीं के साथ बदी करेंगे? अरे बहू! कोई कुछ साथ लाया है कि ले जायगा? यही नेक-बदी रह जाती है। बुरे का फल बुरा होता है। आदमी न देखे, पर अल्लाह सब कुछ देखता है।’ 
बहू जी पर घड़ों पानी पड़ गया। जी चाहता था कि धरती फट जाती, तो उसमें समा जाती। स्त्रियॉँ स्वभावत: लज्जावती होती हैं। उनमें आत्माभिमान की मात्रा अधिक होती है। निन्दा-अपमान उनसे सहन नहीं हो सकता है। सिर झुकाये हुए बोली—बुआ! मैं इन बातों को क्या जानूँ? मैंने तो आज ही तुम्हारे मुँह से सुनी है। कौन-सी तरकारियॉँ हैं? 
मुंशी सत्यनारायण अपने कमरे में लेटे हुए कुंजड़िन की बातें सुन रहे थे, उसके चले जाने के बाद आकर स्त्री से पूछने लगे—यह शैतान की खाला क्या कह रही थी। 
स्त्री ने पति की ओर से मुंह फेर लिया और जमीन की ओर ताकते हुए बोली—क्या तुमने नहीं सुना? तुम्हारा गुन-गान कर रही थी। तुम्हारे पीछे देखो, किस-किसके मुँह से ये बातें सुननी पड़ती हैं और किस-किससे मुँह छिपाना पड़ता है। 
मुंशी जी अपने कमरे में लौट आये। स्त्री को कुछ उत्तर नहीं दिया। आत्मा लज्जा से परास्त हो गयी। जो मनुष्य सदैव सर्व-सम्मानित रहा हो; जो सदा आत्माभिमान से सिर उठा कर चलता रहा हो, जिसकी सुकृति की सारे शहर में चर्चा होती हो, वह कभी सर्वथा लज्जाशून्य नहीं हो सकता; लज्जा कुपथ की सबसे बड़ी शत्रु है। कुवासनाओं के भ्रम में पड़ कर मुंशी जी ने समझा था, मैं इस काम को ऐसी गुप्त-रीति से पूरा कर ले जाऊँगा कि किसी को कानों-कान खबर न होगी, पर उनका यह मनोरथ सिद्ध न हुआ। बाधाऍं आ खड़ी हुई। उनके हटाने में उन्हें बड़े दुस्साहस से काम लेना पड़ा; पर यह भी उन्होंने लज्जा से बचने के निमित्त किया। जिसमें यह कोई न कहे कि अपनी स्वामिनी को धोखा दिया। इतना यत्न करने पर भी निंदा से न बच सके। बाजार का सौदा बेचनेवालियॉँ भी अब अपमान करतीं हैं। कुवासनाओं से दबी हुई लज्जा-शक्ति इस कड़ी चोट को सहन न कर सकी। मुंशी जी सोचने लगे, अब मुझे धन-सम्पत्ति मिल जायगी, ऐश्वर्यवान् हो जाऊँगा, परन्तु निन्दा से मेरा पीछा न छूटेगा। अदालत का फैसला मुझे लोक-निन्दा से न बचा सकेगा। ऐश्वर्य का फल क्या है?—मान और मर्यादा। उससे हाथ धो बैठा, तो ऐश्वर्य को लेकर क्या करुँगा? चित्त की शक्ति खोकर, लोक-लज्जा सहकर, जनसमुदाय में नीच बन कर और अपने घर में कलह का बीज बोकर यह सम्पत्ति मेरे किस काम आयेगी? और यदि वास्तव में कोई न्याय-शक्ति हो और वह मुझे इस कुकृत्य का दंड दे, तो मेरे लिए सिवा मुख में कालिख लगा कर निकल जाने के और कोई मार्ग न रहेगा। सत्यवादी मनुष्य पर कोई विपत्त पड़ती हैं, तो लोग उनके साथ सहानुभूति करते हैं। दुष्टों की विपत्ति लोगों के लिए व्यंग्य की सामग्री बन जाती है। उस अवस्था में ईश्वर अन्यायी ठहराया जाता है; मगर दुष्टों की विपत्ति ईश्वर के न्याय को सिद्ध करती है। परमात्मन! इस दुर्दशा से किसी तरह मेरा उद्धार करो! क्यों न जाकर मैं भानुकुँवरि के पैरों पर गिर पड़ूँ और विनय करुँ कि यह मुकदमा उठा लो? शोक! पहले यह बात मुझे क्यों न सूझी? अगर कल तक में उनके पास चला गया होता, तो बात बन जाती; पर अब क्या हो सकता है। आज तो फैसला सुनाया जायगा। 
मुंशी जी देर तक इसी विचार में पड़े रहे, पर कुछ निश्चय न कर सके कि क्या करें। 
