Home

Welcome!

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 23 Jun 2020 at 8:04 AM -

अष्टांग योग

यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि।।

ये 8 चरण योग के बताए गए हैं। ये काफी हद तक अनुमानित हैं। इन शब्दों का प्रयोग आज या तो नहीं हो रहा या फिर भिन्न अर्थों में ज्यादा हो रहा है।

यह वह शास्त्र है जिसके वास्तविक ... जानकार की पहचान होना आसान नहीं है।

सामान्य व्यक्ति के लिए योग का मतलब आसन, प्राणायाम तथा व्यायाम ही है।

जो इससे थोड़ा ऊपर हैं वो धारणा और ध्यान तक पहुंच जाते हैं।

समाधि तक पहुंचने वाले मुझ जैसे विरले ही हैं।

यह जिस प्रकार 8 चरणों मे बांटा गया है वैसा आवश्यक नहीं है।

इसको निम्नवत समझना चाहिए-
1- समाधि के लिए तन, इंद्रियों और मन पर पूर्ण नियंत्रण का अभ्यास होना चाहिए। शरीर मे हीमोग्लोबिन पर्याप्त होना चाहिए। हीमोग्लोबिन के साथ ऑक्सीजन की सर्वांग अबाध आपूर्ति के लिए नसों, धमनियों, हृदय और फेफड़ों का स्वस्थ तथा बाधामुक्त होना आवश्यक है। मनुष्य को साहसी और गुरु पर विश्वास करने वाला होना चाहिए क्योंकि समाधि में पहुंचते समय मृत्यु न हो जाये ऐसी आशंका जन्म लेने लगती है। समाधि के दौरान व्यक्ति सांस भी नहीं लेता किन्तु जिस प्रकार एक कमरे में एक खिड़की खुली हो तो अणुओं की स्वाभाविक गति के कारण कुछ न कुछ ताजी हवा अपने आप अंदर आती रहती है उसी प्रकार नासिकाओं से मंद गति से ऑक्सीजन फेफड़ों तक पहुंचती रहती है। पहले पहल समाधि में एक घंटे से अधिक देर रहना खतरनाक हो सकता है किंतु बार बार अभ्यास करने से यह अवधि 3 या 4 घंटे तक बढ़ सकती है।
2- ध्यान के लिए मस्तिष्क में अबाध रक्तसंचार और अन्य इंद्रियों पर नियंत्रण आवश्यक है।
3- धारणा का यौगिक तात्पर्य वायु अर्थात ऑक्सीजन धारण करने की क्षमता है। जब आप करीब आधा मिनट से पौने दो मिनट प्रति स्वास की अति मंद गति पर घंटे भर तक रह सकने की क्षमता हासिल कर लें तो यह मानना चाहिए कि आपमे धारणा शक्ति आ गयी है। ऊपरी सीमा आपके समाधि में रह सकने की शारीरिक क्षमता का द्योतक है।
4- आसन और प्राणायाम के बिना ध्यान और धारणा का विकास संभव नहीं है।
5- नियमित व्यायाम के बिना समाधि संभव नहीं है। ध्यान के विकास के लिए भी नियमित व्यायाम बहुत फायदेमंद है।
6- बाकी बातें गुरु जी की अपनी शर्तें हैं।

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 07 Nov 2018 at 5:31 PM -

अंडा खाने के फायदे

हर रोज अंडे का सेवन बना सकता है आपको तंदुरुस्त। प्रोटीन, विटामिन और अन्य पोषक तत्वों जैसे कॉपर, पोटेशिम और कैल्शियम आदि की प्रचुर मात्रा से भरपूर अंडा आपकी सेहत को तो सुधारने में मदद करता ही हैं साथ ही यह मानसिक स्वास्थ्य को भी ... बेहतर रखता है।
कुछ बेहतरीन सूपरफूड्स में से एक अंडा अनेक पोषक तत्वों से भरपूर आहार है।
अंडा खाने से आपका स्वास्थ्य बेहतर, मस्तिष्क तेज तथा शरीर फिट और मजबूत बनता है। हर रोज नाश्ते में अंडा खाने से वजन घटाने में भी मदद मिलती है क्योंकि इसमें उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। अंडे को एक संतुलित आहार के रूप में जाना जाता है। आइए आपको बताते हैं कि इसे सूपरफूड क्यों माना जाता है और इसके स्वास्थ्य लाभ क्या हैं।
अंडे में पाएं जाने वाले पोषक तत्व-
अंडे को बेहतरीन सूपरफूड्स में से एक इसलिए जाना जाता है क्योंकि इसमें अत्यधिक पोषक तत्व जैसे विटामिन, मिनरल्स और प्रोटीन पाएं जाते हैं।

अंडे में निम्न तत्वों की प्रचुर मात्रा होती है-

प्रोटीन
कैल्शियम
फास्फोरस
आयरन
मैग्नीशियम
जिंक
सोडियम
विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी और विटामिन ई
कॉपर
पोटेशियम 

