Home

Welcome!

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 30 Apr 2020 at 9:24 PM -

अधर्म

कल एक तमाशा देखने का मौका हमें इरफान ने दिया था, दूसरा मौका ऋषि कपूर ने आज दिया है.. एक ने मुसलमान हो कर कुर्बानी को पसंद करने से इनकार किया था और दूसरे ने हिंदू हो कर बीफ खाने की आजादी का समर्थन किया ... था..

हम कहते हैं, जानते हैं और समझते हैं कि वे कलाकार के तौर पर जाति धर्म के दायरे से परे होते हैं लेकिन कुछ धार्मिक लोग इन्हें हमेशा धर्म के नजरिये से ही देखते हैं और यही चीज ऐसे संवेदनशील मौके पर नफरती आचरण करने पर उकसाती है और फिर यह दावा भी यही लोग करते ज्यादा पाये जाते हैं कि धर्म हमें यह अच्छाई सिखाता है, धर्म हमें वह सदाचरण सिखाता है.. इन दो दिनों में जाने कितने ऐसे ही लोग सच्चे मुस्लिम और सच्चे हिंदू बन कर सामने आये।

धर्म आपको क्या सिखाता है, या यह कितना अच्छा है.. लोग इसे आपके आचरण से जज करते हैं न कि आपके दावों से। अगर किसी इंसान की मौत पर आप सिर्फ इसलिये खुश हैं कि आपको अतीत में उसकी कही कोई बात पसंद नहीं थी, धर्म के खिलाफ लगी थी.. तो यकीन कीजिये कि आपकी वह खुशी आपके धर्म के अच्छे पहलू को नहीं बल्कि उसके कुरूप चेहरे को उजागर कर रही है।

ऐसे लोग असल में नफरत से भरे होते हैं, इनका नजरिया हमेशा नकारात्मक होता है.. आप इनसे संवेदनशीलता की उम्मीद नहीं कर सकते, हो सकता है कि इनके सामने कोई मदद का ख्वाहा #इंसान मर रहा हो और यह उसमें #हिंदू या #मुसलमान ढूंढ कर आगे बढ़ जायें। ऐसा नहीं है कि इनमें इंसानियत नहीं होती, लेकिन बेहद सीमित और सिलेक्टिव होती है।

खैर.. इनसे हट कर देखें तो मुझे यह अहसास हो रहा है कि यह सबसे बुरा साल गुजरना है हमारी अब तक की जिंदगी का.. तकलीफ इस बात की है कि अभी इस मनहूस साल के बस चार महीने ही गुजरे हैं।

ऋषि कपूर उन दो अभिनेताओं में से थे, बचपन में जिनकी फिल्में मैं बड़े चाव से देखता था.. एक अमिताभ और दूसरे ऋषि। बाद में बड़े होने पर और भी लोग पसंद आये लेकिन यह दोनों लोग हमेशा मेरी पसंद बने रहे। मेरे लिये वे कलाकार रहे, कभी उनमें कोई हिंदू मुस्लिम दिखा ही नहीं। इंसान के तौर पर कमियां हो सकती हैं, वह हर किसी में होती हैं। कौन है जो कमियों से पाक है.. मुझे कल भी बहुत अफसोस था, मुझे आज भी बहुत अफसोस है। वह ऋषि कपूर चला गया, जिसे बचपन से देखते मैं बड़ा हुआ।

छोड़िये इन नफरत करने वालों को.. न इन्हें आज ठीक से कोई जानता है न कल याद रखेगा लेकिन इरफान हों या ऋषि वे हमेशा याद रहेंगे। हमेशा याद रखे जायेंगे। उस कला की बदौलत जो इंसानी इतिहास में अमर हो जाती है।

#RIP_RishiKapoor

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 27 Oct 2018 at 4:02 PM -

चाणक्य के 15 अमर वाक्य

1)दूसरों की गलतियों से सीखो अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने के लिये तुम्हारी आयु कम पड़ जायेगी।
2)किसी भी व्यक्ति को डेड ईमानदार नहीं होना चाहिए। सीधे वृक्ष और व्यक्ति पहले काटे जाते हैं।
3)अगर कोई सर्प जहरीला नहीं है तब भी उसे जहरीला दिखना चाहिए ... अर्थात दंश भले ही न दो पर दंश दे सकने की क्षमता का दूसरों को अहसास करवाते रहना चाहिए।
4)हर मित्रता के पीछे कोई स्वार्थ जरूर होता है, यह कड़वा सच है। स्वार्थ छोटा अथवा बड़ा कैसा भी हो सकता।
5)कोई भी काम शुरू करने के पहले तीन सवाल अपने आपसे पूछो...
मैं ऐसा क्यों करने जा रहा हूँ ?
इसका क्या परिणाम होगा ?
क्या मैं सफल रहूँगा?
6)भय को नजदीक न आने दो अगर यह नजदीक आये तो इस पर हमला कर दो यानी भय से भागो मत अपितु इसका सामना करो।
7)दुनिया की सबसे बड़ी ताकत मनुष्य का विवेक है।
8)काम का निष्पादन करो, परिणाम से मत डरो।
9)सुगंध का प्रसार हवा के रुख का मोहताज़ होता है पर अच्छाई सभी दिशाओं में फैलती है।"
10)ईश्वर चित्र में नहीं चरित्र में बसता है। अपनी आत्मा को मंदिर बनाओ।
11)व्यक्ति अपने आचरण से महान होता है, जन्म से नहीं।
12)ऐसे व्यक्ति जो आपके स्तर से अधिक ऊपर या अधिक नीचे के हैं उन्हें दोस्त न बनाओ,वह तुम्हारे कष्ट का कारण बन सकते हैं। समान स्तर के मित्र ही सुखदायक होते हैं।
13)अपने बच्चों को पहले पांच साल तक खूब प्यार करो। छः साल से पंद्रह साल तक कठोर अनुशासन और संस्कार दो। सोलह साल से उनके साथ मित्रवत व्यवहार करो।
आपकी संतति ही आपकी सबसे अच्छी मित्र है।"
14)अनपढ के लिए किताबें और अंधे के लिए दर्पण एक समान उपयोगी है।
15)शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है। शिक्षित व्यक्ति सदैव सम्मान पाता है। शिक्षा की शक्ति के आगे युवा शक्ति और सौंदर्य दोनों ही कमजोर हैं।