भानुकुँवरि को भी विश्वास हो गया कि अब गॉँव हाथ से गया। बेचारी हाथ मल कर रह गयी। रात-भर उसे नींद न आयी, रह-रह कर मुंशी सत्यनारायण पर क्रोध आता था। हाय पापी! ढोल बजा कर मेरा पचास हजार का माल लिए जाता है और मैं कुछ नहीं कर सकती। आजकल के न्याय करने वाले बिलकुल ऑंख के अँधे हैं। जिस बात को सारी दुनिया जानती है, उसमें भी उनकी दृष्टि नहीं पहुँचती। बस, दूसरों को ऑंखों से देखते हैं। कोरे कागजों के गुलाम हैं। न्याय वह है जो दूध का दूध, पानी का पानी कर दे; यह नहीं कि खुद ही कागजों के धोखे में आ जाय, खुद ही पाखंडियों के जाल में फँस जाय। इसी से तो ऐसी छली, कपटी, दगाबाज, और दुरात्माओं का साहस बढ़ गया है। खैर, गॉँव जाता है तो जाय; लेकिन सत्यनारायण, तुम शहर में कहीं मुँह दिखाने के लायक भी न रहे। इस खयाल से भानुकुँवरि को कुछ शान्ति हुई। शत्रु की हानि मनुष्य को अपने लाभ से भी अधिक प्रिय होती है, मानव-स्वभाव ही कुछ ऐसा है। तुम हमारा एक गॉँव ले गये, नारायण चाहेंगे तो तुम भी इससे सुख न पाओगे। तुम आप नरक की आग में जलोगे, तुम्हारे घर में कोई दिया जलाने वाला न रह जायगा।
फैसले का दिन आ गया। आज इजलास में बड़ी भीड़ थी। ऐसे-ऐसे महानुभाव उपस्थित थे, जो बगुलों की तरह अफसरों की बधाई और बिदाई के अवसरों ही में नजर आया करते हैं। वकीलों और मुख्तारों की पलटन भी जमा थी। नियत समय पर जज साहब ने इजलास सुशोभित किया। विस्तृत न्याय भवन में सन्नाटा छा गया। अहलमद ने संदूक से तजबीज निकाली। लोग उत्सुक होकर एक-एक कदम और आगे खिसक गए। 
जज ने फैसला सुनाया—मुद्दई का दावा खारिज। दोनों पक्ष अपना-अपना खर्च सह लें। 
यद्यपि फैसला लोगों के अनुमान के अनुसार ही था, तथापि जज के मुँह से उसे सुन कर लोगों में हलचल-सी मच गयी। उदासीन भाव से फैसले पर आलोचनाऍं करते हुए लोग धीरे-धीरे कमरे से निकलने लगे। 
एकाएक भानुकुँवरि घूँघट निकाले इजलास पर आ कर खड़ी हो गयी। जानेवाले लौट पड़े। जो बाहर निकल गये थे, दौड़ कर आ गये। और कौतूहलपूर्वक भानुकुँवरि की तरफ ताकने लगे। 
भानुकुँवरि ने कंपित स्वर में जज से कहा—सरकार, यदि हुक्म दें, तो मैं मुंशी जी से कुछ पूछूँ। 
यद्यपि यह बात नियम के विरुद्ध थी, तथापि जज ने दयापूर्वक आज्ञा दे दी। 
तब भानुकुँवरि ने सत्यनारायण की तरफ देख कर कहा—लाला जी, सरकार ने तुम्हारी डिग्री तो कर ही दी। गॉँव तुम्हें मुबारक रहे; मगर ईमान आदमी का सब कुछ है। ईमान से कह दो, गॉँव किसका है? 
हजारों आदमी यह प्रश्न सुन कर कौतूहल से सत्यनारायण की तरफ देखने लगे। मुंशी जी विचार-सागर में डूब गये। हृदय में संकल्प और विकल्प में घोर संग्राम होने लगा। हजारों मनुष्यों की ऑंखें उनकी तरफ जमी हुई थीं। यथार्थ बात अब किसी से छिपी न थी। इतने आदमियों के सामने असत्य बात मुँह से निकल न सकी। लज्जा से जबान बंद कर ली—‘मेरा’ कहने में काम बनता था। कोई बात न थी; किंतु घोरतम पाप का दंड समाज दे सकता है, उसके मिलने का पूरा भय था। ‘आपका’ कहने से काम बिगड़ता था। जीती-जितायी बाजी हाथ से निकली जाती थी, सर्वोत्कृष्ट काम के लिए समाज से जो इनाम मिल सकता है, उसके मिलने की पूरी आशा थी। आशा के भय को जीत लिया। उन्हें ऐसा प्रतीत हुआ, जैसे ईश्वर ने मुझे अपना मुख उज्जवल करने का यह अंतिम अवसर दिया है। मैं अब भी मानव-सम्मान का पात्र बन सकता हूँ। अब अपनी आत्मा की रक्षा कर सकता हूँ। उन्होंने आगे बढ़ कर भानुकुँवरि को प्रणाम किया और कॉँपते हुए स्वर से बोले—आपका! 
हजारों मनुष्यों के मुँह से एक गगनस्पर्शी ध्वनि निकली—सत्य की जय! 
जज ने खड़े होकर कहा—यह कानून का न्याय नहीं, ईश्वरीय न्याय है! इसे कथा न समझिएगा; यह सच्ची घटना है। भानुकुँवरि और सत्य नारायण अब भी जीवित हैं। मुंशी जी के इस नैतिक साहस पर लोग मुगध हो गए। 
मानवीय न्याय पर ईश्वरीय न्याय ने जो विलक्षण विजय पायी, उसकी चर्चा शहर भर में महीनों रही। भानुकुँवरि मुंशी जी के घर गयी, उन्हें मना कर लायीं। फिर अपना सारा कारोबार उन्हें सौंपा और कुछ दिनों उपरांत यह गॉँव उन्हीं के नाम हिब्बा कर दिया। मुंशी जी ने भी उसे अपने अधिकार में रखना उचित न समझा, कृष्णार्पण कर दिया। अब इसकी आमदनी दीन-दुखियों और विद्यार्थियों की सहायता में खर्च होती। 