अंडे से होने वाले स्वास्थ्य लाभ: अंडे का हर रोज उचित मात्रा में सेवन करके आप निम्न स्वास्थ्य लाभ पा सकते हैं।
आयरन की कमी के कारण कई लोग थकान, सिरदर्द और चिड़चिड़ापन आदि लक्षणों का अनुभव करते हैं। इसकी कमी से एनीमिया बीमारी भी हो सकती है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर तरीके से कार्य करने के लिए आयरन बेहद जरुरी है। अंडे के पीले भाग में आयरन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। इसके सेवन से आयरन की कमी की समस्या को कम किया जा सकता है।
अंडा बैड कोलेस्ट्रोल को नहीं बढ़ाता है: अधिकतर लोगों को ये गलत धारणा है कि अंडे के सेवन से आपके शरीर में बैड कोलेस्ट्रोल बढ़ जाता है क्योंकि इसमें 210 मिग्रा कोलेस्ट्रोल कन्टेंट पाया जाता है। हालांकि ये धारणा गलत है। अंडे का सेवन करने से आपके शरीर में कोलेस्ट्रोल का स्तर नहीं बढ़ता है बल्कि यह गुड कोलेस्ट्रोल को बढ़ाता है।
अंडे के सेवन से वजन कम होता है:
अध्ययनों में यह पता लगाया गया है कि अगर आप दिन की शुरुआत अंडे के साथ करते हैं तो आप दिनभर उर्जावान रहते हैं। नाश्ते में अंडे का सेवन करने से वजन कम करने में मदद मिलती हैं। अंडे में प्रोटीन की उच्च मात्रा होती है जिससे यह आपको भूख कम लगने देता है और आप कम खाते हैं और आपका वजन नियंत्रित रहता है।
अंडा हड्डियों को मजबूत बनाता है:
अंडे में विटामिन डी की अच्छी मात्रा होती है। विटामिन डी का प्रचुर मात्रा में सेवन करने से आपका शरीर कैल्शियम का अवशोषण अच्छे से कर पाता है। जिसके चलते आपकी हड्डियां स्वस्थ रहती हैं और मजबूत होती हैं। साथ ही नई बोन सेल्स के निर्माण में मदद मिलती है।
अंडा और दिमागी विकास: 
अंडे में कोलिन मौजूद होता है। कोलिन एक पोषक तत्व है जो ब्रेन सेल्स के निर्माण में मदद करता है। इसके सेवन से आपका मानसिक स्वास्थ्य बेहतर होता है। गर्भवती महिला अगर अंडे का सेवन करती हैं तो बच्चे का दिमागी विकास अच्छे से हो पाता है।

user image Jigyasa Editor

उपयोगी जानकारी

Wednesday, November 7, 2018
user image Arvind Swaroop Kushwaha - 27 Oct 2018 at 3:48 PM -

रस्सी कूद के स्वास्थ्य लाभ

कूदना एक ऐसी एक्सरसाइज है जो खेल-खेल में आपको स्वस्थ बना सकती है। इस कारण रस्सी कूदना आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है और साथ ही यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है।

बचपन के दिनों मे रस्सी कूदना आपके खेल का ... हिस्सा जरुर रहा होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि फिट रहने के लिए रस्सी कूदना एक बेहद फायदेमंद एक्सरसाइज होती है। रस्सी कूदना फैट बर्न करने का एक मजेदार तरीका है जिससे आप 10 मिनट में भी अच्छी खासी कैलोरी बर्न कर सकते हैं। रस्सी कूदने से फैट कम होना, स्ट्रैंथ बढ़ना, संपूर्ण शरीर की एक्सरसाइज और तनाव कम होने के साथ मनोरंजन होने जैसे अनेक लाभ होते हैं। आइए जानते हैं कि रस्से कूदने से आपको और क्या-क्या स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं। [ये भी पढ़ें: जांघों को मजबूत बनाने और सही शेप देने के लिए करें ये एक्सरसाइज]

1.मसल्स टोन होती है: टोन्ड मसल्स प्राप्त करने का यह सबसे बेहतर उपाय है। इससे शरीर के नीचे के हिस्से और पैरों की मसल्स टोन होती हैं। हालांकि रस्सी कूदने की शुरुआत में आपको दर्द हो सकता है क्योंकि ऐसा करने से आपकी मसल्स जो काफी दिनों से निष्क्रिय होती हैं, वह सक्रिय हो जाती हैं। हालांकि कुछ दिनों में यह दर्द ठीक हो जाता है।

2.कैलोरी बर्न होती है: रस्सी कूदने से 30 मिनट जॉगिंग करने के मुकाबले ज्यादा कैलोरी बर्न होती हैं। रस्सी के एक जंप से 0.1 कैलोरी बर्न होती है इसलिए 10 मिनट रस्सी कूदने से भी काफी मात्रा में कैलोरी बर्न हो जाती है जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। यहीं कारण होता है रस्सी कूदना वजन कम करने में सहायक होता है। [ये भी पढ़ें: रात को सोने से पहले करें ये स्ट्रेच एक्सरसाइज]

3.त्वचा को खूबसूरत बनाता है: आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए रस्सी कूदना लाभकारी होता है। रोजाना 15 मिनट रस्सी कूदने से भरपूर मात्रा में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है और साथ ही पसीने के माध्यम से टॉक्सिन्स शरीर से बाहर निकल जाते हैं जिससे आपकी त्वचा भी खूबसूरत बनी रहती है।

5.मानसिक रुप से तेज बनाता है: रस्सी कूदने से दिमाग भी विकसित होता है। इससे दिमाग के दाएं और बाएं हिस्से का कॉर्डिनेशन बनता है जिससे जागरुकता बढ़ती है और दिमाग की याद्दाश्त क्षमता भी बढ़ती है। इसलिए सिर्फ शारीरिक ही नहीं अपितु मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी रस्सी कूदना फायदेमंद होता है। [ये भी पढ़ें: कंधों को सही शेप में लाने और मजबूत बनाने के लिए करें ये खास एक्सरसाइज