Home

Welcome!

user image Arvind Swaroop Kushwaha - 10 Dec 2018 at 5:10 AM -

विटामिन ई

विटामिन ई यौगिकों के एक समूह का द्योतक है जिसमें टोकोफेरॉल और टोकोट्रॉयनॉल दोनों निहित हैं। यह खून में रेड ब्लड सेल या लाल रक्त कोशिका (Red Blood Cell) को बनाने के काम आता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों (जैसे कि मांस-पेशियां व ... अन्य कोशिकाएँ) को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है। यह शरीर को ऑक्सीजन के एक नुकसानदायक रूप से बचाता है, जिसे ऑक्सीजन रेडिकल्स (oxygen radicals) कहते हैं। इस गुण के कारण विटामिन ई को एंटीओक्सिडेंट (anti-oxidants) कहा जाता है। विटामिन ई, सेल के अस्तित्व बनाये रखने के लिये आवश्यक उसके बाहरी कवच या सेल मेमब्रेन को बनाए रखता है। विटामिन ई, शरीर के फैटी एसिड को भी संतुलन में रखता है।

समय से पहले पैदा हुए या प्रीमेच्योर नवजात शिशु (Premature infants) में, विटामिन ई की कमी से खून की कमी हो जाती है। इससे उनमें रक्ताल्पता या एनेमिया (anemia) हो सकता है। बच्चों और व्यस्क लोगों में, विटामिन ई के अभाव से, दिमाग की नसों की न्युरोलोजीकल (neurological) समस्या हो सकती है। अत्यधिक विटामिन ई लेने से खून की सेलों पर बुरा असर पड़ सकता है, जिससे कि खून बहना या कोई अन्य बीमारी होना मुमकिन है।

विटामिन ई की कमी से मांशपेशियों की शक्ति क्षीण हो जाती है।

यह ताजे फलों, सब्जियों और अंकुरित बीजों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

शारीरिक कमजोरी महसूर होने, थकान होने या शरीर मुरझाया सा होने की दशा में भोजन के रूप में विटामिन ई की पर्याप्त मात्रा ली जानी चाहिए।

user image Aneeeh Swaroop

Nice

Thursday, December 13, 2018