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 11 May 2020 at 7:54 AM -

vitamin E के ये 10 फायदे

Skin Care : जानिए vitamin E के ये 10 फायदे

आपने विटामिन-ई के बारे में कई बार सुना होगा और पढ़ा भी होगा। कई फलों, तेलों और ड्राय फ्रूट्स में विटामिन-ई पाया जाता है, और यह सेहत के साथ-साथ सौंदर्य के लिए भी बेहद लाभदायक होता ... है।  खासतौर पर सोयाबीन, जैतून, तिल के तेल, सूरजमुखी, पालक, ऐलोवेरा, शतावरी, ऐवोकेडो के अलावा कई चीजों में वि‍टामिन-ई की मात्रा मौजूद होती है। जानिए विटामिन ई के  ऐसे ही 10 लाभ - 

 

1.बेहतरीन क्लिंजर -विटामिन-ई का उपयोग कई तरह के सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। इसका अहम कारण है, कि यह एक बेहतरीन क्लिंजर है, जो त्वचा की सभी परतों पर जमी गंदगी और मृत कोशिकाओं की सफाई करने में सहायक है।

 

2.आरबीसी निर्माण - शरीर में रेड ब्‍लड सेल्‍स यानि लाल रक्‍त कोशिकाओं का निर्माण करने में विटामिन-ई सहायक है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान विटामिन- ई का सेवन बच्‍चे को एनीमिया यानि खून की कमी से बचाता है।

 

3
.मानसिक रोग - एक शोध के अनुसार विटामिन-ई की कमी से मानसिक रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। शरीर में विटामिन-ई की पर्याप्‍त मात्रा मानसिक तनाव और अन्य समस्‍याओं को कम करने में मदद करती है।

 

4.एंटी एजिंग -  विटामिन-ई में भरपूर एंटी ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करते हैं। इसके अलावा यह झुर्रियों को भी कम करने और रोकने में बेहद प्रभावकारी है।

 

5.हृदय रोग - शोध के अनुसार जिन लोगों के शरीर में विटामिन ई की मात्रा अधिक होती है, उन्हें दिल की बीमारियों का खतरा कम होता है। यह मेनोपॉज के बाद महिलाओं में होन वाले हार्ट स्ट्रोक की संभावना को भी कम करता है।

 

6.प्राकृतिक नमी - त्वचा को प्राकृतिक नमी प्रदान करने के लिए विटामिन-ई बेहद फायदेमंद है। इसके अलावा यह त्वचा में कोशिकाओं के नवनिर्माण में भी सहायक है।

 

7.यूवी किरणों से बचाव -सूरज की हानिकारक अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाने में विटामिन-ई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सनबर्न की समस्या या फोटोसेंसेटिव होने जैसी समस्याओं से विटामिन-ई रक्षा करता है।

 

8.विटामिन-ई का प्रयोग करने पर अल्जाइमर जैसी समस्याओं का खतरा कम होता है, इसके अलावा यह कैंसर से लड़ने में भी आपकी मदद करता है। एक शोध के अनुसार जिन लोगों को कैंसर होता है, उनके शरीर में विटामिन-ई की मात्रा कम होती है।

 

9.विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा डायबिटीज के खतरे को कम करने में मदद करती है। यह ब्रेस्ट कैंसर की रोकथाम, इम्यून सिस्टम को मजबूती प्रदान करने के साथ-साथ एलर्जी से बचाव में भी उपयोगी होता है।

 

10.यह कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करता है और शरीर में वसीय अम्लों के संतुलन को बनाए रखने में सहायता करता है। इसके साथ ही यह थायराइड और पिट्यूटरी ग्रंथि‍ के कार्य में होने वाले अवरोध को रोकता है।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 11 May 2020 at 7:24 AM -

अकेले रहने वालों के गुण


जो लोग अकेले रहने का दम रखते हैं, ये 9 गुण केवल उन्हीं में हो सकते हैं

बदलते जमाने के साथ लोगों का रहन-सहन तो बदल ही रहा है, साथ ही जीने का तरीका भी बदल रहा है। आज कई लोग ऐसे हैं, जो या तो ... किसी मजबूरी में जैसे नौकरी इत्यादि के कारण अकेले रह रहे हैं, तो कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो बिना किसी मजबूरी के अपनी मर्जी से अकेले रहना पसंद कर रहे हैं। अकेले रहना वाकई आसान काम नहीं है। जो लोग अपनी मर्जी से अकेले रहते हैं, उनमें कुछ बुनियादी गुण होते हैं। आइए जानते हैं इनके गुणों के बारे में- 

1. अकेले रहने वाले लोग अपने आप में ही संपूर्ण महसूस करते हैं। ये लोग खुद को ही अपना सबसे अच्छा दोस्त मानते हैं।

2. ऐसे लोग आत्मविश्वास से भरपूर और सकारात्मक सोच वाले होते हैं।

3
. ये लोग इस बात की ज्यादा परवाह नहीं करते कि दूसरे क्या सोचेंगे? ये अपने मन का काम करते हैं और जिंदगी को भरपूर जीते हैं।

4. छोटी-बड़ी गलतियों से खुद ही सीखते हैं और भावनात्‍मक रूप से मजबूत होते हैं।

5. अपने लिए नियम ये खुद बनाते हैं और उसका कड़ाई से पालन करते हैं।

6. ये लोग खुले विचारों के तो होते हैं, लेकिन अपने नैतिक मूल्यों से समझौता नहीं करते। अनुशासित रहकर अपनी दिनचर्या व्यती‍त करते हैं।

7. इमोशंस से लेकर आर्थिक मामलों तक में ये आत्‍मनिर्भर होते हैं।

8. ये अपने जीवन में स्पष्ट और ईमानदार होते हैं। उतना ही काम हाथों में लेते हैं जितना कि वे कर पाएं। जितनी जिम्मेदारी लेते हैं फिर उसे बड़ी खूबी से निभाते भी हैं।

9. ये लोग मात्र दूसरों को खुश करने के लिए हर काम के लिए हामी नहीं भरते। अपनी क्षमता अनुसार काम करते हैं और खुश रहते हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 09 May 2020 at 7:51 PM -

माता का हृदय - मुंशी प्रेम चंद

 Hindi Kahani- हिंदी कहानी

Mata Ka Hriday
Munshi Premchand
माता का हृदय - मुंशी प्रेम चंद

1
माधवी की आँखों में सारा संसार अँधेरा हो रहा था। कोई अपना मददगार न दिखायी देता था। कहीं आशा की झलक न थी। उस निर्धन घर में वह अकेली पड़ी रोती थी और ... कोई आँसू पोंछनेवाला न था। उसके पति को मरे हुए 22 वर्ष हो गये थे। घर में कोई सम्पत्ति न थी। उसने न-जाने किन तकलीफों से अपने बच्चे को पाल-पोसकर बड़ा किया था। वही जवान बेटा आज उसकी गोद से छीन लिया गया था और छीननेवाले कौन थे ? अगर मृत्यु ने छीना होता तो वह सब्र कर लेती। मौत से किसी को द्वेष नहीं होता। मगर स्वार्थियों के हाथों यह अत्याचार असह्य हो रहा था। इस घोर संताप की दशा में उसका जी रह-रहकर इतना विकल हो जाता कि इसी समय चलूँ और उस अत्याचारी से इसका बदला लूँ जिसने उस पर यह निष्ठुर आघात किया है। मारूँ या मर जाऊँँ। दोनों ही में संतोष हो जायगा। कितना सुन्दर, कितना होनहार बालक था ! यही उसके पति की निशानी, उसके जीवन का आधार, उसकी उम्र-भर की कमाई थी। वही लड़का इस वक्त जेल में पड़ा न जाने क्या-क्या तकलीफें झेल रहा होगा ! और उसका अपराध क्या था ? कुछ नहीं। सारा मुहल्ला उस पर जान देता था। विद्यालय के अध्यापक उस पर जान देते थे। अपने-बेगाने सभी तो उसे प्यार करते थे। कभी उसकी कोई शिकायत सुनने ही में नहीं आयी। ऐसे बालक की माता होने पर अन्य माताएँ उसे बधाई देती थीं। कैसा सज्जन, कैसा उदार, कैसा परमार्थी ! खुद भूखों सो रहे मगर क्या मजाल कि द्वार पर आनेवाले अतिथि को रूखा जवाब दे। ऐसा बालक क्या इस योग्य था कि जेल में जाता ! उसका अपराध यही था, वह कभी-कभी सुनने वालों को अपने दुखी भाइयों का दुखड़ा सुनाया करता था, अत्याचार से पीड़ित प्राणियों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता था। क्या यही उसका अपराध था ? दूसरों की सेवा करना भी अपराध है ? किसी अतिथि को आश्रय देना भी अपराध है ? 
इस युवक का नाम आत्मानंद था। दुर्भाग्यवश उसमें वे सभी सद्गुण थे जो जेल का द्वार खोल देते हैं। वह निर्भीक था, स्पष्टवादी था, साहसी था, स्वदेशप्रेमी था, निःस्वार्थ था, कर्त्तव्यपरायण था। जेल जाने के लिए इन्हीं गुणों की जरूरत है। स्वाधीन प्राणियों के लिए वे गुण स्वर्ग का द्वार खोल देते हैं, पराधीनों के लिए नरक के ! आत्मानंद के सेवा-कार्य ने, उसकी वक्तृताओं ने और उसके राजनीतिक लेखों ने उसे सरकारी कर्मचारियों की नजरों में चढ़ा दिया था। सारा पुलिस-विभाग नीचे से ऊपर तक उससे सतर्क रहता था, सबकी निगाहें उस पर लगी रहती थीं। आखिर जिले में एक भयंकर डाके ने उन्हें इच्छित अवसर प्रदान कर दिया। आत्मानंद के घर की तलाशी हुई, कुछ पत्र और लेख मिले, जिन्हें पुलिस ने डाके का बीजक सिद्ध किया। लगभग 20 युवकों की एक टोली फाँस ली गयी। आत्मानंद इसका मुखिया ठहराया गया। शहादतें हुईं। इस बेकारी और गिरानी के जमाने में आत्मा से ज्यादा सस्ती और कौन वस्तु हो सकती है ! बेचने को और किसी के पास रह ही क्या गया है ! नाममात्र का प्रलोभन देकर अच्छी-से-अच्छी शहादतें मिल सकती हैं, और पुलिस के हाथ पड़कर तो निकृष्ट-से-निकृष्ट गवाहियाँ भी देववाणी का महत्त्व प्राप्त कर लेती हैं। शहादतें मिल गयीं, महीने-भर तक मुकदमा चला, मुकदमा क्या चला एक स्वाँग चलता रहा और सारे अभियुक्तों को सजाएँ दे दी गयीं। आत्मानंद को सबसे कठोर दंड मिला, 8 वर्ष का कठिन कारावास ! माधवी रोज कचहरी जाती; एक कोने में बैठी सारी कार्रवाई देखा करती। मानवीय चरित्र कितना दुर्बल, कितना निर्दय, कितना नीच है, इसका उसे तब तक अनुमान भी न हुआ था। जब आत्मानंद को सजा सुना दी गयी और वह माता को प्रणाम करके सिपाहियों के साथ चला तो माधवी मूर्छित होकर जमीन पर गिर पड़ी। दो-चार दयालु सज्जनों ने उसे एक ताँगे पर बैठाकर घर तक पहुँचाया। जब से वह होश में आयी है उसके हृदय में शूल-सा उठ रहा है। किसी तरह धैर्य नहीं होता। उस घोर आत्म-वेदना की दशा में अब अपने जीवन का केवल एक लक्ष्य दिखायी देता है और वह इस अत्याचार का बदला है। 
अब तक पुत्र उसके जीवन का आधार था। अब शत्रुओं से बदला लेना ही उसके जीवन का आधार होगा। जीवन में अब उसके लिए कोई आशा न थी। इस अत्याचार का बदला लेकर वह अपना जन्म सफल समझेगी। इस अभागे नर-पिशाच बागची ने जिस तरह उसे रक्त के आँसू रुलाये हैं उसी भाँति यह भी उसे रुलायेगी। नारी-हृदय कोमल है, लेकिन केवल अनुकूल दशा में; जिस दशा में पुरुष दूसरों को दबाता है, स्त्री शील और विनय की देवी हो जाती है। लेकिन जिसके हाथों अपना सर्वनाश हो गया हो उसके प्रति स्त्री को पुरुष से कम घृणा और क्रोध नहीं होता। अंतर इतना ही है कि पुरुष शस्त्रों से काम लेता है, स्त्री कौशल से। 
रात भीगती जाती थी और माधवी उठने का नाम न लेती थी। उसका दुःख प्रतिकार के आवेश में विलीन होता जाता था। यहाँ तक कि इसके सिवा उसे और किसी बात की याद ही न रही। उसने सोचा, कैसे यह काम होगा ? कभी घर से नहीं निकली। वैधव्य के 22 साल इसी घर में कट गये; लेकिन अब निकलूँगी। जबरदस्ती निकलूँगी, भिखारिन बनूँगी, टहलनी बनूँगी, झूठ बोलूँगी, सब कुकर्म करूँगी। सत्कर्म के लिए संसार में स्थान नहीं। ईश्वर ने निराश होकर कदाचित् इसकी ओर से मुँह फेर लिया है। जभी तो यहाँ ऐसे-ऐसे अत्याचार होते हैं और पापियों को दंड नहीं मिलता। अब इन्हीं हाथों से उसे दंड दूँगी। 


संध्या का समय था। लखनऊ के एक सजे हुए बँगले में मित्रों की महफिल जमी हुई थी। गाना-बजाना हो रहा था। एक तरफ आतशबाजियाँ रखी हुई थीं। दूसरे कमरे में मेजों पर खाना चुना जा रहा था। चारों तरफ पुलिस के कर्मचारी नजर आते थे। वह पुलिस के सुपरिंटेंडेंट मिस्टर बागची का बँगला है। कई दिन हुए उन्होंने एक मार्के का मुकदमा जीता था। अफसरों ने खुश होकर उनकी तरक्की कर दी थी। और उसी की खुशी में यह उत्सव मनाया जा रहा था। यहाँ आये दिन ऐसे उत्सव होते रहते थे। मुफ्त के गवैये मिल जाते थे, मुफ्त की आतशबाजी; फल और मेवे और मिठाइयाँ आधे दामों पर बाजार से आ जाती थीं और चट दावत हो जाती थी। दूसरों के जहाँ सौ लगते, वहाँ इनका दस से काम चल जाता था। दौड़-धूप करने को सिपाहियों की फौज थी ही। और यह मार्के का मुकदमा क्या था ? वह जिसमें निरपराध युवकों को बनावटी शहादत से जेल में ठूँस दिया गया था। 
गाना समाप्त होने पर लोग भोजन करने बैठे। बेगार के मजदूर और पल्लेदार जो बाजार से दावत और सजावट के सामान लाये थे, रोते या दिल में गालियाँ देते चले गये थे; पर एक बुढ़िया अभी तक द्वार पर बैठी हुई थी। अन्य मजदूरों की तरह वह भुनभुनाकर काम न करती थी। हुक्म पाते ही खुश-दिल मजदूर की तरह दौड़-दौड़कर हुक्म बजा लाती थी। यह माधवी थी, जो इस समय मज़ूरनी का वेष धारण करके अपना घातक संकल्प पूरा करने आयी थी। 
मेहमान चले गये। महफिल उठ गयी। दावत का सामान समेट दिया गया। चारों ओर सन्नाटा छा गया; लेकिन माधवी अभी तक यहीं बैठी थी। 
सहसा मिस्टर बागची ने पूछा- बुड्ढी, तू यहाँ क्यों बैठी है ? तुझे कुछ खाने को मिल गया ? 
माधवी- हाँ हुजूर, मिल गया। 
बागची- तो जाती क्यों नहीं ? 
माधवी- कहाँ जाऊँ सरकार, मेरा कोई घर-द्वार थोड़े ही है। हुकुम हो तो यहीं पड़ी रहूँ। पाव-भर आटे की परवस्ती हो जाय हुजूर। 
बागची- नौकरी करेगी ? 
माधवी- क्यों न करूँगी सरकार, यही तो चाहती हूँ। 
बागची- लड़का खेला सकती है ?
माधवी- हाँ हुजूर, वह मेरे मन का काम है। 
बागची- अच्छी बात है। तू आज ही से रह। जा, घर में देख, जो काम बतायें, वह कर। 

3
 
एक महीना गुजर गया। माधवी इतना तन-मन से काम करती है कि सारा घर उससे खुश है। बहूजी का मिजाज बहुत ही चिड़चिड़ा है। वह दिन-भर खाट पर पड़ी रहती हैं और बात-बात पर नौकरों पर झल्लाया करती हैं। लेकिन माधवी उनकी घुड़कियों को भी सहर्ष सह लेती है। अब तक मुश्किल से कोई दाई एक सप्ताह से अधिक ठहरी थी। माधवी ही का कलेजा है कि जली-कटी सुनकर भी मुख पर मैल नहीं आने देती। 
मिस्टर बागची के कई लड़के हो चुके थे, पर यही सबसे छोटा बच्चा बच रहा था। बच्चे पैदा तो हृष्ट-पुष्ट होते, किन्तु जन्म लेते ही उन्हें एक-न-एक रोग लग जाता था और कोई दो-चार महीने, कोई साल-भर जीकर चल देते थे। माँ-बाप दोनों इस शिशु पर प्राण देते थे। उसे जरा जुकाम भी हो तो दोनों विकल हो जाते। स्त्री-पुरुष दोनों शिक्षित थे, पर बच्चे की रक्षा के लिए टोना-टोटका, दुआ-ताबीज, जंतर-मंतर एक से भी उन्हें इनकार न था। 
माधवी से यह बालक इतना हिल गया कि एक क्षण के लिए भी उसकी गोद से न उतरता। वह कहीं एक क्षण के लिए चली जाती तो रो-रोकर दुनिया सिर पर उठा लेता। वह सुलाती तो सोता, वह दूध पिलाती तो पीता, वह खेलाती तो खेलता, उसी को वह अपनी माता समझता। माधवी के सिवा उसके लिए संसार में कोई अपना न था। बाप को तो वह दिन-भर में केवल दो-चार बार देखता और समझता यह कोई परदेशी आदमी है। माँ आलस्य और कमजोरी के मारे गोद में लेकर टहल न सकती थी। उसे वह अपनी रक्षा का भार सँभालने के योग्य न समझता था, और नौकर-चाकर उसे गोद में लेते तो इतनी बेदर्दी से कि उसके कोमल अंगों में पीड़ा होने लगती थी। कोई उसे ऊपर उछाल देता था, यहाँ तक कि अबोध शिशु का कलेजा मुँह को आ जाता था। उन सबों से वह डरता था। केवल माधवी थी जो उसके स्वभाव को समझती थी। वह जानती थी कि कब क्या करने से बालक प्रसन्न होगा। इसीलिए बालक को भी उससे प्रेम था। 
माधवी ने समझा था, यहाँ कंचन बरसता होगा; लेकिन उसे देखकर कितना विस्मय हुआ कि बड़ी मुश्किल से महीने का खर्च पूरा पड़ता है। नौकरों से एक-एक पैसे का हिसाब लिया जाता था और बहुधा आवश्यक वस्तुएँ भी टाल दी जाती थीं। एक दिन माधवी ने कहा- बच्चे के लिए कोई तेज गाड़ी क्यों नहीं मँगवा देतीं। गोद में उसकी बाढ़ मारी जाती है। 
मिसेज़ बागची ने कुंठित होकर कहा- कहाँ से मँगवा दूँ, कम-से-कम 50-60 रुपये में आयेगी। इतने रुपये कहाँ हैं ? 
माधवी- मालकिन, आप भी ऐसा कहती हैं ! 
मिसेज़ बागची- झूठ नहीं कहती। बाबूजी की पहली स्त्री से पाँच लड़कियाँ और हैं। सब इस समय इलाहाबाद के एक स्कूल में पढ़ रही हैं। बड़ी की उम्र 15-16 वर्ष से कम न होगी। आधा वेतन तो उधर ही चला जाता है। फिर उनकी शादी की भी तो फिक्र है। पाँचों के विवाह में कम-से-कम 25 हजार लगेंगे। इतने रुपये कहाँ से आयेंगे। मैं चिंता के मारे मरी जाती हूँ। मुझे कोई दूसरी बीमारी नहीं है, केवल यही चिंता का रोग है। 
माधवी- घूस भी तो मिलती है। 
मिसेज़ बागची- बुढ़िया, ऐसी कमाई में बरकत नहीं होती। यही क्यों, सच पूछो तो इसी घूस ने हमारी यह दुर्गति कर रखी है। क्या जानें औरों को कैसे हजम होती है। यहाँ तो जब ऐसे रुपये आते हैं तो कोई-न-कोई नुकसान भी अवश्य हो जाता है। एक आता है तो दो लेकर जाता है। बार-बार मना करती हूँ, हराम की कौड़ी घर में न लाया करो, लेकिन मेरी कौन सुनता ! 
बात यह थी कि माधवी को बालक से स्नेह होता जाता था। उसके अमंगल की कल्पना भी वह न कर सकती थी। वह अब उसी की नींद सोती और उसी की नींद जागती थी। अपने सर्वनाश की बात याद करके एक क्षण के लिए उसे बागची पर क्रोध तो हो आता था और घाव फिर हरा हो जाता था; पर मन पर कुत्सित भावों का आधिपत्य न था। घाव भर रहा था, केवल ठेस लगने से दर्द हो जाता था। उसमें स्वयं टीस या जलन न थी। इस परिवार पर अब उसे दया आती थी। सोचती, बेचारे यह छीन-झपट न करें तो कैसे गुजर हो। लड़कियों का विवाह कहाँ से करेंगे ! स्त्री को जब देखो बीमार ही रहती है। उन पर बाबूजी को एक बोतल शराब भी रोज चाहिए। यह लोग तो स्वयं अभागे हैं। जिसके घर में 5-5 क्वाँरी कन्याएँ हों, बालक हो-होकर मर जाते हों, घरनी सदा बीमार रहती हो, स्वामी शराब का लती हो, उस पर तो यों ही ईश्वर का कोप है। इनसे तो मैं अभागिनी ही अच्छी ! 


दुर्बल बालकों के लिए बरसात बुरी बला है। कभी खाँसी है, कभी ज्वर, कभी दस्त। जब हवा में ही शीत भरी हो तो कोई कहाँ तक बचाये। माधवी एक दिन अपने घर चली गयी थी। बच्चा रोने लगा तो माँ ने एक नौकर को दिया, इसे बाहर से बहला ला। नौकर ने बाहर ले जाकर हरी-हरी घास पर बैठा दिया। पानी बरस कर निकल गया था। भूमि गीली हो रही थी। कहीं-कहीं पानी भी जमा हो गया था। बालक को पानी में छपके लगाने से ज्यादा प्यारा और कौन खेल हो सकता है। खूब प्रेम से उमग-उमगकर पानी में लोटने लगा। नौकर बैठा और आदमियों के साथ गप-शप करता रहा। इस तरह घंटों गुजर गये। बच्चे ने खूब सर्दी खायी। घर आया तो उसकी नाक बह रही थी। रात को माधवी ने आकर देखा तो बच्चा खाँस रहा था। आधी रात के करीब उसके गले से खुरखुर की आवाज निकलने लगी। माधवी का कलेजा सन से हो गया। स्वामिनी को जगाकर बोली- देखो तो, बच्चे को क्या हो गया है। क्या सर्दी-वर्दी तो नहीं लग गयी। हाँ, सर्दी ही तो मालूम होती है। 
स्वामिनी हकबका कर उठ बैठी और बालक की खुरखुराहट सुनी तो पाँव तले से जमीन निकल गयी। यह भयंकर आवाज उसने कई बार सुनी थी और उसे खूब पहचानती थी। व्यग्र होकर बोली- जरा आग जलाओ। थोड़ा-सा चोकर लाकर एक पोटली बनाओ, सेंकने से लाभ होता है। इन नौकरों से तंग आ गयी। आज कहार जरा देर के लिए बाहर ले गया था, उसी ने सर्दी में छोड़ दिया होगा। 
सारी रात दोनों बालक को सेंकती रहीं। किसी तरह सबेरा हुआ। मिस्टर बागची को खबर मिली तो सीधे डाक्टर के यहाँ दौड़े। खैरियत इतनी थी कि जल्द एहतियात की गयी। तीन दिन में बच्चा अच्छा हो गया; लेकिन इतना दुर्बल हो गया था कि उसे देखकर डर लगता था। सच पूछो तो माधवी की तपस्या ने बालक को बचाया। माता सोती, पिता सो जाता, किंतु माधवी की आँखों में नींद न थी। खाना-पीना तक भूल गयी। देवताओं की मनौतियाँ करती थी, बच्चे की बलाएँ लेती थी, बिलकुल पागल हो गयी थी। यह वही माधवी है जो अपने सर्वनाश का बदला लेने आयी थी। अपकार की जगह उपकार कर रही थी। विष पिलाने आयी थी, सुधा पिला रही थी। मनुष्य में देवता कितना प्रबल है ! 
प्रातःकाल का समय था। मिस्टर बागची शिशु के झूले के पास बैठे हुए थे। स्त्री के सिर में पीड़ा हो रही थी। वहीं चारपाई पर लेटी हुई थी और माधवी समीप बैठी बच्चे के लिए दूध गरम कर रही थी। सहसा बागची ने कहा- बूढ़ा, हम जब तक जियेंगे तुम्हारा यश गायेंगे। तुमने बच्चे को जिला लिया। 
स्त्री- यह देवी बनकर हमारा कष्ट निवारण करने के लिए आ गयी। यह न होती तो न-जाने क्या होता। बूढ़ा, तुमसे मेरी एक विनती है। यों तो मरना-जीना प्रारब्ध के हाथ है, लेकिन अपना-अपना पौरा भी बड़ी चीज है। मैं अभागिनी हूँ। अबकी तुम्हारे ही पुण्य-प्रताप से बच्चा सँभल गया। मुझे डर लग रहा है कि ईश्वर इसे हमारे हाथ से छीन न लें। सच कहती हूँ बूढ़ा, मुझे इसको गोद में लेते डर लगता है। इसे तुम आज से अपना बच्चा समझो। तुम्हारा होकर शायद बच जाय, हम अभागे हैं, हमारा होकर इस पर कोई-न-कोई संकट आता रहेगा। आज से तुम इसकी माता हो जाओ। तुम इसे अपने घर ले जाओ, जहाँ चाहे ले जाओ, तुम्हारी गोद में देकर मुझे फिर कोई चिंता न रहेगी। वास्तव में तुम्हीं इसकी माता हो, मैं तो राक्षसी हूँ। 
माधवी- बहूजी, भगवान् सब कुशल करेंगे, क्यों जी इतना छोटा करती हो ? 
मिस्टर बागची- नहीं-नहीं बूढ़ी माता, इसमें कोई हरज नहीं है। मैं मस्तिष्क से तो इन बातों को ढकोसला ही समझता हूँ; लेकिन हृदय से इन्हें दूर नहीं कर सकता। मुझे स्वयं मेरी माताजी ने एक धोबिन के हाथ बेच दिया था। मेरे तीन भाई मर चुके थे। मैं जो बच गया तो माँ-बाप ने समझा बेचने से ही इसकी जान बच गयी। तुम इस शिशु को पालो-पोसो। इसे अपना पुत्र समझो। खर्च हम बराबर देते रहेंगे। इसकी कोई चिंता मत करना। कभी-कभी जब हमारा जी चाहेगा, आकर देख लिया करेंगे। हमें विश्वास है कि तुम इसकी रक्षा हम लोगों से कहीं अच्छी तरह कर सकती हो। मैं कुकर्मी हूँ। जिस पेशे में हूँ, उसमें कुकर्म किये बगैर काम नहीं चल सकता। झूठी शहादतें बनानी ही पड़ती हैं, निरपराधों को फँसाना ही पड़ता है। आत्मा इतनी दुर्बल हो गयी है कि प्रलोभन में पड़ ही जाता हूँ। जानता हूँ कि बुराई का फल बुरा ही होता है; पर परिस्थिति से मजबूर हूँ। अगर न करूँ तो आज नालायक बनाकर निकाल दिया जाऊँ। अँग्रेज हजारों भूलें करें, कोई नहीं पूछता। हिंदुस्तानी एक भूल भी कर बैठे तो सारे अफसर उसके सिर हो जाते हैं। हिंदुस्तानियों को तो कोई बड़ा पद न मिले, वही अच्छा। पद पाकर तो उनकी आत्मा का पतन हो जाता है। उनको हिन्दुस्तानियत का दोष मिटाने के लिए कितनी ही ऐसी बातें करनी पड़ती हैं जिनका अंग्रेज के दिल में कभी खयाल ही पैदा नहीं हो सकता। तो बोलो, स्वीकार करती हो ? 
माधवी गद्गद होकर बोली- बाबूजी, आपकी इच्छा है तो मुझसे भी जो कुछ बन पड़ेगा, आपकी सेवा कर दूँगी। भगवान् बालक को अमर करें, मेरी तो उनसे यही विनती है। 
माधवी को ऐसा मालूम हो रहा था कि स्वर्ग के द्वार सामने खुले हैं और स्वर्ग की देवियाँ अंचल फैला-फैलाकर आशीर्वाद दे रही हैं, मानो उसके अंतस्तल में प्रकाश की लहरें-सी उठ रही हैं। इस स्नेहमय सेवा में कितनी शांति थी। 
बालक अभी तक चादर ओढ़े सो रहा था। माधवी ने दूध गरम हो जाने पर उसे झूले पर से उठाया, तो चिल्ला पड़ी। बालक की देह ठंडी हो गयी थी और मुँह पर पीलापन आ गया था जिसे देखकर कलेजा हिल जाता है, कंठ से आह निकल जाती है और आँखों से आँसू बहने लगते हैं। जिसने उसे एक बार देखा है फिर कभी नहीं भूल सकता। माधवी ने शिशु को गोद से चिपटा लिया, हालाँकि नीचे उतार देना चाहिए था। 
कुहराम मच गया। माँ बच्चे को गले से लगाये रोती थी; पर उसे जमीन पर न सुलाती थी। क्या बातें हो रही थीं और क्या हो गया। मौत को धोखा देने में आनंद आता है। वह उस वक्त कभी नहीं आती जब लोग उसकी राह देखते हैं। रोगी जब सँभल जाता है, जब वह पथ्य लेने लगता है, उठने-बैठने लगता है, घर-भर खुशियाँ मनाने लगता है, सबको विश्वास हो जाता है कि संकट टल गया, उस वक्त घात में बैठी हुई मौत सिर पर आ जाती है। यही उसकी निठुर लीला है। 
आशाओं के बाग लगाने में हम कितने कुशल हैं। यहाँ हम रक्त के बीज बोकर सुधा के फल खाते हैं। अग्नि से पौधों को सींचकर शीतल छाँह में बैठते हैं। हा, मंदबुद्धि ! 
दिन-भर मातम होता रहा; बाप रोता था, माँ तड़पती थी और माधवी बारी-बारी से दोनों को समझाती थी। यदि अपने प्राण देकर वह बालक को जिला सकती तो इस समय अपना धन्य भाग समझती। वह अहित का संकल्प करके यहाँ आयी थी और आज जब उसकी मनोकामना पूरी हो गयी और उसे खुशी से फूला न समाना चाहिए था, उसे उससे कहीं घोर पीड़ा हो रही थी जो अपने पुत्र की जेल-यात्रा से हुई थी। रुलाने आयी थी और खुद रोती जा रही थी। माता का हृदय दया का आगार है। उसे जलाओ तो उसमें दया की ही सुगंध निकलती है, पीसो तो दया का ही रस निकलता है। वह देवी है। विपत्ति की क्रूर लीलाएँ भी उस स्वच्छ निर्मल स्रोत को मलिन नहीं कर सकतीं।